Wednesday, April 24, 2019

घर में बैठे बैठे मिट्टी के घड़े से कूलर बनाएं. Ghar Me Baithe Baithe Mitti Ke Ghade Se Cooler Banaye.


घर बैठे मिट्टी के घड़े से कूलर कैसे बनाएं. ( Ghar Baithe Mitti Ke Ghade se Cooler Kaise Banaye.)

मिटटी के घड़े से कूलर बनाने के लिए कौन कौन सी चीजे लगेंगी. ( Mitti Ke Ghade se Cooler banane ke liye koun koun chije lagengi. )


घर में बैठे बैठे मिट्टी के घड़े से कूलर बनाएं


नमस्ते दोस्तों मेरा नाम देव है. Indiandewa.Com में आप सभी का तहेदिल से स्वागत है. आज हम, इस लेख में जानेंगे की मिट्टी के घड़े से कूलर बनाने का तरीका . यह कूलर टिकाऊ और उपयोगी कैसे होंगे. मध्यम वर्ग के व्यक्तियों के लिए कूलर कितने फायदेमंद होंगे. मिट्टी के घड़े से कूलर बनाने के लिए कौनसी चीजे लगेंगी और इसे किस तरह बनाया जाएगा तो इसकी विस्तृत जानकारी के लिए इस लेख को पुरा पढ़े.

घर बैठे कूलर बनाएं

गर्मी का नाम सुनते ही कई लोगों के शरीर में आग जल जाती है. हमारे देश का भौगोलिक वातावरण ऐसा है कि अधिकांश राज्यों में अधिक गर्मी है. हर मौसम के फायदे और नुकसान हैं. गर्मियों में, जहां हमें आम और आइसक्रीम खाने को मिलते हैं. हम सभी पसीने और लू से परेशान हो जाते हैं. सभी दिशाएं प्रज्वलित होती दिखाई देती हैं, पक्षी पानी की तलाश में घूमते हैं. गर्मी के गर्म दिन उपहार न होकर दंड हैं. यह सहन शक्ति से परे होते हैं. इस मौसम में बस यात्रा करना नरक की यात्रा जैसा लगता है. लेकिन जिस तरह से गर्मी के मौसम में नुकसान होता है, उसके कुछ फायदे भी हैं.

गर्मियों के मौसम में, वातावरण में ठंडी जलवायु के कारण फंसने वाले कई कीड़े पर्यावरण द्वारा नष्ट हो जाते हैं. और हमें थोड़े समय के लिए बीमारियों से राहत मिलती है. इस मौसम में हमें आम जैसे रसीले फल खाने को मिलते हैं. जिसका नाम सुनते ही मुंह में पानी आने लगता है. कई तरह के शरबत, लस्सी, गन्ने का रस, नारियल पानी, ठंडा पानी दिमाग को बहुत भाता है.

गर्मियों में, शरीर आलसी होता है और काम नहीं करता है. ठण्डे स्थान पर रहने को मन करता है. अमीर लोग शिमला, मसूरी जैसे हिल स्टेशनों पर जाते हैं. मध्यम वर्ग के लोग घरों में कूलर, पंखे, एयर कंडीशनर लगाकर गर्मी को दूर करते हैं. और इसके साथ साथ में ही महंगाई भी बहोत ज्यादा बढ़ रही है. इस भीषण गर्मी में मध्यम वर्ग के लोग महंगाई से लड़ने के लिए बहुत संघर्ष करते है. गर्मी से राहत देने वाले उपकरण भी महंगे हो रहे हैं. मध्यम वर्ग और गरीब लोग कई बार इस तरह के महंगे उपकरण लेने के बारे में सोचते हैं.


इस तरह के महंगे उपकरण खरीदने से बचने के लिए, हमने मध्यम वर्ग के बजट के बारे में सोचते हुए घर पर ही कूलर बनाने का तरीका बनाया है. दुकान से खरीदे गए अधिकांश कूलर महंगे हैं और करंट का झटका लगने का डर रहता है. घर में बैठे बैठे और सबसे कम बजट में कूलर बनाये और यह करंट के झटके से बचने के लिए काफी उपयोगी है. तो हम जानेंगे कि मिट्टी के घड़े से कूलर बनाने के लिए किन चीजों की आवश्यकता होती है.


मिट्टी के घड़े से कूलर और एसी बनाने के लिए, निम्नलिखित चीजों के बारे में जानेंगे

  • एक नया मिटटी का घडा.
  • उपकरण बॉक्स ( Tool Box).
  • छेद करने के लिए ड्रिल मशिन.
  • घड़े के आकर का हार्ड बोर्ड.
  • चार छोटे 3 इंच के पंखे.
  • आरी का ब्लेड.
  • गम गन ( ग्लू चिपकाने के लिए.)
  • टाई-ब्लॉक बेल्ट बैंडेज फैन को अच्छी तरह से जोड़ने के लिए.
  • चार बोल्ट
  • 12 एम्पीयर एडॉप्टर.
  • घड़ा रखने के लिए स्टैंड.

मिट्टी के घड़े से कूलर बनाने का आसन तरीका जानेंगे

सबसे पहले हमें एक एक इंच की दूरी पर ड्रिल मशिन से छेद करना होगा.छेद इतने करना है की उस घड़े से हवा बाहर आ सके और गर्मी को दुर करे. और ज्यादा बड़े छेद नही करना है. घड़े के आकार का हार्ड बोर्ड लें, जिसमें 3 इंच वाले 4 पंखे को आराम से फिट कर सके. हार्ड बोर्ड पर पंखे का आकर बनाना है और उसके बाद पंखे फिट करने के लिए बोर्ड को आरी के ब्लेड से काटना है इसलिए हार्ड बोर्ड को काटना है,की पंखे की हवा घड़े के छेद से बाहर आ सके.


बोर्ड को काटने के बाद, पंखे को फिट करने के लिए हार्ड बोर्ड पर गम गन से गम लगाए. ताकि पंखे फिट करते समय वह पंखे आसानी से चिपक सके. इसके बाद हार्ड बोर्ड और पंखे के मजबूती को बनाये रखने के लिए टाई-ब्लॉक बेल्ट पट्टी को लगाना है ताकि हार्ड बोर्ड से पंखे इधर उधर न हो इस लिए पट्टी का उपयोग किया जाता है. ब्लॉक पट्टी लगाने के बाद में पंखे के वायर को जोड़ना होंगा. जैसे की + वाली वायर को + में जोड़ना है और - वाली वायर को - में जोड़ना होंगा.

हार्ड बोर्ड के चारो कोनो पे छेद करना है, इसलिए छेद करना है की हार्ड और पंखे से जोडकर बोल्ट डालना है. बोल्ट डालना पड़ता है ताकि पंखे को घड़े के मुंह के उपर रखा जाता है. वहा से हार्ड बोर्ड वाले पंखे घड़े पर से इधर उधर ना हो इसलिए बोल्ट को लगाया जाता है. इसके बाद 12 एम्पीयर एडॉप्टर ले और पंखे के वायर से जोड़ दे. वायर जोड़ने के बाद, एक बार पंखे की जांच करें. इसके बाद घड़े को स्टैंड पर रखे और उसमे छेद के निचे तक पानी भरे. ध्यान रखे की छेद के उपर तक पानी न आये. घड़े में पानी डालने के बाद में पंखे को घड़े के मुह के तरफ लगाये. इसके बाद एडॉप्टर को इलेक्ट्रिक बोर्ड में लगाए और चालु करे.लो आपका मिट्टी के घड़े का कूलर तयार हो गया है.



यदि आप हमारी जानकारी को पसंद करते हैं, तो आप इसे अधिक से अधिक साझा करे ताकि किसान इसका लाभ प्राप्त कर सके। यदि इस योजना के तहत कोई सुझाव या प्रश्न है, तो टिप्पणी लिखकर भेजें।
धन्यवाद

No comments: