Friday, July 19, 2019

चालाकी से बाते करना सीखे - Learn to talk smartly

दोस्तों आज के लेख में हम आपको बताएँगे लोगो के साथ चालाकी से बात कैसे करे या किस तरह हम अपनी बात करने की कला से पूरी दुनिया जित सकते है. साथ ही चालाकी क्या है यह सभी जानकारी एक लेख के रूप में आपको बताने जा रहे है. लेकिन इस लेख की शरुवात में हम जानेंगे की बात करने की शुरुवात कैसे करे. ( Learn to talk smartly )



चालाकी से बाते करना सीखे

 चालाकी से बात कैसे करे? अपनी बातो से लोगो को अपनी तरफ कैसे आकर्षित करे? यह सभी जानकारी आप इस लेख के माध्यम से जानेंगे क्योकि चालाकी से बात करने के तरीके से आप कैसे अपने आप को सफल बना पाएंगे? यह सभी जानकारी हिंदी में प्रस्तुत है.

चालाकी से बाते करना सीखे -  Learn to talk smartly

प्रिय पाठकों, आज हम आपको इस लेख के माध्यम से सामने वाले व्यक्ति के साथ चालाकी से बात करने के बारे में बताने जा रहे हैं. जब भी हम किसी अनजान व्यक्ति से बात करते हैं, तो हमें चालाकी से बात करनी चाहिए. यदि हम उस अनजान व्यक्ति के साथ चालाकी से बात नहीं कर सकते हैं, तो हम जल्द ही उस व्यक्ति से घेरे आ जाएंगे. अगर ऐसा होता है तो हमारा ही नुकसान होता है. तो हम आपको इस लेख के माध्यम से बताएंगे कि चालाकी से कैसे बात करें।

बात करने की शुरुवात कैसे करे
किसी भी व्यक्ति से बात करने के लिए ज्यादा सोचने की आवश्यकता नही है. लेकिन कभी कभी यह होता है की हम किसी अजनबी से बहुत अधिक आकर्षित हो जाते है. परन्तु हम उस व्यक्ति से बात करने के लिए बहुत अधिक सोच लेते है. जैसे उससे बात कैसे करू, बात करने की शुरुवात कैसे करू, कही वह व्यक्ति हमारे बारे में गलत तो नहीं सोचेगा, इस तरह से सोचने के कारन आप उस व्यक्ति से कभी बात नही कर पाएंगे.


इसलिए ज्यादा सोचने की आवश्यकता नही है. बात करने की शुरुवात अच्छे और सिंसिअरली करे. जब आप बात करने की शुरुवात करेंगे तो आपको सबसे पहले हाय या हेलो से शुरुवात करनी चाहिए और उसके बाद आप अपना नाम और उस व्यक्ति से उनका नाम पूछ ले. इसी तरह आप कम शब्दों में बाते करके जैसे वह कहा से आया है इस तरह आप बात करने की शुरुवात कर सकते है.

बात करने के लिए खुद को कैसे प्रेरित करे

बात करने और किसी व्यक्ति या सभा में बोलने के लिए आपमें बोलने की कला भी होना आवश्यक है. क्योकि कई बार यह देखा जाता है की कुछ लोग अपनी बोलने की कला से ही लोगो का मन मोह लेते है. कुछ लोग अपनी बात करने की टेक्निक से लोगो को प्रेरित करते है. दुनिया में ऐसे कई हस्तिया है जो निम्नलिखित व्यक्ति है. जैसे संदीप महेश्वरी, एपीजे अब्दुल कलाम, स्वामी विवेकानंद, कैलाश सत्यार्थी, लता मंगेशकर इत्यादि.

बाते करने के लिए जब खुद को प्रेरित करना हो तो आप इनमे से किसी भी व्यक्ति की किताबे या इनके सोशल मीडिया में कुछ वीडियो आपको प्रेरित कर सकते है. लेकिन कुछ जगह आपको बात करने में हिचकिचाहट होती है. ऐसे स्थानों में आपको कुछ बाते चालाकी से करनी पड़ती है. ऐसे स्थिति में किसी से बात करने की इच्छा नही होती तो ऐसे स्थिति में हमें चालाकी करनी पड़ती है. तो आइये जानते है की चालाकी से बात करने की कुछ टिप्स.

चालाकी से बात करने की टिप्स - Learn to talk smartly

कोई भी बात करने से पहले सोचे 

  • जब आप किसी व्यक्ति से बात करते है तो आपको सबसे पहले यह जानना जरुरी है की वह क्या बोलना चाहते है. यदि आप खुद ही अकेले बात करते रहेंगे तो वह व्यक्ति आपके बारे में सभी चीजे जान जायेगा. इसलिए जब भी आप किसी से बात करते है तो सबसे पहले उस व्यक्ति की बातो को ध्यान से सुने और उसके बाद उसके बातो का जवाब दे. इस तरह बात करने से वह व्यक्ति आपके बारे में अच्छा सोचेगा.

तर्क संगत के अनुसार बात करना  -  Learn to talk smartly

  • किसी भी व्यक्ति से बात करने से पहले तर्क करना आवश्यक है यदि आपबिना किसी तर्क के बात करेंगे तो यह आपके लिए आधार हिन् माना जायेगा. किसी भी बात को बोलने से पहले आपको आपको उस बात की सत्यता को साबित करते आना चाहिए. आपको जिस विषय के बारे में जानकारी है उन्ही के बारे बाते करे फालतू बाते करने से आपको गलत समझा जाएगा. लेकिन जब आप अपनी तर्क से बात करना शुरू करेंगे तो आपको ज्यादा जानकारी प्राप्त करने की आदत हो जाएगी.


टूटे हुए MP3 CD की तरह बात करना 

  • यह बहुत ही अनोखा और मजेदार तकनीक है जिसे (ब्रोकन रिकॉर्ड तकनीक) भी कहा जाता है इस तकनीक में, जब आपसे किसी ने वह सवाल किया जिसका जवाब आप नही देना चाहते है लेकिन आपको जवाब देना भी आवश्यक है. तब आप ब्रोकन रिकॉर्ड तकनीक का इस्तेमाल कर सकते है. यदि आपकी कोई खास दोस्त थी और आप दोनों ही एक ही कॉलेज में पढ़ते है लेकिन किसी कारण से आपका उसके साथ लढाई हो गई और आप दोनों एक दुसरे से बात नही कर रहे है.
  • ऐसे में आपका कोई दोस्त आपसे यह पूछता है की, क्या तुम दोनों अब भी उसी कॉलेज में पड़ते हो? तो आपको जवाब यह होगा की, हाँ हम अब भी वही कॉलेज में पड़ते है और हम अपनी पढाई अच्छी तरह कर रहे है. इसी तरह वह उसी वाक्य से जुड़ता हुआ पूछे तो आपका वही समान जवाब होना चाहिए. इस तरह वह व्यक्ति एक तो शांत होकर बैठ जाएगा या वहा से उठकर चला जाएगा.

पैरोट तकनीक   

  • यह तकनीक बहुत ही लाभदायक और चालाकी वाली है. जब आप किसी व्यक्ति से बात करने के मूड में नहीं हो लेकिन आपको लगता है की आपको उससे बात करना चाहते है तो यह तकनीक बहुत काम आएगी. इसमें आपको सामने वाले के अंतिम तिन या दो शब्द पकड़ना होगा. जैसे आपने पूछा की आप कहा से आ रहे हो? वह कहता है की मई अभी थेटर से आ रहा हु. तो आपको उसके अंतिम शब्द को पकड़ना होगा थेटर.
  • यह सुनने के बाद वह कहेगा की हाँ बहुत अच्छी मूवी थी, तब आपको फिरसे वही अंतिम शब्द बोलना है अच्छी मूवी थी, इसी तरह आप उस मूवी के बारे में भी जान पाएंगे और वह व्यक्ति बोर भी नही होगा. इस तरह आप वक्त भी निकल जाएगा.

बाते कम करे और ज्यादा सुने 

  • यह बहुत ही अच्छी तकनीक है. इस तकनीक के माध्यम से आप अपनी बुद्धिमत्ता को साबित कर सकते है. कोई भी बाते करने से पहले सभी की बाते सुन ले. जरुरत पड़ने पर ही बात करे. यदि कोई दूसरा व्यक्ति बात करते समय फालतू बाते और ज्यादा बाते करता है तो उससे दुरी बनाये. ऐसा करने से वह आपकी अहमियत समझेगा और जब भी वह व्यक्ति आपसे मिलेगा तो वह कोई भी बाते सोच समझकर ही करेगा.
मौलिक शब्द 

हमें खुशी है कि इस लेख के माध्यम से कई लोगों को स्मार्ट तरीके से बात करना सीख गये होगे. अगर यह लेख आपके लिए फायदेमंद साबित हुआ है, तो इस लेख को अपने सहपाठियों और परिचितों के साथ साझा करें. इसके अलावा, यदि आपके पास इस लेख से संबंधित कोई प्रश्न या सुझाव है, तो हमें लिखित रूप में लिखें और भेजें।

धन्यवाद

No comments: