Tuesday, October 15, 2019

वाहन में सुपर चार्जर के कार्य - Functions of Super Charger in Vehicle

नमस्कार दोस्तों हम इस वेबसाइट पर आपका स्वागत करते हैं। आज के लेख में, हम "वाहन में सुपर चार्जर फ़ंक्शन" के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं। यह एक वाहन में मशीन की तरह काम करता है, जो वाहन के इंजन को हल्का बनाता है और वाहन की गति को अधिक से अधिक बढ़ाता है। यदि आप वाहन के सुपर चार्जर से संबंधित अधिक जानकारी चाहते हैं, तो इस लेख को अंत तक पढ़ें। (Functions of Super Charger in Vehicle in Hindi )



वाहन में सुपर चार्जर के कार्य



इस लेख में आप जानेंगे कि सुपर चार्जर का कार्य क्या है? और यह एक वाहन में कैसे काम करता है? इससे जुड़ी जानकारी। सुपर चार्जर के प्रकार क्या हैं, सुपर चार्जर का उद्देश्य और वाहन में सुपर चार्जर का उपयोग क्यों किया जाता हैं? साथ ही सुपर चार्जर से संबंधित सभी आवश्यक जानकारी इस लेख के माध्यम से हिंदी में प्रस्तुत की जा रही है। खुशी है कि यह लेख सभी पाठकों को पसंद आएगा।

सुपर चार्जर क्या है? - Functions of Super Charger in Vehicle


सुपर चार्जर एक उपकरण है जो किसी वाहन के इंजन के घनत्व को बढ़ाता है और इंजन के वजन को कम करता है जिससे वाहन की गति 40% बढ़ जाती है। इंजन सिलेंडर में वायुमंडल के दबाव से अधिक वायु और ईंधन के मिश्रण को परिवहन करने के कार्य को सुपर चार्जिंग कहा जाता है। सुपर चार्जर्स का उपयोग वायु और ईंधन के मिश्रण के दबाव को बढ़ाने के लिए किया जाता है।

सुपर चार्जर कार्बोरेटर और इंजन के बीच स्थित है। ताकि इंजन की मदद से चार्जर को चलाया जा सके। यह इंजन से बिजली का भंडारण करता है और अधिकतम दबाव मिश्रण को इंजन की ओर ले जाया जाता है। अधिक दबाव के कारण मिश्रण का घनत्व और वजन बढ़ जाता है और यह इंजन में उत्पादित शक्ति को बढ़ाता है, जिससे वाहन की गति बढ़ जाती है।



सुपर चार्जर का उद्देश और उपयोग - Purpose and use of super charger


वाहन में सुपर चार्जर अच्छा है लेकिन यह इंजन की शक्ति को बढ़ाकर काम करता है इसलिए इसका उपयोग अधिक से अधिक वाहनों में किया जाता है। लेकिन यह वाहन केवल बड़े राजमार्ग सड़क पर चलाया जा सकता है। सुपर चार्जर के कुछ उद्देश्य नीचे दिए गए हैं।
  • इंजन का वजन कम किया जाता है। 
  • इंजन का आकार कम करता है। 
  • ऊँचे शिखर वाले सड़क जहा वायु का प्रमाण कम होता है वहा इंजन पर सुपर चार्जर का उपयोग किया जाता है। 
  • सुपर चार्जिंग के कारण हवा और इंधन का अच्छा मिश्रण होता है जिससे उस मिश्रण की ज्वलन क्रिया पूर्ण रूप में किया जाता है। 
  • इंजन की व्हैल्युमेट्रिक इफिसियंसी बढाने के लिए उपयोग किया जाता है। 
  • यह एरोप्लेन में ज्यादा शक्ति उत्पन्न करने के लिए हलके इंजन की आवश्यकता होती है इसलिए सुपर चार्जर का उपयोग किया जाता है। 
  • पानी में चलने वाले मोटर बोट छोटी होती है और उसमे बड़ी इंजन को स्थित करना नामुमकिन होता है इसलिए यह पानी में चलने वाले मोटर बोट में उपयोग किया जाता है। 

सुपर चार्जर के प्रकार - types of Super charger.


वाहनों में मुख्यरूप से निम्नलिखित तिन प्रकार के सुपर चार्जर होते है।
  1. सेन्ट्रीफ्यूगल टाइप सुपर चार्जर 
  2. रूट्स एयर ब्लोअर टाइप सुपर चार्जर 
  3.  व्हेन टाइप सुपर चार्जर 


सेन्ट्रीफ्यूगल टाइप सुपर चार्जर - Functions of Super Charger in Vehicle


इस प्रकार के सुपर चार्जर का उपयोग वाहनों में सबसे अधिक किया जाता है। यह चार्जर इंजन पुली के व्हील बेल्ट से चलता है। इस चार्जर के आवरण में एक इम्पेलर होता है, जो चार्जर को 20,000 राउंड प्रति मिनट की गति से घुमाता है। हवा और पेट्रोल आवरण में प्रवेश के बाद, इम्पेलर मिश्रण को उच्च गति देता है और उच्च दबाव से मिश्रण को इंजन सिलेंडर में प्रवाहित किया जाता है।



रूट्स एयर ब्लोअर टाइप सुपर चार्जर (Roots Air Blower Type Super Charger)


इस प्रकार के सुपर चार्जर में केसिंग के अंदर दो रोटार लगाये जाते है। इन दोनों रोटार के खाचे एक समान गियर्स से जुड़े होते हैं। इंजन शुरू करने के बाद गियर को गति मिलती है, इस प्रकार दोनों रोटार एक ही गति से घूमने लगते हैं। दोनों रोटार के लोब एक साथ जुड़े हुए हैं। रोटर का रोटेशन इनलेट द्वारा आवरण के अंदर मिश्रण को दबाता है और यह मिश्रण आउटलेट से सिलेंडर में प्रवाहित होता है। इस प्रकार के सुपर चार्जर की कार्यक्षमता गियर पंप के समान है।

व्हेन टाइप सुपर चार्जर - Functions of Super Charger in Vehicle


इस प्रकार का चार्जर आकार में बेलनाकार होता है। ड्रम इस चार्जर के आवरण के अंदर एक शाफ्ट पर रखा गया है। यह ड्रम के आवरण के बिना आवरण के निचले भाग में रखा जाता है। ड्रम की परिधि पर बहुत सारी व्हेन्स लगाई जाती हैं और यह स्प्रिंग्स की मदद से शरीर से चिपक जाती है। चार्जर के आवरण में इनलेट और आउटलेट प्रदान किया जाता है ताकि कार्बोरेटर के अंदर मिश्रण इनलेट के माध्यम से सुपर चार्जर में प्रवेश करे। जब ड्रम गोल घूमता है, तो ड्रम और बॉडी को इनलेट से उनके बीच की जगह आउटलेट से नीचे उतारा जाता है। इस प्रकार ड्रम बॉडी के अंदर मिश्रण और जब उनके बीच दबाया जाता है तो उच्च दबाव के साथ इंजन सिलेंडर को भेजा जाता है। आइये अब हम टर्बो चार्जर के बारे में जानते है।

टर्बोचार्जर क्या है? (What is a turbocharger)


टर्बोचार्जर यह एक प्रकार का सुपरचार्जर है। लेकिन यह चार्जर सभी सुपर चार्जर्स की तुलना में अधिक वाहनों में उपयोग किया जाता है। इस प्रकार के चार्जर का उपयोग डीजल इंजनों में किया जाता है। इसका कार्य भी सुपर चार्जर्स के समान है। यह चार्जर सामान्य दबाव की तुलना में इंजन को उच्च दबाव हवा का उत्पादन करने में मदद करता है।

यह चार्जर पेट्रोल इंजन में इंजन व्हील बेल्ट द्वारा संचालित होता है। इसके कारण इंजन की शक्ति कुछ प्रतिशत कम होकर इंजन की शक्ति प्रभावित होती है। दूसरी तरफ टर्बोचार्जर चलाने पर इंजन की शक्ति खर्च नहीं होती है। क्योंकि टर्बोचार्जर इंजन से निकलने वाले धुएँ से संचालित होता है। लेकिन टर्बोचार्जर उपयोग से कुछ प्रतिशत इंजन वापस दबाव हो सकता है।

इन दो भागों को मुख्य रूप से टर्बोचार्जर, टरबाइन और एयर पंप में उपयोग किया जाता है। निकास गैस टरबाइन में प्रवेश करती है और टरबाइन रोटर को घुमाती है और एक कंप्रेसर रोटर शाफ्ट के दूसरी तरफ स्थित होता है। इसलिए, जब टरबाइन गोल घूमता है, तो कंप्रेसर रोटर भी गोल घूमता है और उच्च दबाव हवा का उत्पादन करता है और इसे इंजन सिलेंडर में भेजता है।


अनमोल शब्द

प्रिय पाठकों, हमें खुशी है कि यह लेख "वाहनों में सुपर चार्जर के कार्य" कई लोगों के लिए उपयोगी साबित हुआ है। इसके अलावा, यदि किसी के पास इस लेख से संबंधित कोई प्रश्न है, तो हम टिप्पणी कर करके पूछ सकते हैं। अगर आपको यह लेख पसंद आया है, तो इसे अपने परिचितों और सहपाठियों के साथ साझा करें।

धन्यवाद

No comments: