Monday, October 21, 2019

कुश्ती कैसे सीखें? - how to learn wrestling

इस लेख में, कुश्ती क्या है? और इसे कैसे सीखें? (how to learn wrestling? In Hindi) कुश्ती के प्रकार, कुश्ती सीखने के लिए क्या करें? सही अखाड़े का चयन कैसे करें और कुश्ती से संबंधित सभी आवश्यक जानकारी इस लेख के माध्यम से हिंदी में प्रस्तुत की जा रही है।




कुश्ती क्या है? और इसे कैसे सीखें?


कुश्ती एक प्राचीन खेल है जो सदियों से लोकप्रिय है। इस खेल को खेलने के लिए शारीरिक बल की आवश्यकता होती है। हालांकि यह एक फ्रीस्टाइल गेम है, इसे खेलने के लिए शारीरिक बल के साथ तकनीक की भी आवश्यकता होती है। क्योंकि खेल देखना आसान है, लेकिन यह खेल खेलना उतना ही कठिन है। अगर कोई भी खिलाड़ी इस खेल को सीखना चाहता है तो वे किसी भी कुश्ती प्रशिक्षण केंद्र से सीख सकते हैं। यदि आप कुश्ती से संबंधित अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो इस लेख को अंत तक पढ़ें। (how to learn wrestling? In Hindi)

कुश्ती क्या है? और इसे कैसे सीखें? - What is wrestling? And how to learn it?


कुश्ती यह एक शारीरिक गतिविधि है जिसमें आपको अपनी शारीरिक गतिविधि के के अनुसार इस खेल को खेलना होता है। हालाँकि, हर खेल में शारीरिक गतिविधि की आवश्यकता होती है क्योंकि कोई भी खेल हम शारीरिक गतिविधि के बिना नहीं सिख सकते है। इस गेम को खेलने से आप अधिक फुर्तीले हो जाते हैं क्योंकि इस गेम में आपको कई तरह की प्रैक्टिस करनी पड़ती हैं। जिससे आपके शरीर में लचीलापन आता है।

लेकिन कुश्ती एक ऐसा खेल है जिसे हर कोई नहीं सीख सकता है क्योंकि इसके लिए बहुत सहनशक्ति और स्टैमिना की आवश्यकता होती है। लेकिन इस गेम को खेलने वाला व्यक्ति बहुत कम समय में अधिक कैलोरी बर्न करता है, जिसके कारण वह जल्दी थक नहीं पाता है और उसके शरीर की ताकत कई गुना बढ़ जाती है। इसलिए, जो लोग इसे सीखना चाहते हैं, उन्हें पहले इस खेल के लिए प्रशिक्षित होना चाहिए।

इस खेल को सीखने के लिए अच्छे प्रशिक्षण केंद्र की जाँच करनी होती है ताकि जब आप इस खेल को सीखने के लिए किसी प्रशिक्षण केंद्र में जाएँ, तो आपको सही प्रशिक्षण मिले। वहां के कोचों की भी जांच करे। उसके लिए आप पहले मुख्य प्रशिक्षक से मिलें ताकि आप उनसे सही जानकारी प्राप्त कर सकें।



कुश्ती की जानकारी (Wrestling information)


कुश्ती को भारतीय खेलों और विश्व के प्रमुख खेलों में से एक माना जाता है। प्राचीन समय में यह खेल केवल मिट्टी में खेला जाता था। रामायण और महाभारत के दौरान लगभग 3000 साल पहले कुश्ती का आविष्कार किया गया था। लेकिन उस समय इसका उपयोग राजाओं द्वारा अपने राज्य की रक्षा के लिए किया जाता था। लेकिन समय के साथ, खेल ने एक नया रूप ले लिया है। जिसने आज भारतीय कॉमन वेल्थ गेम्स में अपनी जगह बना ली है।

रियो ओलंपिक के कुश्ती में समाप्त होने के बाद से खेल को लोकप्रियता मिली है। इसलिए, आज कुश्ती सीखने की उत्सुकता युवाओं में और भी बढ़ गई है। लेकिन कई लोग इसे सीखने के लिए सही प्रशिक्षण केंद्र का चयन करने में असमर्थ हैं। क्योंकि कोई भी बिना जाने किसी भी प्रशिक्षण केंद्र में प्रवेश नहीं ले सकता है। इसलिए, जो लोग कुश्ती सीखने के लिए प्रशिक्षण केंद्रों की तलाश कर रहे हैं, उन्हें प्रशिक्षण केंद्रों के बारे में सभी जानकारी पता होनी चाहिए। तो चलिए जानते हैं कि सही ट्रेनिंग सेंटर का चयन कैसे करें। इसके बारे में। (how to learn wrestling? In Hindi)

सही प्रशिक्षण केंद्र चुनें -  how to learn  wrestling?

कुश्ती सीखने के लिए पहले सही प्रशिक्षण केंद्र का चयन करना आवश्यक है। क्योंकि उचित प्रशिक्षण के बिना आप एक अच्छे पहलवान नहीं बन सकते। इसके अलावा, एक प्रशिक्षण केंद्र चुनने के लिए, उस प्रशिक्षण केंद्र की सभी आवश्यक जानकारी लें। सही प्रशिक्षण केंद्र का चयन निम्नलिखित चीजों से किया जा सकता है।
  • अच्छे प्रशिक्षण केंद्र की पहली पहचान उसकी दीवारों से की जा सकती है। 
  • क्योकि अच्छे अच्छे प्रशिक्षण केंद्र के दीवारों पर उनके द्वारा प्रशिक्षित खिलाडीयो के मैचेस और आने वाले टूर्नामेंट्स के बोर्ड लगाये जाते है। 
  • प्रशिक्षण केंद्र के मैनेजर से मिलने की कोशिश करे क्योकि अच्छे प्रशिक्षण केंद्र में ओर्गोनायजर से मिलने दिया जाता है।
  • वहा के कोच से मिले और अपने प्रशिक्षण की जानकारी ले। 
  • वहा पर सविधा और एकुप्मेंट्स की जांच करे। 
  • वहां के प्रशिक्षण गृह की जानकारी ले। 
  • बच्चो को सही तरह से प्रशिक्षित किया जाता है या नही इसकी जांच करे। 

कुश्ती के प्रकार (Types of wrestling)


कुश्ती में दो प्रकार होते है जो दुनिया में अपने नाम से प्रचलित है यह दोनों ही प्रकार एशिया गेम्स में खेले जाते है। कुश्ती के वह दोनों ही प्रकार निम्नलिखित है। 
  • फ्रीस्टाइल 
  • ग्रीको, रोमन 

कुश्ती कैसे सीखे? (How to learn wrestling)


कुश्ती सीखने के लिए, पहले आपको दाव सीखना होगा क्योंकि कुश्ती केवल दाओ और तकनीक के बल पर खेली जाती है। जब आप दाव सीखते हैं, तभी आप पहलवान कहलाते हैं। कुश्ती में कई तरह के दाव होते हैं और प्रत्येक दाओ के लिए अलग-अलग तकनीकें होती हैं। इसलिए, प्रत्येक डाओ की तकनीकों को अच्छी तरह से सीखें। आप निम्न तरीकों से कुश्ती और कुश्ती के दावों को सीख सकते हैं। (how to learn wrestling? In Hindi)
  •  कुश्ती सिखने के लिए पहले आपको अच्छे प्रशिक्षण केंद्र में दाखिला लेना चाहिए। 
  • अपने प्रशिक्षक से कुश्ती के बारे में सभी आवश्यक जानकारी ले। 
  • प्रशिक्षण केंद्र में फ्रीस्टाइल या ग्रीको, रोमन इनमे से कोई भी प्रकार चुने। 
  • अपने चुने गए प्रकार के अनुसार अभ्यास करे। 
  • प्रशिक्षण केंद्र में अपना एक साथी बनाये ताकि आप उसके साथ अपनी तयारी कर सके। 
  • हर दिन शारीरिक व्यायाम करे। ताकि आपकी शारीर की नसे फ्री हो जाये।
  • अपने कोच से कुश्ती के दाव लगना सीखे। 
  • जो भी प्रशिक्षण आपके प्रशिक्षक दे रहे है उसे सही तरह से और ध्यान से देखे और उसे करने की कोशिश करे। 
  • प्रशिक्षक द्वारा बताये गए दाव की अपने साथी के साथ अभ्यास करे। 
  • एक दाव को कम से कम 7 से 8 बार अभ्यास करे यदि एक ही दाव को बार बार करने से आप बोर हो सकते है या आपको दाव लगाने का मन नहीं होगा। 
  • हमेशां 3 से 4 दाव का अभ्यास करे। इससे आपके अभ्यास में अधिक रूचि बढ़ेगी। 
  • दाव लगते समय उसे अलग अलग भागो में डिवाइड कर दे ताकि दाव का हर भाग आपको अच्छी तरह से समझ आ जाये। 

इन बातो का ध्यान रखे - What is wrestling? And how to learn it?

  • प्रशिक्षण के समय अधिक थक जाने पर रुके नही। 
  • प्रशिक्षण के समय किसी को भी इंजुरी ना हो इसका ध्यान रखे। 
  • दाव लगाते समय दाव को परफेक्ट लगाये अन्यथा आपको पॉइंट नही दिए जायेंगे। 
  • दाव लगते वक्त गला, कोहनी, या मुट्ठी ना बांधे इससे आपके पॉइंट्स कम हो सकते है या फ़ाउल दिया जा सकता है। 
  • प्रशिक्षण द्वारा दिए गए नियमो का हमेशा पालन करे। 

अनमोल शब्द

प्रिय पाठकों, हमें खुशी है कि यह लेख "कुश्ती क्या है? और इसे कैसे सीखे" (how to learn wrestling? In Hindi) कई लोगों के लिए उपयोगी साबित हुआ है। इसके अलावा, यदि किसी के पास इस लेख से संबंधित कोई प्रश्न है, तो वे हमें टिप्पणी कर सकते हैं। अगर आपको यह लेख पसंद आया है, तो इसे अपने परिचितों और सहपाठियों के साथ साझा करें।

धन्यवाद

No comments: