Wednesday, July 17, 2019

व्हील एलाइनमेंट कब और कैसे करें - When and how to wheel alignment

प्रिय पाठकों, आज हम व्हील एलाइनमेंट कब और कैसे करें, इसके बारे में जानकारी देने जा रहे हैं।  अगर आप व्हील एलाइनमेंट करना चाहते हैं और व्हील एलाइनमेंट से संबंधित सभी जानकारी जानना चाहते है तो  इस लेख को अंत तक पढ़ें। (When and how to wheel alignment )


व्हील एलाइनमेंट कब और कैसे करें


व्हील एलाइनमेंट के लाभ, एलाइनमेंट कैसे किया जाता है, नेगेटिव केम्बर क्या है, पॉजिटिव केम्बर क्या है, एलाइनमेंट बाहर होने का कारण क्या है (Alignment kaise kiya jaata hai) यह सभी जानकारी हिंदी प्रस्तुत है।

 मित्रों आज के दौर में चार पहिया वाहनों का चलन बहोत बढ़ रहा है। वाहनों की बढ़ती प्रवृत्ति के अनुसार, वाहनों में कई काम आते हैं। वाहनों में सबसे महत्वपूर्ण कार्य एलाइनमेंट होता है। वाहनों को ठीक से चलाने के लिए वाहनों का एलाइनमेंट अच्छा  होना चाहिए। आपको इस लेख के माध्यम से वाहनों के अच्छे रखरखाव के बारे में बताने जा रहा है। 

व्हील एलाइनमेंट कब और कैसे करें - When and how to wheel alignment

दोस्तों, जिस तरह से हम चार पहिया वाहन चलाते हैं, उसी तरह से वाहनों का रखरखाव किया जाना चाहिए।   वाहन चलाते समय कई बातों का ध्यान रखना होता है, जैसे की वाहन के ब्रेक, टायर और अन्य चीजे।वाहन हमारी बहुत उपयोगी वस्तु है और यह हमारी दिनचर्या में अधिक काम के लिए फायदेमंद साबित होती है।


वाहन में कई अलग-अलग प्रकार के फंक्शन होते हैं जो अपना काम ठीक से करते हैं। लेकिन हमारी कुछ गलतियों के कारण, फंक्शन में खराबी आती है,जैसे कार्बोरेटर में काम आना, इंजन में खराबी, ब्रेक ऑयलिंग बदलना, व्हील अलाइनमेंट की जांच करना, सेल्फ स्टार्टर में विफलता आना इन कार्यों में से, आज हम आपको इस लेख के माध्यम से व्हील एलाइनमेंट के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं।

वाहनों के अलाइनमेंट बाहर होने का कारण

पाठकों, वाहन के टायर एक दूसरे के साथ सीधे चलना चाहिए। वाहनों के टायर रोड से 90 डिग्री में चलना चाहिए। यदि आपके वाहन का टायर 90 डिग्री में नहीं है, तो वाहन का एलाइनमेंट बाहर होने की संभावना रहती है। वाहनों से  एलाइनमेंट बाहर होने के कई कारण है जैसे की स्पीड ब्रेकर वाहन को गति में स्पीड में चलाना, रोड में पड़े बड़े बड़े गड़े में वाहन चलाना, वाहन का व्हील किसी चीज से टकराना और अन्य। इन कारणों के कारण टायर की लाइन बाहर होती है मतलब टायर मिस लाइन होते है।

बुश में वाहन के सस्पेंशन सिस्टम के संचालन में काम आने के कारण वाहन का एलाइनमेंट बाहर होता है।  नट बोल्ट ढीले होने के कारण पहिया का एलाइनमेंट बाहर  होता है। वाहन को 1 हजार से दो हजार किलोमीटर तक चलाने के बाद वाहन में एलाइनमेंट बाहर होता है।

वाहन का एलाइनमेंट सही करने के तरीके -  When and how to wheel alignment

वाहन के एलाइनमेंट को सही करने के लिए, कुछ सेटिंग है जो वाहन के एलाइनमेंट को सही बनाती है। 
  • केम्बर :-यह वाहन का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा है जिसके माध्यम से यह वाहन के एलाइनमेंट को सही करता है। केम्बर वाहन से सीधे रहता है, टायर सड़क से सीधा होना चाहिए, तभी वाहन का अलाइनमेंट ठीक होता है। 
  • नेगेटिव केम्बर :- वाहन चलाने से पहले वाहन के टायर को ध्यान से जाँच करे। जाँच करते समय, ध्यान रखें कि टायर का ऊपरी हिस्सा अंदर की तरफ झुका होगा, तो आपके वाहन का अलाइनमेंट ठीक नहीं है। यदि वाहन का टायर अंदर की ओर झुका हुआ है तो टायर के अंदर की तरफ का  हिस्सा चिकना होगा, इससे वाहन का एलाइनमेंट बिगड़ जाता है।
  • पॉजिटिव केम्बर :-वाहन के टायर की जाँच करते समय, ध्यान रखें कि टायर का ऊपरी भाग अधिक निकला है, तो टायर का बाहरी भाग चिकना होगा, जिससे गाड़ी चलाने में बहुत परेशानी होगी। इससे वाहन में अलाइनमेंट का काम आ सकता है।
  • टो - एंगल :- पहला वाहन के सामने के टायर आगे की तरफ झुके हुए हैं तो इसे टो-इन कहा जाता है।  वाहन के सामने के टायर बाहर की ओर झुके होते हैं, तो  इसे टो-आउट कहा जाता है।
  • टो-इन और टो-आउट के नुकसान :- अगर वाहन के टायर टो-इन और टो-आउट अधिक है तो वाहन के टायर बहुत ही जल्द चिकने हो जायेगे। लंबे समय तक चलने वाले वे टायर जल्दी से चिकने हो जाएंगे।

स्टीयरिंग खिंचाव पर ध्यान दें - Focus on steering stretch

वाहन चलाते समय वाहन स्टीयरिंग पर ध्यान दें। देखें कि वाहन का स्टीयरिंग एक तरफ तो नहीं खींच रहा है। यदि वाहन का स्टीयरिंग किसी भी एक तरफ खींच रहा है, तो समझिये वाहन एलाइनमेंट से बाहर हो गया है।

व्हील अलाइनमेंट कैसे करें- How to wheel alignment

वाहन को अलाइनमेंट करने के लिए जहां टायर की अच्छी दुकान में एलाइनमेंट किया जाता है। जहा कंप्यूटर के माध्यम से अलाइनमेंट किया जाता है या नहीं, यह देखे।
  • वाहन के चार टायरों में सेंसर लगाए जाते हैं, जो कार के मॉडल के अनुसार प्रोग्राम में सेट किया जाता है। जिसके माध्यम से मेनुफेक्चर द्वारा रीडिंग मशीन में पहले से ही मौजूद रहती हैं।
  •  जैसे ही कोई वाहन  एलाइनमेंट में जाती है, एलाइनमेंट मशीन में वाहन के मॉडल की मेनुफेक्चर की सिफारिश की जाती है। जिसमें कैस्टर एंगल और केम्बर की सभी जानकारी पहले से ही जमा होती है।
  • कंप्यूटर स्क्रीन पर सेंसर के माध्यम से वाहन के बारे में सभी जानकारी कंप्यूटर स्क्रीन पर दिखाई देती है।
  • कंप्यूटर स्क्रीन पर एलाइनमेंट की रीडिंग दो रंगों में दिखाई देती  है, एक हरा रंग दूसरा लाल रंग।
  • हरा रंग का मतलब है कि यह सही है, इसमें कोई काम नहीं है।
  • लाल रंग का मतलब है, कि इसमें कुछ बदलाव करना है और इसमें काम है।
  • एलाइनमेंट तकनीशियन वाहन में जो बदलाव करना जैसे कि केम्बर, कोस्टर एंगल, टो-इन और टो-आउट अन्य चीजों में सुधार करते है।
  •  केम्बर , कोस्टर एंगल्स,टो -इन और टो-आउट में बदलाव करने के बाद, कंप्यूटर स्क्रीन पर वाहन का परिणाम हरे रंग में दिखाई देता है।
  • वाहन का एलाइनमेंट तभी पूरा होता है जब वाहन की रीडिंग हरे रंग में दिखाई देती है।
  • ध्यान रखें कि जब भी वाहन का एलाइनमेंट पूरा हो जाता है, तो यह एक एलाइनमेंट पर्ची दिया जाता है और इसे वाहन में रखे।
मौलिक शब्द

हमें खुशी है कि इस लेख के माध्यम से, हमारे पाठकों को वाहनों का एलाइनमेंट कब और कैसे करना है, इसके सभी विवरण मिल गये है और आशा है कि आप सभी के लिए यह लेख सहायक साबित होगा। अगर इस लेख से संबंधित कोई टिप्पणी है, तो जरूर करें।अगर आपको यह लेख पसंद आया है, तो इस लेख को अपने साथी और परिचितों के साथ साझा करें।
धन्यवाद।

No comments: