Monday, September 23, 2019

बॉक्सिंग कैसे सीखे? बॉक्सर कैसे बने? - How to learn boxing? How to become a boxer?

मुक्केबाजी पूरे एशिया में सबसे प्रसिद्ध खेल है। यह एक प्रकार से मार्शल आर्ट का हिस्सा है। लेकिन मुक्केबाजी एक ऐसा खेल है जिसे हर कोई नहीं खेल सकता। क्योंकि यह एक फ्रीस्टाइल गेम है जिसमें आपको स्टैमिना और सहनशक्ति की बहुत आवश्यकता होती है। यदि आप बॉक्सिंग सीखने में रुचि रखते हैं और एक अच्छा बॉक्सर कैसे बने, इससे संबंधित जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो इस लेख को अंत तक पढ़ें।



बॉक्सिंग कैसे सीखे? बॉक्सर कैसे बने?



इस लेख में आप जानेंगे कि बॉक्सिंग कैसे सीखें? और एक अच्छा बॉक्सर कैसे बनें? इसके अलावा बॉक्सिंग क्या है? प्रोफेशनल बॉक्सर कैसे बनें? इससे जुड़ी जानकारी। बॉक्सिंग सीखने के लिए क्या करना होगा? बॉक्सिंग के प्रकार। साथ ही, इस लेख के माध्यम से मुक्केबाजी से संबंधित सभी जानकारी हिंदी में प्रस्तुत की जा रही है। (How to learn boxing? How to become a boxer? in hindi.)

प्रिय पाठकों, मुक्केबाजी एक बहुत प्रसिद्ध खेल है। इसलिए यह बहुत लोकप्रिय भी है। लेकिन पेशेवर मुक्केबाज बनना हर किसी के बस की बात नहीं है। बॉक्सिंग एक फ्रीस्टाइल गेम होने के नाते, आपको इसमें बहुत सी चीजें सीखनी होंगी। ताकि आप अपनी सुरक्षा कर सकें। क्योंकि जब आप इस खेल की रिंग में उतरते हैं, तो आपका प्रतिद्वंद्वी आप पर करीबी हमला करता है, जिससे आपको बचना आवश्यक है। आइए पहले जानते हैं कि बॉक्सिंग क्या है।

बॉक्सिंग क्या है? और इतिहास


बॉक्सिंग एक शारीरिक गतिविधि है जहाँ आप कम समय में अधिकांश कैलोरी बढ़ा सकते हैं। क्योंकि इस खेल में शारीरिक रूप से आपको अपने प्रतिद्वंद्वी को मुक्के से मारना होता है। इस खेल में मुक्केबाजी के दस्ताने का उपयोग किया जाता है। ताकि लड़ते समय कोई चोट न लगे। यह बहुत अच्छा है कि इस खेल में आपको केवल बॉक्स वाले दस्ताने पहनकर लड़ना है।

मुक्केबाजी एक पुराना खेल है जिसे ज्यादातर लोग शौकिया तौर पर खेलते थे। शुरुआत में, खेलने में कोई नियम नहीं थे। लेकिन समय के साथ खेल में नए नियम लाए गए। आपको बता दें कि इस गेम की शुरुआत में, खिलाड़ी को बिना किसी बॉक्सिंग ग्लोव्स के मिट्टी के मैदान में लड़ना पड़ता था। जिससे खिलाड़ीयो को चोट लगने की बहुत संभावना होती थी।


जे ब्रैगटन नाम के एक बॉक्सर ने लगभग 250 साल पहले 1743 में एक बॉक्सिंग रिंग की तस्वीर बनाई थी। इस तस्वीर में, उन्होंने एक गोल अखाड़ा बनाया, और उसके चारों ओर चैन का एक गोल घेरा बनाया गया था। लेकिन उसके लगभग 100 साल बाद, मुक्केबाजी का पहला एरेना बनाया गया। यह एरेना ठीक वैसा ही था जैसा कि जे ब्रैगटन ने अपनी ड्राइंग में बनाया था। लेकिन उसके चारों ओर रस्सी के तीन घेरे बनाए गए थे।

खेल शुरू करने का पहला नियम यह था कि जब खिलाड़ी रिंग में उतरता है, तो उसे पहले अपने प्रतिद्वंद्वी से हाथ मिलाना होगा और उसके बाद ही खेल शुरू करना होगा। इस तरह इस खेल में और भी नियम आ गए और यह खेल और अधिक प्रसिद्ध हो गया।

बॉक्सिंग कैसे सीखे? (How to learn boxing)


मुक्केबाजी एक ऐसा खेल है जो एशिया में बहुत प्रसिद्ध है और यह एक फ्रीस्टाइल खेल है इसलिए अधिकांश लोग इसे पसंद करते हैं। कहने का मतलब, इस खेल को बहुत सारी उपलब्धियाँ मिली हैं, इसलिए यह खेल बहुत लोकप्रिय है। जो लोग खेल में नए हैं वे इसे बेहतर तरीके से सीख सकते हैं। लेकिन इसके लिए आपको कड़ी मेहनत करनी होगी। इसके लिए, निम्नलिखित बातो को समझना महत्वपूर्ण है।
  • सबसे पहले आपको यह समझना होगा कि बॉक्सिंग किस तरह का खेल है?
  • बॉक्सिंग सीखने के लिए आपको क्या करना चाहिए?
  • आप बॉक्सिंग क्यों सीखना चाहते हैं?
  • मुक्केबाजी सिखने से आपको क्या फायदा होगा?
  • यदि आप मुक्केबाजी सीखना चाहते हैं तो आपको किस क्लब में शामिल होना है?
  • मुक्केबाजी में कितने पंच हैं और उनका उपयोग कैसे किया जाता है।
उपरोक्त बातों को समझने के बाद ही आपको बॉक्सिंग की तैयारी करनी चाहिए। क्योंकि आप बॉक्सिंग के जरिए भी अपना करियर बना सकते हैं।

क्यों सीखते हैं बॉक्सिंग? (Why learn boxing)


दोस्तों बॉक्सिंग एक ऐसा खेल है जिसमें कई लोगों ने अपना करियर बनाया है। लेकिन कुछ लोग सोचते है कि बॉक्सिंग क्यों सीखी जाती है। इसलिए ऐसे लोग हमेशा आपका मनोबल कम करने की कोशिश करते हैं। लेकिन इससे बचना आपके लिए बहुत जरूरी है। क्योंकि इससे आपके बॉक्सिंग करियर पर बुरा असर पड़ सकता है। हालाँकि, आपको यह भी सोचना चाहिए कि आप बॉक्सिंग क्यों सीख रहे हैं। क्योंकि आपके इस सवाल के साथ, आप अपने लिए एक लक्ष्य निर्धारित करते हैं।

कुछ लोग केवल अपने शौक के लिए बॉक्सिंग सीखते हैं, जबकि कुछ लोग इसे अपने अच्छे करियर के लिए सीखते हैं। हालांकि यह आत्मरक्षा का भी एक तरीका है, इसलिए ज्यादातर लड़कियां भी मुक्केबाजी सीखती हैं। ताकि मुसीबत के समय वे इसका सही इस्तेमाल कर सकें।

बॉक्सिंग सीखने के लिए बच्चों की सही उम्र (Right age for children to learn boxing)


मुक्केबाजी एक हिटिंग गेम है, इसलिए इसमें चोट लगने की संभावना अधिक होती है और इसके लिए अधिक ताकत की आवश्यकता होती है। एक पेशेवर ट्रेनर स्रोत के अनुसार, 10 साल का बच्चा खेल शुरू कर सकता है। क्योंकि इस समय बच्चे में आत्म-रक्षा की कुछ क्षमता होती है। साथ ही, वह बच्चा प्रशिक्षण के दौरान सिखाई गई सभी चीजों को जल्द से जल्द सीख सकता है।


बॉक्सिंग सीखने के लिए क्या करना होगा? (What to do to learn boxing)


मुक्केबाजी सीखना आसान नहीं है लेकिन यह मुश्किल भी नहीं है। लेकिन इसके लिए आपको कड़ी मेहनत करनी होगी। और इसे सीखने के लिए परिश्रमी होना चाहिए। साथ ही आपका तर्क भी अच्छा होना चाहिए। क्योंकि इसमें कई तकनीकें हैं, और इसे सीखने के लिए आपको अपना मनोबल मजबूत रखना होगा। बॉक्सिंग सीखने के लिए आपको निम्न चीजें करनी होंगी।
  • मुक्केबाजी सीखने के लिए, आपको पहले सही अकादमी चुनना होगा।
  • आपको अपने प्रशिक्षण के लिए सही अकादमी में दाखिला लेना चाहिए।
  • अकादमी में प्रवेश के बाद आपको अपने ट्रेनर से सही सलाह लेनी चाहिए।
  • अकादमी के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में से एक को अपना साथी बनाएं
  • प्रशिक्षण केंद्र में, अपने साथी के साथ प्रशिक्षण के दौरान सिखाई गई सभी चीजों का अभ्यास करें।
  • इस तरह, आप जल्द ही मुक्केबाजी की सभी तकनीकों को सीखेंगे।

सही अकादमी का चयन कैसे करें? (How to choose the right academy)


अगर आप बॉक्सिंग करना चाहते हैं और अच्छी बॉक्सिंग सीखना चाहते हैं, तो आपको सही अकादमी का चुनाव करना होगा, इसके लिए आप इंटरनेट की मदद से अच्छी अकादमी चुन सकते हैं। हालाँकि, भारत में कई प्रसिद्ध प्रशिक्षण केंद्र हैं जहाँ मुक्केबाजी का प्रशिक्षण दिया जाता है। लेकिन एक सही अकादमी की पहचान करना बहुत आसान है। आइए जानते हैं कि आप एक अच्छी अकादमी की पहचान कैसे करेंगे।
  • प्रशिक्षण शुरू करने से पहले, आपको यह जानना होगा कि अकादमी में कौन सा प्रशिक्षक खिलाड़ियों को प्रशिक्षित करता है।
  • इसके अलावा, बाहरी लिंक के अनुसार, उस अकादमी की दीवारों पर चित्रों का भी अनुमान लगाया जा सकता है। लेकिन जाने-माने खिलाड़ियों की तस्वीरों से बचें क्योंकि कोई भी अकादमी वर्तमान में केवल स्वयं के खिलाड़ियों के स्वामित्व में आगे बढती है।
  • आपके लिए यह लाभदायक होगा कि आप एक ऐसी अकादमी चुनें जिसमें बच्चे या खिलाड़ी प्रतियोगिताओं के लिए प्रशिक्षित हों और उन्हें प्रतियोगिताओं में ले जाएं। क्योंकि खिलाड़ी को प्रशिक्षण के साथ-साथ प्रतियोगिता की भी जरूरत होती है।
  • यदि आप एक प्रशिक्षण केंद्र में प्रवेश ले रहे हैं, तो आपको वहां के खिलाड़ियों के लिए बनाई गई सुविधाओं को देखना चाहिए।
  • उस अकादमी का बॉक्सिंग रिंग कभी खाली नहीं होना चाहिए क्योंकि एक अच्छे प्रशिक्षण केंद्र की सबसे बड़ी पहचान यह है कि इसका मैदान कभी खाली नहीं होता है।

प्रशिक्षण के लिए कितना समय होना चाहिए? (How much time should be for training)


किसी भी चीज़ पर प्रशिक्षण के लिए आपको कम से कम 2 घंटे अभ्यास करना चाहिए। हालांकि, एक अच्छा और पेशेवर मुक्केबाज बनने के लिए, कई लोग 6 से 8 घंटे भी अभ्यास करते हैं। लेकिन सूत्रों के अनुसार, किसी भी प्रशिक्षु को प्रशिक्षण के लिए सुबह और शाम को मिलाकर 3 घंटे प्रशिक्षण देना चाहिए। लेकिन प्रशिक्षण के दौरान किसी भी तरह का समय बर्बाद न करें। और आप तभी अच्छे मुक्केबाज बन सकते हैं जब आप सही तरीके से प्रशिक्षण लेंगे।

एक अच्छा मुक्केबाज बनने के लिए रोजाना यह एक्सरसाइज करे।

  • आपको बॉक्सिंग में काफी स्टैमिना लगता है और इसके लिए आपको हर दिन कम से कम 5 से 6 किलोमीटर दौड़ना चाहिए।
  • इसके अलावा आप सर्कल ट्रेनिंग भी कर सकते हैं।
  • पहले शरीर को गर्म करने के लिए और उसके लिए आप जंपिंग, स्किपिंग, वार्म-अप, या क्रॉसकाउंट्री रनिंग कर सकते हैं।
  • उसके बाद आपको अपने शरीर में लचीलापन लाना होगा और इसके लिए आपको कमर, छाती, पैर, हाथों और गर्दन का उचित व्यायाम करना चाहिए।
  • पैरों में एक अच्छा संतुलन बनाए रखने के लिए उठक बैठक लगाये।
  • हाथों की ताकत बढ़ाने के लिए आपको रोजाना पुश अप्स करना चाहिए।
  • इसके अलावा, आपके ट्रेनर द्वारा दिए गए सभी निर्देशों के अनुसार सभी आवश्यक निर्देशों का पालन किया जाना चाहिए।


अनमोल शब्द

प्रिय पाठकों, हमें ख़ुशी हैं, बॉक्सिंग कैसे सीखें? बॉक्सर कैसे बनें? इस लेख में दी गई जानकारी कई लोगों के लिए फायदेमंद साबित हुई है। अगर आपको यह लेख पसंद आया है, तो इस लेख को अपने परिचितों और सहपाठियों के साथ साझा करें। साथ ही, यदि किसी के पास इस लेख से संबंधित कोई प्रश्न या सुझाव है, तो वे हमें टिप्पणी करके पूछ सकते हैं।

धन्यवाद

No comments: