Tuesday, October 15, 2019

मक्का की खेती कैसे करें? - How to cultivate maize?

अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए शरीर को एक पौष्टिक आहार की आवश्यकता होती है। और यह पौष्टिक आहार मक्का से बड़ी मात्रा में प्राप्त किया जाता है। सभी वर्गों के पुरुषों और महिलाओं द्वारा मक्का का सेवन किया जा सकता है। यह उन सभी के लिए फायदेमंद है। बढ़ती मांग के मद्देनजर, मक्का की मांग प्रतिदिन बढ़ रही है। मक्का की खेती कैसे करें? इसके बारे में जानकारी देने जा रहे हैं तो चलिए इस लेख से संबंधित अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए इस लेख को अंत तक पढ़ें। (How to cultivate maize? in Hindi)

मक्का की खेती कैसे करें?

इस लेख में आप जानेंगे कि मक्का की खेती कैसे करें? और किस मौसम में मक्का बोया जाता है। साथ ही मक्का की खेती के लिए जमीन और बीज कैसे बोएं। इसके अलावा, बीज कैसे होना चाहिए और जल प्रबंधन कैसे करना चाहिए। इस लेख में यह सारी जानकारी हिंदी में प्रस्तुत की गई है।

प्रिय पाठको आज आपको मक्का की खेती कैसे करें? इसके बारे में जानकारी देने जा रहे है। ताकि वह खेती करके अच्छा पैसा कमा सके क्योंकि मक्का की मांग रोज बढ़ रही है। इस बढ़ती हुई फसल की खेती से आपकी आय बढ़ेगी और आप एक सफल किसान बनेंगे। तो आइये जानते हैं कि मक्का की खेती कैसे करें? इसके बारे में।

मक्का की खेती कैसे करें? - How to cultivate maize?


मक्का पौष्टिक खाद्य पदार्थों में से एक है। सभी इसे बहुत पसंद करते हैं। मक्का को कई तरह से खाया जाता है, जैसे कि भुट्टे के रूप में खाया जाता है, लाइ के रूप में खाया जाता है, और कॉर्नफलेक्स रूप में खाया जाता है। यह हर किसी का पसंदीदा पौष्टिक आहार है। मक्का का उपयोग पशु आहार के रूप में भी किया जाता है। ज्यादातर मक्का का इस्तेमाल मुर्गी और दूध देने वाले जानवरों के लिए किया जाता है। मक्का की पत्तियों से लेकर फूल तक सब कुछ किसान के लिए उपयोगी है।

औद्योगिक क्षेत्र में मक्का की मांग भी बढ़ रही है। प्रोटीन की अच्छी मात्रा के कारण चॉकलेट, पेंट, लोशन, कोका-कोला और कॉर्न सिरप जैसी चीजें कॉर्न से बनाई जाती हैं। मक्का से कई चीजों का उत्पादन हो रहा है ,मक्का की मांग बढ़ रही है और अच्छे दाम भी मिल रहे हैं। तो आईये जानते है मक्के की खेती के बारे में। 

मक्का की खेती के लिए जमीन - Land for cultivation of maize


खेती के लिए सबसे उपयुक्त भूमि होनी चाहिए। अगर फसल के हिसाब से जमीन हो तो फसल अच्छी पैदावार देती है। आप जो फसल लेना चाहते हैं उसकी फसल जमीन पर निर्भर करती है। यदि भूमि उपजाऊ है और उस फसल के लिए उपयुक्त है तो आप खेती कर सकते हैं। इसी प्रकार मक्का की खेती के लिए भूमि उपजाऊ और उपयुक्त होनी चाहिए।

  • मक्के की खेती के लिए मिट्टी का परीक्षण करवाएं।
  • जिस जगह पर मक्का की खेती की जाती है वहां पर पानी जमा नहीं होना चाहिए।
  • मक्का की खेती के लिए मौसमी नमी की जरूरत होती है।
  • मक्का की खेती के लिए बेड बनाना आवश्यक है।

मक्का की खेती के लिए भूमि की जुताई - How to cultivate maize?


रोपण के समय भूमि की जुताई अनिवार्य है। जमीन के अंदर रहने वाले कीड़े और कीड़े जमीन की जुताई के कारण मर जाते हैं, जिससे फसल को नुकसान होने की संभावना कम होती है। यदि खरीफ सीजन के दौरान मक्का की फसल बोई जाती है, तो आपको कम से कम 15 से 20 सेमी गहरी जुताई करनी होगी। 

  • गर्मी के दिनों में जुताई करने से फसल बहुत अच्छी होती है और कीड़ों की संभावना कम होती है।
  • भूमि की जुताई करने से, फसल बोने में कोई समस्या नहीं होती है।
  • जुताई से पौधे के पास घास या कचरा नहीं होता है।

मक्के की बुवाई कब और कैसे करें - How to cultivate maize?


जुताई के बाद सबसे महत्वपूर्ण काम बुवाई का होता है। बुवाई सही समय पर और सही मौसम में करनी चाहिए ताकि फसल लेते समय फसल को कोई बीमारी न हो। क्योंकि फसल बुवाई पर सबसे ज्यादा निर्भर है। बुवाई से पहले, बुवाई के समय उन चीजों को व्यवस्थित करें, ताकि बुवाई के समय किसी भी चीज की कोई समस्या न हो। तो आइए जानते हैं मक्का की बुआई के बारे में।

  • खरीफ मौसम की बुवाई जून के अंतिम सप्ताह और जुलाई के पहले सप्ताह में की जानी चाहिए।
  • खरीफ मौसम की बुवाई अक्टूबर के अंतिम सप्ताह और नवंबर के पहले सप्ताह में की जानी चाहिए।
  • बुवाई के लिए गड्ढे की गहराई 4 से 5 सेमी होनी चाहिए।
  • बुवाई के समय पौधे की दूरी 10 से 30 सेमी होनी चाहिए।
  • प्रति एकड़ 140 से 150 पौधे की बुवाई करनी चाहिए।

मक्का बोने का तरीका - Method of planting corn


यदि आप पहली बार मक्का की खेती कर रहे हैं और मक्का की बुआई के बारे में नहीं जानते हैं, तो हम आपको इस लेख के माध्यम से जानकारी दे रहे हैं। किसी भी खेती को करने के लिए बुआई का तरीका आना चाहिए। यदि बुवाई का तरीका सही नहीं है, तो फसल के नुकसान की संभावना रहती है।

  • उच्च गुणवत्ता के बीज खरीदे।
  • मक्का की बुआई के लिए 50 से 60 मीटर मेड बनाए।
  • मेड फिक्स करते समय काले प्लास्टिक का प्रयोग करें ताकि मक्का के पौधे में कचरा न हो।
  • उपरोक्त निर्देशों के अनुसार उचित दूरी पर पौधे की बुवाई करें।
  • दोनों मेड के बीच कुछ सेमी की दूरी होनी चाहिए, ताकि पौधों के पास पानी जमा न हो।


पोषण और पानी का प्रबंधन कैसे करें - How to cultivate maize?


मनुष्य को जीवित रहने के लिए पानी और पोषण की आवश्यकता होती है। पानी और पोषण के बिना जीवन का कोई मूल्य नहीं है। इसी तरह, खेती के लिए पानी और पोषण पहली जरूरत है। किसी भी फसल को उगाने के लिए जल प्रबंधन पहली आवश्यकता है। हर फसल को पानी के साथ-साथ पोषण की भी जरूरत होती है। यदि पौधों को उचित मात्रा में पोषक तत्व नहीं मिलते हैं, तो पौधों की पैदावार सही नहीं होगी। फसल खराब होने की संभावना रहेगी। तो चलिए जल प्रबंधन और पोषण लेते हैं। 

 पानी का प्रबंधन - Water management 

  • इस बात का ख्याल रखें कि पौधा पानी को जमा न होने दे।  
  • पौधों के पास जल निकासी का प्रबंध करें।
  • बरसात के मौसम में पानी की सिंचाई न करें और जरूरत पड़ने पर हो सिंचाई करे। 
  • सिंचाई करते समय, विशेष ध्यान रखें कि पानी को मेडो के पास जमा न होने दें।

पोषण प्रबंधन - Nutrition management

  • फसल बोने से पहले खेत में सड़ी गोबर की खाद डालें।
  • खेत में नाइट्रोजन, फास्फोरस और पोटास की कमी को कम करने के लिए बुवाई के समय कुछ रसायन मिलाएं। 
  • 150 से 160 किलोग्राम नाइट्रोजन डालें। 
  • 70 से 80 किलोग्राम फास्फोरस डाले। 

  • 65 से 70 किलो पोटाश डालें।
  • 30 किलो जिंक सल्फेट मिलाएं।


  • चार पत्तियों के आने के समय 20 से 25 प्रतिशत नाइट्रोजन डालें। 
  • 6 से 8 पत्तियों के आने के समय 25 से 30 प्रतिशत नाइट्रोजन डालें।
  • फसल में फूल आने के समय 30 प्रतिशत नाइट्रोजन मिलाएं।
  • फसल में दाना भरने के समय 10 से 15 प्रतिशत नाइट्रोजन डालें।

फसल की कटाई - Harvest harvest


केवल तभी काटें जब मकई का पत्ता पिल्ले हो। अगर मकई में नमी है, तो कटाई के बाद मकई को सूखा लें। सूखे हुए मकई को ऐसी जगह पर रखें जहाँ हवा की आवाजाही हो और मकई को कोई नुकसान न हो।

अनमोल शब्द 


प्रिय पाठकों, हमें खुशी है कि आपको "मक्का की खेती कैसे करें?" के बारे में उचित जानकारी मिली है। इस लेख में दी गई जानकारी कई लोगों के लिए फायदेमंद साबित होगी। अगर आपको यह लेख पसंद आया है, तो इस लेख को अपने परिचितों और सहपाठियों के साथ साझा करें।

धन्यवाद।

No comments: