Wednesday, September 25, 2019

वाहन का रखरखाव - Vehicle maintenance

वर्तमान में, प्रत्येक मानव के पास एक वाहन है। लेकिन किसी भी वाहन को बनाए रखना वाहन उपयोगकर्ता की जिम्मेदारी है। यदि उपयोगकर्ता वाहन को बनाए (mainten) रखने की जिम्मेदारी से हटता है, तो यह उसकी गलती होगी। क्योंकि अगर वह वाहन का रखरखाव (Vehicle maintenance) ठीक से नहीं करता है, तो उसे बहुत नुकसान भी हो सकता है, जिसमें उसे वाहन की मरम्मत के लिए बहुत अधिक धन खर्च करना पड़ सकता है। यदि आप ऐसी गलती से बचना चाहते हैं और अपने वाहन को अच्छी तरह से बनाए (mainten) रखना चाहते हैं तो इस लेख को अंत तक पढ़ें।



वाहन का रखरखाव

आज इस लेख में आप जानेंगे कि वाहन का रखरखाव कैसे किया जाता है? और वाहन रखरखाव क्या है? और वाहन के विभिन्न भागों को कैसे बनाए रखा जाता है। इसके अलावा वाहन का ब्रेकडाउन रखरखाव क्या है? इसके अलावा, इस लेख के माध्यम से वाहन रखरखाव से संबंधित सभी जानकारी हिंदी में प्रस्तुत की जा रही है। (Information of Vehicle maintenance in hindi.)

प्रिय पाठकों, आप सभी जानते होंगे कि जब आप एक वाहन खरीदते हैं, तो उसके साथ आपको वाहन की कई विशेषताओं के बारे में भी बताया जाता है। लेकिन क्या वह वाहन कुछ वर्षों के बाद भी वैसा ही रहता है? नहीं। क्योकि किसी भी वाहन की खूबियों को बनाए रखने के लिए, आपको उसे मेंटेन रखना होगा, तभी उस वाहन की खुबिया हमेशा बरक़रार रहती है।

वाहन का रखरखाव - Vehicle maintenance


अपने वाहन को सुरक्षित रखना और उसकी देखभाल करना ही वाहन का रखरखाव (Vehicle maintenance) कहलाता है। इसमें आपको वाहन की हर चीज का ध्यान रखना होता है। जैसे कि वाहन की मरम्मत करना, वाहन को ग्रीस करना, वाहन को ऑइल करना और वाहन को हमेशा साफ रखना। अगर आप हमेशा अपने वाहन की अच्छी देखभाल करते हैं, तो आपके वाहन में कभी कोई समस्या नहीं होगी। (Information of Vehicle maintenance in hindi.)


एक वाहन एक मशीन की तरह होता है, जिसे यदि सुरक्षित और ठीक से नहीं रखा जाए तो यह किसी भी समय खराब हो सकता है। इसलिए इसे हमेशा बनाए रखना आवश्यक है। एक वाहन को बनाए रखने के लिए, कई बार उन्हें कुछ चीजों को बदलने या ग्रीस करने की आवश्यकता होती है। वाहन रखरखाव (Maintenance) के तीन मुख्य प्रकार हैं। वे निम्नलिखित हैं।

वेहिकल मेंटेनन्स के प्रकार (Types of vehicle maintenance)

  1. ऑपरेटिव/रूटीन मेंटेनन्स (Operative / Routine Maintenance)
  2. प्रिवेंटिव / पिरॉडिकल मेंटेनन्स (priventive / Perodical Maintenance)
  3. ब्रेकडाउन मेंटेनन्स (Breakdown maintenance)
ये तीन तरीके आपके वाहन को अच्छा रखने के लिए पर्याप्त हैं। क्योंकि ये तरीके हमेशा आपके वाहन की सुरक्षा करने के लिए पर्याप्त हैं। आइए एक-एक करके वाहन के इन रखरखाव (Maintenance) के बारे में जानते हैं।

ऑपरेटिव/रूटीन मेंटेनन्स - Vehicle maintenance


यह वाहन रखरखाव का पहला मुख्य प्रकार है। यह आपके वाहन रूटीन का पहला भाग है जिसमें आपको वाहन के सभी रूटीन का ध्यान रखना होता है। जैसे सर्विसिंग, नट बोल्ट कसना, हमेशा वाहन की सफाई करना, कभी भी वाहन में ईंधन को कम नहीं होने देना, इस प्रकार के रखरखाव को ऑपरेटिव मेंटेनेंस कहा जाता है।

इन सभी कार्यों को वाहन की कार्यशील स्थिति में किया जाता है ताकि वाहन किसी भी कारण से बंद न हो और निर्माता द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुसार, वाहन अपनी निर्धारित कार्यक्षमता तक ठीक से काम करे, इसलिए किसी भी वाहन को इस तरह बनाए रखना आवश्यक है। इसे वाहन का ऑपरेटिव/रूटीन मेंटेनन्स कहा जाता है।

प्रिवेंटिव / पिरॉडिकल मेंटेनन्स (Perodical Maintenance)


निर्माता की योजना के अनुसार वाहन की देखभाल करना यह सुनिश्चित करने के लिए कि वाहन वर्तमान स्थिति में कभी भी बंद न हो। जैसे किसी क्षतिग्रस्त हिस्से की मरम्मत करना या उसे बदलना, इसे वाहन का निवारक / आवधिक (priventive/perodical maintenance) रखरखाव कहा जाता है। इस रखरखाव के कारण, वाहन हमेशा काम करने की स्थिति में होता है और वाहन की ड्राइविंग शक्ति अच्छी हो जाती है यानी वाहन की आयु बढ़ जाती है। वाहन का निवारक रखरखाव (preventive maintenance) निम्नानुसार किया जाता है।
  • वाहन की जांच करें।
  • वाहन खोलें और खराब चीजों की मरम्मत करें।
  • वाहन के आवश्यक भागों को ग्रीस करें।
  • निर्माता के नियमों और दिए गए वाहन की सर्विसिंग बुक के समय के अनुसार वाहन की सर्विसिंग करे।
  • वाहन के आवश्यक स्पेयर पार्ट्स को स्टोर करें।
  • साथ ही, वाहन मरम्मत विभाग में काम करने वाले कर्मचारियों को प्रशिक्षित किया जाना चाहिए।
उपरोक्त ऑपरेटिव रखरखाव और निवारक रखरखाव दोनों वाहन की वर्तमान स्थिति में किए जाने वाले कार्य हैं ताकि वाहन किसी भी तरह से बंद न हो। आइए अब जानते हैं बंद स्थिति में वाहन के रखरखाव के बारे में। इसे ऑटोमोबाइल की भाषा में ब्रेकडाउन मेंटेनन्स कहा जाता है। (Information of Vehicle maintenance in hindi.)

ब्रेकडाउन मेंटेनन्स - Vehicle maintenance


वाहन के बंद स्थिति में किए जाने वाले रखरखाव को वाहन का ब्रेकडाउन रखरखाव कहा जाता है। इस स्थिति में वाहन की समस्याएँ जैसे, वाहन का शुरू न होना, वाहन का चालू स्थिति में रुकना, वाहन के पुर्जों में खराबी, वाहन का सही माइलेज न देना जैसी समस्याओं को ठीक किया जाता है।

इस स्थिति में वाहन की मरम्मत की जाती है। इसके अलावा, वाहन के क्षतिग्रस्त हिस्सों को बदल दिया जाता है। यह काम बहुत जोखिम भरा है और इसमें बहुत समय लगता है। हालांकि यह रखरखाव आसानी से किया जा सकता है लेकिन यह बहुत खर्चिक भी होता है।

वाहन की सर्विसिंग (Vehicle servicing)


सर्विसिंग वाहन के रखरखाव का एक प्रमुख हिस्सा है। इसमें वाहन की साफ-सफाई से लेकर उसके माइलेज तक सभी बातों का ध्यान रखा जाता है, इस समय वाहन चालू अवस्था में होता है। ताकि अगर वाहन का प्रदर्शन कम हो जाए तो सर्विसिंग के जरिए इसे ठीक किया जा सके। वाहन की सर्विसिंग निम्नलिखित घटकों के अनुसार की जाती है।
  • वाहन की वाटर सर्विसिंग और उसे साफ़ करना। 
  • वाहन के सभी भागों की जाँच करना।
  • वाहन के घुमने वाले हिस्सों को ग्रीस करना।
  • वाहन निर्माता द्वारा दिए गए सर्विस नियमावली के अनुसार वाहन की जांच करें और यदि कोई खामी पाई जाती है तो उसकी मरम्मत करें।
  • वाहन की सर्विस नियमावली के अनुसार ओवरहालिंग करे।
  • वाहन के ढीले नट बोल्ट को कस लें।


अनमोल शब्द

प्रिय पाठकों, हमें खुशी है कि, वाहन का रखरखाव (Information of Vehicle maintenance in hindi.)। इस लेख में दी गई जानकारी कई लोगों के लिए उपयोगी साबित हुई है। अगर आपका इस लेख से जुड़ा कोई सवाल है तो आप हमें कमेंट कर सकते हैं। साथ ही अगर आप इस लेख से सहमत हैं तो इसे अपने परिचितों और सहपाठियों के साथ साझा करें।

धन्यवाद

No comments: