Monday, November 11, 2019

नैनो तकनीक क्या है और इससे किसानों को क्या फायदा होगा - What is nanotechnology and how will farmers benefit from it

नैनो टेक्नोलॉजी क्या है और इससे किसानों को क्या फायदा होगा? what is nanotechnology and what will it benefit the farmers in Hindi,  नैनो टेक्नोलॉजी से किसानों को कैसे फायदा होगा? (Naino technology kya hai Aur isis Kisano ko kya Fayda Hoga in Hindi) नैनो टेक्नोलॉजी का क्या परिणाम होगा और नैनो टेक्नोलॉजी से संबंधित सभी आवश्यक जानकारी इस लेख के माध्यम से  हिंदी में प्रस्तुत की जा रही है।



नैनो तकनीक क्या है और इससे किसानों को क्या फायदा होगा

कुछ दिनों पहले, किसानों की खेती को बढ़ाने के लिए इंटरनेट पर समाचार प्रसारित किया गया था, जिसमें कहा गया था कि किसान अपनी खेती में नैनो तकनीक का उपयोग करके अपने खेत की फसलों को 30% तक बढ़ा सकते हैं और यह किसानों के लिए बहुत खुशी की बात है। लेकिन यह जानना भी जरूरी है कि नैनो टेक्नोलॉजी क्या है और इससे किसानों को क्या फायदा है? तो चलिए जानते है नैनो टेक्नोलोजी क्या है? इसके बारे में। यदि आप नैनो टेक्नोलॉजी से संबंधित जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो इस लेख को अंत तक पढ़ें।

नैनो तकनीक क्या है? (What is nanotechnology)

नैनो टेक्नोलॉजी एक ऐसी तकनीक है जो किसी भी वस्तु को छोटा, मजबूत और टिकाऊ बनाकर उसे हल्का बना सकती है। इस तकनीक का उपयोग ज्यादातर जैव विज्ञान, चिकित्सा विज्ञान और इलेक्ट्रॉनिक विज्ञान में किया जाता है। यह पदार्थ सबसे सूक्ष्म कनों से बनाया जाता है, जो किसी भी वस्तु में जाकर उसे हजार गुना तक मजबूत, विश्वसनीय और टिकाऊ बना सकता हैं।

यह तकनीक पहले केवल मशीनों के लिए उपयोग की जाती थी। लेकिन बदलते समय के अनुसार इस तकनीक को कई वस्तुओं में विकसित किया गया है और आज यह तकनीक पूरे एशिया में खेती के लिए भी लागू की गई है। क्योंकि अब यह तकनीक किसानों की फसलों को बढ़ाने का काम भी करेगी। इस तकनीक का परीक्षण करने के लिए, 3 नवंबर को इसका परीक्षण किया गया था, जिसमें इसे रबी फसलों पर इस्तेमाल किया गया था।
 
नैनो टेक्नोलॉजी से किसानों को होगा फायदा (Nanotechnology will benefit farmers)

कुछ दिन पहले, प्रौद्योगिकी कंपनी नैनो ने दावा किया था कि नैनो तकनीक के कारण किसानों की फसल में 30% की वृद्धि होगी। इसलिए इस तकनीक को नैनो-नाइट्रोजन, नैनो-जिंक और नैनो-कॉपर निर्माण के परीक्षण के लिए भारतीय उर्वरक इफको (IFFCO) द्वारा जारी किया गया है और केंद्र सरकार ने भी इस तकनीक की मदद से 2022 तक भारत में किसानों की आय को दोगुना करने का लक्ष्य रखा है।


नैनो तकनीक का उपयोग (Use of nanotechnology)

किसानों की फसल की पैदावार बढ़ाने के लिए भारतीय उर्वरक द्वारा नैनो तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा ताकि दो साल के भीतर किसानों को उनकी फसल का दोहरा लाभ मिल सके। इसलिए इस तकनीक का उपयोग किसानों की फसली भूमि पर किया जाएगा। ताकि मिट्टी की गुणवत्ता बढ़ाई जा सके। जैसे-जैसे मिट्टी की गुणवत्ता बढ़ती है, वैसे-वैसे इसका फसल पर अच्छा बहुत प्रभाव पड़ेगा, इसलिए इस तकनीक का उपयोग पूरे भारत में किया जाएगा।

नैनो तकनीक के कारण फसल में सुधार (Improvement in crop due to nanotechnology)

भारतीय उर्वरक इफको ने इस तकनीक की प्रशंसा करते हुए कहा है कि यह तकनीक भारत के कृषि विकास में एक नई क्रांति लाएगी। भारतीय रसायन मंत्री श्री सदानंदजी गौड़ा ने कहा कि नैनो टेक्नोलॉजी प्रधानमंत्री ग्रीन इंडिया का एक हिस्सा है। इस तकनीक के आने के बाद, जब इस तकनीक का उपयोग खेती में किया जाएगा, तो खेती की जमीन पर इसका बहुत प्रभाव पड़ेगा और इससे फसली भूमि की मिट्टी में भी सुधार होगा। साथ ही, किसानों की आय भी दोगुनी होगी।


यह लेख भी जरुर पढ़े:-

👉 महारष्ट्र विधवा पेंशन योजना इस लेख की जानकारी के लिए - यहाँ क्लिक करे। 

👉 शरीर को फिट कैसे रखे? इस लेख की जानकारी के लिए - यहाँ क्लिक करे। 

👉 जीवन में सफल होने के लिए क्या करे? इस लेख की जानकारी के लिए - यहाँ क्लिक करे। 

👉 1 स्मार्टफोन में 2 से अधिक व्हाट्सएप कैसे चलाएं इस लेख की जानकारी के लिए - यहाँ क्लिक करे।

नैनो रसायन क्या है (What is nanochemistry)

नैनो, जिसे आमतौर पर माइक्रो कहा जाता है, यह बारीक़ कानो से बनाया हुआ रसायन है जो किसी भी बारीक जगह में पहुंच सकता है। यह एक रासायनिक जीवाश्म है जिसका उपयोग फसल के खेतों में किया जाता है। यह रसायन पारंपरिक उर्वरक से बेहतर है और इसकी लागत लगभग 50% कम है, नैनो-रसायन फसल की भूमि की मिट्टी में एक नया जीवन ला सकता है और इसकी फसल को 15 से 30 प्रतिशत तक बढ़ा सकता है।

नैनो तकनीक का देश के सभी राज्यों में परीक्षण किया जाएगा (Nanotechnology will be tested in all states of the country)

भारत के रसायन मंत्री श्री सदानंदजी गौड़ा ने कहा है कि इस तकनीक का परीक्षण भारत के सभी राज्य और जिलों में केंद्र सरकार द्वारा किया जाएगा, जहाँ वे लगभग 11 हजार किसानों की फसलों का चयन करेंगे और इसमें देश के सभी जिले के कृषि विज्ञान केंद्र की महत्वपूर्ण भूमिका होगी। इस परीक्षण के पूरा होने के बाद, इस तकनीक का उपयोग सभी क्षेत्रों में किया जाएगा।

नैनो तकनीक से किसानों की आय 2022 तक होगी दोगुनी (Farmers' income from nanotechnology will double by 2022)

भारत में, यह खबर बहुत तेजी से फैल रही है कि किसानों की फसलों की आय वर्ष 2022 तक दोगुनी हो जाएगी। क्योंकि नैनो तकनीक के कारण पारंपरिक उर्वरक की तुलना में फसल की वृद्धि 30% तक बढ़ जाएगी। क्योंकि यह एक रसायन है जो फसल की भूमि में प्रवेश करने के बाद मिट्टी की गुणवत्ता को बढ़ाता है और इससे फसल में वृद्धि हो सकती है। इसलिए, भारत सरकार ने इस तकनीक के कारण 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने का लक्ष्य रखा है।


अनमोल शब्द

प्रिय पाठकों, हमें खुशी है कि यह लेख "नैनो टेक्नोलॉजी क्या है और किसानों को इससे क्या लाभ होगा" (What is nanotechnology and how will farmers benefit from it in Hindi) कई लोगों के लिए उपयोगी साबित हुआ है। अगर आपको यह लेख पसंद आया है, तो इसे अपने परिचितों और सहपाठियों के साथ साझा करें। इसके अलावा, यदि आप Motivational Articles, Sports Articles, Scheme Articles से संबंधित जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो आप इसे हमारी वेबसाइट www.indiandewa.com पर जाकर प्राप्त कर सकते हैं।

धन्यवाद

No comments: