Friday, August 30, 2019

इंजन क्या है - What is engine?

अधिकांश लोग अपने दिन-प्रतिदिन के जीवन में वाहनों का अधिक उपयोग करते हैं। लेकिन कुछ लोग इंजन और उसके घटकों के बारे में ज्यादा नहीं जानते हैं। क्योंकि समय के साथ वाहन के इंजन की समस्याओं का सामना करता है। आज इस लेख में इंजन क्या है? और इसके प्रकार के बारे में पूरी जानकारी देने वाले है। इंजन से संबंधित अधिक जानकारी पाना चाहते है, तो इस लेख को पूरा पढ़े। ( What is engine?)



इंजन क्या है

आज, इस लेख में, हम जानेंगे कि, इंजन क्या है? और इंजन किस प्रकार के होते हैं। इसके अलावा इंजन में कौन से घटक हैं। इंजन कैसे काम करता है? और इंजन कार को कैसे चलाता है? साथ ही, इंजन से संबंधित सभी आवश्यक जानकारी इस लेख के माध्यम से हिंदी में प्रस्तुत की जा रही है। (What is engine in hindi)

इंजन क्या है? (What is engine)

इंजन एक ऑटोमोबाइल वाहन का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है। यह एक उपकरण है जो रासायनिक ऊर्जा को यांत्रिक ऊर्जा में बदलता है। इंजन को ऑटोमोबाइल वाहन की आत्मा भी कहा जाता है। क्योंकि यह वाहन की क्रिया के लिए ईंधन को तरल रूप में परिवर्तित करके वाहन के संचालन का मुख्य कार्य करता है। इंजन यह टूव्हीलर, फोरव्हीलर, भारी वाहनों आदि में लगाया जाता है।

इंजन के कार्य (Engine functions)

वाहन के लिए इंजन सबसे आवश्यक वस्तु है। क्योंकि यह वाहन के संचालन का सबसे महत्वपूर्ण काम करता है। इंजन न केवल रासायनिक ऊर्जा का परिवहन करता है, बल्कि कई अलग-अलग ऊर्जाओं को भी बदल देता है। एक इंजन का काम किसी ज्वलनशील पदार्थ या ऊर्जा को परिवर्तित करके एक शक्ति (power) का रूप देना है। आइए आगे जानते हैं इंजन के प्रकार के बारे में।

इंजन के प्रकार (types of engine)

कई अलग-अलग प्रकार के इंजन हैं लेकिन अधिकांश वाहनों में केवल दो प्रकार के इंजन पाए जाते हैं, जो निम्नानुसार हैं। (What is engine in hindi)
  • पेट्रोल इंजन 
  • डीजल इंजन 
ये दो प्रकार के इंजन विभिन्न वाहनों में वाहनों की स्थिति के अनुसार स्थापित किए जाते हैं। ज्यादातर पेट्रोल इंजन दोपहिया वाहनों में पाए जाते हैं और कभी-कभी यह चार-पहिया वाहनों में भी पाए जाते हैं। जबकि डीजल इंजन का उपयोग केवल बड़े वाहनों में किया जाता है। क्योंकि डीजल इंजन में पिकअप क्षमता अधिक होती है। इसलिए, यह केवल चार पहिया वाहनों से रूट वाहनों के लिए लागू किया जाता है। आइये आगे जानते हैं कि पेट्रोल इंजन और डीजल इंजन में अंतर होता है। इसके बारे में।

पेट्रोल इंजन (petrol engine)

पेट्रोल इंजन यह डीजल इंजन की तुलना में कम दबाव पैदा करता है। इसलिए इसे केवल हल्के वाहनों में स्थापित किया जाता है। लेकिन यह डीजल वाहन की तुलना में प्रदूषण को काफी कम करता है। पेट्रोल इंजन में स्पार्क प्लग का उपयोग करके ईंधन को प्रज्वलित करता है। लेकिन पेट्रोल इंजन में डीजल इंजन की तुलना में कम पिकअप क्षमता होता है। (What is engine in hindi)


पेट्रोल इंजन में, हवा और पेट्रोल के मिश्रण का उत्पादन करने के लिए ईंधन को इंसुलेशन वाल्व में इंजेक्ट किया जाता है। मिश्रण तब कम्प्रेशन स्ट्रोक के माध्यम से संपीड़ित होता है। इस समय इंटेक वाल्व और एक्सास्ट वाल्व बंद हो जाते हैं और मिश्रण को स्पार्क प्लग की मदद से प्रज्वलित किया जाता है। इस विस्फोट में, ईंधन जलकर हवा में तब्दील हो जाता है और इसके कारण वाहन संचालित होता है।पेट्रोल इंजन में 100 cc, 110 cc, 125 cc, 150 cc से 350 cc तक के इंजन नंबर होते हैं जो इंजन के पिकअप का संकेत देते हैं।

डीजल इंजन (Diesel engine)

डीजल इंजन वजन में बहुत भारी होते हैं। इसलिए यह बड़े वाहनों में पाया जाता है। लेकिन यह पेट्रोल इंजन की तुलना में बहुत अधिक घर्षण पैदा करता है और यह वेंटिलेशन को भी नुकसान पहुंचाता है। लेकिन यह ट्रेंड की तुलना में पेट्रोल वाहन से बेहतर है। डीजल इंजनों में, ईंधन को प्रज्वलित करने के लिए इंजेक्शन का उपयोग किया जाता है। (What is engine in hindi)

डीजल इंजन में भी पेट्रोल इंजन के समान कार्य होता है। लेकिन यह पर्याप्त नहीं है क्योंकि डीजल इंजन में ईंधन को मिलाने के लिए इंजन में डीजल के बाद हवा इंजेक्ट किया जाता है और ईंधन को प्रज्वलित करने के लिए इंजेक्शन का उपयोग किया जाता है।

यह भी जान लीजिये:

सभी प्रकार के इंजनों का काम समान है। लेकिन इंजन को संचालित करने के लिए चार स्ट्रोक का उपयोग किया जाता है। सक्शन स्ट्रोक, कम्प्रेशन स्ट्रोक, पावर स्ट्रोक और एक्सास्ट स्ट्रोक इस स्ट्रोक इंजन को फोर स्ट्रोक इंजन कहा जाता है। इसके अलावा, इंजन में सिक्स स्ट्रोक और टू स्ट्रोक भी होते हैं, लेकिन अधिकांश वाहनों में, चार स्ट्रोक इंजन का उपयोग किया जाता है।


 
अनमोल शब्द

प्रिय पाठकों, हमें ख़ुशी हैं कि इंजन क्या है? (What is engine in hindi) इस लेख में दी गई जानकारी कई लोगों के लिए फायदेमंद साबित हुई है। अगर आपको यह लेख पसंद आया है, तो इसे अपने परिचितों और सहपाठियों के साथ साझा करें। इसके अलावा, यदि किसी के पास इस लेख से संबंधित कोई प्रश्न या सुझाव है, तो वे हमें टिप्पणी कर सकते हैं।

धन्यवाद।

No comments: