Tuesday, July 2, 2019

भारत के सबसे अमीर राज्यों की सूची -List of India's richest states

प्रिय पाठकों देश के 10 अमीर राज्यों के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं। भारत एक ऐसा देश है जहाँ की संस्कृति अन्य देशों से भिन्न है। सभी धर्मों के लोग एक साथ रहते  हैं। सभी भाषाएं बोली जाती है। जो दूसरे देश में देखने को नहीं मिलता है। इसलिए भारत को सोने की चिड़िया कहा जाता है।


भारत के सबसे अमीर राज्यों की सूची

भारत के 10 सबसे अमीर राज्यों की सूची, देश के 10 अमीर राज्यों का नाम क्या है, देश के अमीर राज्यों में कौन सा राज्य आगे है? जीडीपी के अनुसार, कौन से 10 अमीर राज्यों की सूची बनाई गई है। (List of 10 richest states in India.) यह सभी जानकारी हिंदी में।


भारतीय क्षेत्र के अनुसार, दुनिया का 7 वां सबसे बड़ा देश है।  भारत प्राकृतिक संसाधनों का भंडार है। यह संसाधन देश के विभिन्न राज्यों में है। जिसकी वजह से देश आसमान को छू रहा है। देश को प्रगतिशील देश बनाने के लिए यह 10 राज्यों का सबसे महत्वपूर्ण योगदान हैं। अगर राजकीय कार्य प्रगति के पथ पर आगे बढ़ रहे हैं तो देश भी आगे बढ़ेगा। जीडीपी = उपभोग + सकल निवेश + सरकारी खर्च + (निर्यात - आयात), राज्यों की जीडीपी साल दर साल बढ़ती जा रही है। इसकी वजह से भारत की जीडीपी बढ़ रही है। एक रिपोर्ट के अनुसार यह बात सामने आई है। भारत तेजी से आगे बढ़ रहा है, यह हमारे लिए बहुत खुशी की बात है। यह बात अर्थव्यवस्था के दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण है।

भारत में 29 राज्य और केंद्र शासित प्रदेश भी हैं। भारत एक लोकतांत्रिक देश है। यह जानने के लिए कि कौन सा राज्य अमीर है और कौन सा राज्य गरीब है, हम जीडीपी के माध्यम से आकलन कर सकते हैं। दोस्तों यह लेख हम सभी के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। हम सभी जिस राज्य में रहते हैं, उसकी पूरी स्थिति का पता होना चाहिए। ताकि हम सभी राज्य को आगे बढाने के लिए योगदान कर सके। भारत के 10 अमीर राज्य कौन से हैं? उन राज्यों की जीडीपी वृद्धि क्या है। यह सभी जानकारी इस लेख के माध्यम से जानेंगे।


1 . महाराष्ट्र

भारत के अमीर राज्यों की सूची में महाराष्ट्र का पहला स्थान है। जिसे हम सभी आमचा महाराष्ट्र के नाम से जानते हैं। महाराष्ट्र सांस्कृतिक कला, व्यवसाय और खेल आदि क्षेत्रों से संबंधित है। जीडीपी के अनुसार, महाराष्ट्र 16.8 लाख करोड़ रुपये के साथ सबसे अमीर राज्यों में पहले स्थान पर है। महाराष्ट्र की राजधानी और देश की वित्तीय राजधानी मुंबई है।

ऐसी कई फिल्मी हस्तियां मुख्य रूप से इस महाराष्ट्र राज्य में रहती हैं। 2013-2014 में जीडीपी लगभग 295 मिलियन डॉलर थी। शहरीकरण के रूप में महाराष्ट्र तीसरा राज्य है, जिसकी शहरी आबादी 45% है और ग्रामीण आबादी 55% है। पर्यटक दृष्टि के साथ, सूचना प्रौद्योगिकी के साथ कई उद्योग हैं जो राज्य की प्रगति में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।

2 . उत्तरप्रदेश 

भारत के सबसे अमीर राज्य के सूची अनुसार दूसरा स्थान उत्तरप्रदेश है।उत्तर प्रदेश के जीडीपी विकास अनुपात के अनुसार, वर्तमान में 14.46 लाख करोड़ रुपये हैं। जनसंख्या के मामले में, सबसे अधिक आबादी वाला राज्य उत्तर प्रदेश है। जिसकी राजधानी लखनऊ है। क्षेत्रफल के अनुसार भारत का सबसे बड़ा राज्य उत्तर प्रदेश है।

उत्तर प्रदेश को कृषि प्रधान राज्य के नाम से जाना जाता है। इस राज्य में पर्यटन के बहुत सारे स्थान हैं, यही कारण है कि पर्यटक यहां जबरदस्त मात्रा में घुमने आते हैं। उत्तरप्रदेश में पर्यटन स्थल के साथ, धार्मिक स्थल और विश्व विद्यालय है। जिसने उत्तर प्रदेश को भारत का दूसरा सबसे अमीर राज्य बनाने में योगदान दिया है।

3 . तमिलनाडु 

भारत के अमीर राज्यों की सूची के अनुसार, तमिलनाडु तीसरे स्थान पर है। भारत की अर्थव्यवस्था के मामले में तमिलनाडु तीसरे स्थान पर है। जिसकी वर्तमान जीडीपी वृद्धि अनुपात 13.39 लाख करोड़ रुपये है।तमिलनाडु की राज्य की राजधानी चेन्नई है। यह राज्य अपनी द्रविड़ शैली और मंदिरों, अद्भुत पाक व्यंजनों के लिए प्रसिद्ध है। इन सभी का जीडीपी विकसित करने में विशेष योगदान है।

तमिलनाडु यह एक प्रगतिशील राज्य है। हर साल इस राज्य की जीडीपी ग्रोथ बढ़ रहा है। इसे सबसे प्रगतिशील साक्षरता की दृष्टिकोन से उन्नत राज्य भी कह सकते हैं। तमिलनाडु को मॉडल राज्य के रूप में भी जाना जाता है।

4 . कर्नाटक 

भारत के अमीर राज्यों की सूची के अनुसार, कर्नाटक चौथे स्थान पर है। कर्नाटक राज्य का जीडीपी विकास अनुपात 12.80 लाख करोड़ रुपये है। इस राज्य की राजधानी बेंगलुरु है। इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी के नाम से इस राज्य को जाना जाता है। इस राज्य में सबसे ज्यादा आईटी हब हैं। इस वजह से इस राज्य की जीडीपी हर साल बढ़ रही है। भारत की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने और आईटी क्षेत्र में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत को मजबूत बनाने में इस राज्य का अतुलनीय योगदान है। बेंगलुरु को सिलिकॉन वैली के नाम से भी जाना जाता है।

5 . गुजरात 

भारत के अमीर राज्यों की सूची के अनुसार, गुजरात पांचवें स्थान पर है। गुजरात राज्य में कृषि संबंधी सभी सामग्री बनाने की विशेषज्ञता है। गुजरात के राज्य का जीडीपी अनुपात 12.75 लाख करोड़ रुपये है। गुजरात के अहमदाबाद शहर को भारत के मैनचेस्टर के रूप में जाना जाता है। गुजरात की राजधानी गांधीनगर है। गुजरात को महात्मा गांधी के जन्मस्थान के रूप में भी जाना जाता है।

गुजरात राज्य व्यापारिक दृष्टिकोण से सबसे अच्छा राज्य है। इस राज्य की जीडीपी हर साल बढ़ रही है, जो राज्य के लिए अच्छी खबर है।

6 . पश्चिम बंगाल

भारत के अमीर राज्यों की सूची के अनुसार, पश्चिम बंगाल 6 वें स्थान पर है। पश्चिम बंगाल की जीडीपी विकास दर 9.20 लाख करोड़ है। पश्चिम बंगाल की अर्थव्यवस्था ज्यादातर किसानों और मध्यम वर्ग के व्यवसाय पर आधारित है। भारत की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए इस राज्य का एक महत्वपूर्ण योगदान है। पश्चिम बंगाल में 20% चावल और 35% आलू का उत्पादन किया जाता है।

पश्चिम बंगाल में पर्यटन केंद्र के रूप में भी जाना जाता है। हावड़ा ब्रिज, चिड़ियाघर और सबसे पुरानी मेट्रो ट्रेन और आकर्षक चीजें आदि घुमने के लिए हैं। कोलकाता पश्चिम बंगाल की राजधानी है।

7 . राजस्थान 

भारत के अमीर राज्यों की सूची के अनुसार, राजस्थान सातवे स्थान पर है। राजस्थान की वर्तमान जीडीपी विकास दर 7.50 लाख करोड़ है। राजस्थान में देश का सबसे बड़ा रेगिस्तान है और सबसे गरम राज्यों में से यह एक है। इस राज्य में कृषि के लिए पर्याप्त वातावरण नहीं है। राजस्थान की सबसे अधिक आय पर्यटकों के माध्यम से होती है।

जयपुर राजस्थान की राज्य की राजधानी है जिसे गुलाबी शहर के रूप में जाना जाता है। राजस्थान राज्य को प्रगति के पथ पर आगे बढ़ाने का कार्य इस राज्य के पर्यटन स्थल है। इस राज्य में बड़ी संख्या में विदेशी पर्यटक आते हैं।

8 . तेलंगाना 

भारत के अमीर राज्यों की सूची के अनुसार, तेलंगाना राज्य का आठवां स्थान है। यह प्रदेश पहले आंध्रप्रदेश राज्य में था। आंध्र प्रदेश राज्य से अलग होने के बाद भी, तेलंगाना राज्य जीडीपी की विकास दर 7.50 लाख करोड़ रुपये  है। यह राज्य औद्योगिक क्षेत्र में अच्छी प्रगति कर रहा है। तेलंगाना राज्य का जीडीपी प्रतिवर्ष बढ़ते जा रहा है।

तेलंगाना राज्य की राजधानी हैदराबाद है, यह राज्य 2 जून 2014 को आंध्र प्रदेश से विभाजित किया गया था। यह एक कृषि प्रधान राज्य है। यहाँ आम, गन्ना, कपास, तम्बाकू आदि उगाए जाते हैं। इस राज्य में बड़ी संख्या में उद्योग, कई दवाओं की कंपनियां हैं। जो जीडीपी के माध्यम से तेलंगाना राज्य को ऊंचाई प्रदान करता है।

9 . केरल 

केरल भारत के अमीर राज्यों की सूची में 9 वां स्थान बनाने में कामयाब रहा है। इससे पहले, अमीर राज्यों की सूची में केरल का नाम नहीं था। केरल की अर्थव्यवस्था मछली पकड़ने और खेती पर निर्भर है। केरल की वर्तमान जीडीपी विकास दर 7.48 लाख करोड़ रुपये है। भारत की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने में केरल का विशेष योगदान है।

केरल में, मछली का व्यवसाय मुख्य रूप से बड़ी मात्रा में किया जाता है। केरल चाय के उत्पादन के लिए भी प्रसिद्ध है, जिसे देश में विदेशों में निर्यात किया जाता है। केरल में घूमने के लिए कई पर्यटन स्थल हैं, यह राज्य विदेशी पर्यटकों का दौरा रहता है। इन माध्यमों से, इस राज्य की जीडीपी विकास दर हर साल बढ़ रही है।

10 . मध्यप्रदेश 

भारत के अमीर राज्यों की सूची के अनुसार, मध्य प्रदेश 10 वें स्थान पर है। मध्य प्रदेश भारत के नक्शे के बीच में है, इसलिए इस राज्य को देश का दिल कहा जाता है। मध्य प्रदेश की जीडीपी वृद्धि दर 7.35 लाख करोड़ रुपये है। मध्य प्रदेश देश का दूसरा सबसे बड़ा राज्य है और भोपाल मध्य प्रदेश की राजधानी है। इंदौर मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा शहर है। 2010-11 में मध्य प्रदेश को राष्ट्रीय पर्यटन पुरस्कार का खिताब मिला।

मध्य प्रदेश धीरे-धीरे अपनी जीडीपी विकास दर बढ़ाने में लगा हुआ है। यह राज्य कृषि प्रधान के साथ-साथ एक पर्यटन स्थल के लिए भी जाना जाता है। इस राज्य में पुरातन कलाकृतिया का उल्लेख भी किया गया है।भारत को आर्थिक रूप से मजबूत करने में मध्य प्रदेश का उत्कृष्ट योगदान है।

NOTE: राज्य की अच्छी स्थिति रहे हैं, हर साल जीडीपी विकास दर बढ़ने के साथ देश को इसका सीधा फायदा होता है। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत की मजबूती प्रदान करने का काम इन राज्यों को जाता है।



पाठको के लिए कुछ शब्द
हमें उम्मीद है कि आपको इस लेख के माध्यम से अपने राज्य की स्थिति के बारे में सभी जानकारी मिल गई होगी। यदि आपके पास इस लेख से संबंधित कोई प्रश्न या सुझाव है, तो कमेंट करके बताये। यदि आप अपने दोस्तों और परिचितों को अपने राज्य की स्थिति बताना चाहते हैं, तो कृपया इस लेख को साझा करें।धन्यवाद।

No comments: