Thursday, August 22, 2019

ऑटोमोबाइल इंजिनियर कैसे बने - How to become an automobile engineer

प्रिय पाठकों, आज के लेख में, "ऑटोमोबाइल इंजीनियर कैसे बने?" इससे संबंधित जानकारी साझा करने जा रहे हैं। यदि आप एक ऑटोमोबाइल इंजीनियर बनना चाहते हैं, तो हम आपको इस लेख में सभी आवश्यक जानकारी देंगे। यदि आप ऑटोमोबाइल इंजीनियर से संबंधित पूरी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो इस लेख के अंतिम चरण तक बने रहें। (How to become an automobile engineer in Hindi.)



ऑटोमोबाइल इंजिनियर कैसे बने

आज इस लेख में ऑटोमोबाइल इंजीनियर कैसे बने और इसके लिए क्या योग्यता होनी चाहिए? ऑटोमोबाइल इंजीनियर के बाद नौकरी के विकल्पों के बारे में भी जानें। इसके अलावा, ऑटोमोबाइल इंजीनियर के प्रकार और इससे संबंधित सभी जानकारी हिंदी में इस लेख के माध्यम से प्रस्तुत की जा रही है।

दुनिया में कई अलग-अलग प्रकार के इंजीनियर हैं। हर कोई अपनी इच्छा के अनुसार अपना कोर्स चुनता है। क्योंकि हर कोई सिविल इंजीनियर या सॉफ्टवेयर इंजीनियर नहीं बन सकता। इसलिए, दुनिया में काम के अनुसार इंजीनियर शाखाओ के नाम भी अलग है। तो आज हम ऑटोमोबाइल इंजीनियर के बारे में जानने वाले हैं।

ऑटोमोबाइल दुनिया का सबसे बड़ा प्रौद्योगिकी उपयोगकर्ता खंड है। जिसमें हर साल नई तकनीक के वाहन निकाले जाते हैं। आज, ऑटोमोबाइल दुनिया के हर क्षेत्र में नई सुविधाओं के साथ वाहन बनाते हैं। जो ऑटोमोबाइल इंजीनियरों द्वारा लोगो के लिए एक उपहार है।

ऑटोमोबाइल इंजिनियर कैसे बने? - (How to become an automobile engineer?)

ऑटोमोबाइल एक उपखंड है जिसमें सभी प्रकार के वाहनों का निर्माण किया जाता है जैसे बाइक, चार पहिया वाहन, ट्रक। अगर आपकी रुचि वाहनों में है तो आप ऑटोमोबाइल इंजीनियर बन सकते हैं। लेकिन ऑटोमोबाइल इंजीनियर बनना इतना आसान नहीं है। क्योंकि इसके लिए छात्र के पास कुछ आवश्यक योग्यताएँ होनी चाहिए।

ऑटोमोबाइल इंजिनियर के लिए आवश्यक योग्यता (Essential Qualification for Automobile Engineer)

अगर आप ऑटोमोबाइल इंजीनियर बनना चाहते हैं, तो आपके पास शैक्षणिक योग्यता के साथ-साथ कुछ खास बातें भी होनी चाहिए। हम उनके बारे में एक-एक करके चरण-दर-चरण सीखेंगे।
  • शैक्षिक योग्यता के अनुसार, आपके पास बीटेक ऑटोमोबाइल इंजीनियर की डिग्री होनी चाहिए।
  • कारों के बारे में आपके पास एक नई रचनात्मकता होनी चाहिए।
  • आपको वाहनों का शौक होना चाहिए।
  • वाहनों होने होने वाली समस्या को समझने की शक्ति होनी चाहिए।
  • कार को डिजाइन करते समय सही चीजों का परीक्षण करने की क्षमता होनी चाहिए।

ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग की तैयारी कैसे करें? (How to prepare for automobile engineering?)

यदि आप ऑटोमोबाइल इंजीनियर बनना चाहते हैं, तो आप 10 वी के बाद शुरू कर सकते हैं (How to become an automobile engineer)। इसके लिए, 10 वीं उत्तीर्ण करने के बाद, आपको कॉमर्स के विषय से MCVC चुनना होगा, जिसे न्यूनतम योग्यता व्यावसायिक पाठ्यक्रमों के नाम से जाना जाता है। इस कोर्स में आपको ऑडिटिंग और अकाउंटिंग, ऑटो इलेक्ट्रिकल और ऑटोमोबाइल इंजीनियर जैसे तीन विकल्प मिलते हैं। इसके अलावा आप 10 वी के बाद पोलिटेक्निक भी कर सकते है।

यदि आप 12 वीं या स्नातक के बाद ऑटोमोबाइल इंजीनियर की तैयारी करना चाहते हैं, तो आपको नीचे दिए गए पाठ्यक्रमों के माध्यम से डिग्री प्राप्त कर सकते है।
  • बी.इ. ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग 
  • बी.टेक ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग 
  • डिप्लोमा इन ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग
  • सर्टिफिकेट प्रोग्राम इन ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग 
  • पी.जी. डिप्लोमा इन ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग 


ऑटोमोबाइल इंजीनियरों के प्रकार (Types of automobile engineers)

ऑटोमोबाइल क्षेत्र में कई अलग-अलग प्रकार के इंजीनियर हैं। लेकिन हम आपको मुख्य तीन प्रकार के ऑटोमोबाइल इंजीनियर के बारे में बताने जा रहे हैं।
  • प्रोडक्ट एंड डिजाइनिंग इंजिनियर 
  • डेवलप्मेंट इंजिनियर 
  • कंस्ट्रक्शन इंजीनियर
ये तीनों इंजीनियर वाहन बनाते समय वाहन को एक नया आकार देने का काम करते हैं। ये सभी अपने नाम के अनुरूप अपना काम करते हैं। इसका विवरण हम आगे जानेंगे।

प्रोडक्ट एंड डिजाइनिंग इंजिनियर - (Product and Designing Engineer)

यह इंजीनियर अपने दिमाग से कार का क्रिएटिव बनाता है और वह इसे दिखाने के लिए उसे एक कागज पर डिजाइन करता है। इसे बनाने के बाद, वह उस वाहन के विवरण विकास इंजीनियर तक पहुंचता है। ताकि वह इसे विकास अभियंता को बता सके। How to become an automobile engineer.

डेवलोपमेन्ट इंजिनियर (Development engineer)

यह इंजीनियर डिजाइनिंग इंजीनियर द्वारा दी गई जानकारी और डिजाइन को पूरी तरह से समझता है। वाहन के सभी हिस्सों को भी दिए गए डिज़ाइन के अनुसार बनाता है और इसे एक नया आकार देता है। यदि वाहन के भागों में कोई खराबी है, तो वह इसे अस्वीकार कर देता है और एक नया भाग तैयार करता है।

कंस्ट्रशन इंजिनियर (Construction engineer)

एक निर्माण इंजीनियर का काम बहुत भारी होता है क्योंकि इसमें डिज़ाइन इंजीनियर और विकास इंजीनियर द्वारा डिज़ाइन किए गए भागों को समझना आवश्यक होता है। ताकि वाहन के सभी हिस्से सही जगह पर फिट हो जाएं और वाहन को एक नया आकार मिल सके।

भारतीय ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग शीर्ष कॉलेज (Indian Automobile Engineering Top College)

भारत ऑटोमोबाइल इंजीनियरिंग और वाहनों के मामले में सातवां सबसे बड़ा देश है, यहाँ हम आपको ऑटोमोबाइल इंजीनियरों के भारतीय सबसे बड़े कॉलेजों के बारे में बताने जा रहे हैं। जो अलग राज्य में स्थापित है। How to become an automobile engineer.
  • बी.एस अब्दुर रेहमान यूनिवर्सिटी (तमिलनाडु)
  • ए.डी.पटेल इंस्टिट्यूट  टेक्नोलॉजी (गुजरात)
  • अन्ना यूनिवर्सिटी (चेन्नई)
  • भारत यूनिवर्सिटी (तमिलनाडु)
  • अमलजोति कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग (केरला)

 
अनमोल शब्द (Precious words)

प्रिय पाठकों, हम खुश हैं कि "ऑटोमोबाइल इंजीनियर कैसे बनें?" इस लेख में दी गई जानकारी कई छात्रों के लिए उपयोगी साबित हुई है। अगर आपको यह लेख पसंद आया है, तो इसे अपने परिचितों और सहपाठियों के साथ साझा करें। इसके अलावा अगर इस लेख से जुड़ा कोई सवाल या सुझाव हो तो हमें कमेंट करें।

धन्यवाद।

No comments: