Friday, April 5, 2019

आचार संहिता की सभी जानकारी। All information about Code of Conduct

आचार संहिता क्यों लागू करी जाती है। (Aachar Sanhita kyo laagu kari jaati hai.)

 आचार संहिता का महत्त्व क्या है। (Aachar Sanhita ka mahttv kya hai.) आचार संहिता के नियम कौनसे है। (Aachar Sanhita ka mahttv kya hai.)  Why code of conduct is implemented. What is the importance of Code of Ethics? 



आचार संहिता की सभी जानकारी।


नमस्ते दोस्तों indiandewa.com में आपका स्वागत है। हम जानेंगे की आचार संहिता की सभी जानकारी। यह जानकारी हम सभी नागरिकों के लिए लाभदायक हो सकती है। आचार संहिता का महत्त्वता।   आचार संहिता में क्या होता है,कैसे रहा जाता है। आचार संहिता में कौनसे नियमों का पालन किया जाता है।आचार संहिता का महत्त्वता।


आचार संहिता कब सुरु हुई।

चुनावी पहल शुरू होते ही हर दिमाग में एक बात होती है, आचार संहिता। आचार संहिता शुरू हो जाएगी, लेकिन कुछ ही लोग जानते हैं कि आचार संहिता क्यों लागू की जाती है। तो हम आपको आचार संहिता की सुरवात बताएंगे। वर्ष 1960 में केरल विधानसभा चुनावों में आचार संहिता की शुरुआत हुई थी। भाषण और राजनीतिक दलों को सुचना देने लिए आचार संहिता बनाई गई थी। लोकसभा चुनावों के वर्ष 1962 के दौरान, आचार संहिता को सभी राजनीतिक दलों और राज्य सरकार की इच्छा से स्वीकार और अपनाया गया था।

चुनाव आयोग ने 1979 में आचार संहितामें कुछ बदलाव किया गया। सत्ता में रहने वाली पार्टी को नियमित करने और चुनाव के दौरान अनुचित लाभ को रोकने के लिए एक खंड जोड़ा गया था।साल 2013 में सुप्रीम कोर्ट ने Election commission को मुखपत्र जारी किया और कहा गया की 2014 के सभी आम चुनाव में आचार संहिता  को लागू किया जाए।


 

आचार संहिता का महत्व

आचार संहिता यह चुनाव के समय लागू करी जाती है। चुनावी नियमों का पालन करने के लिए आचार संहिता लागु की जाती है। आचार संहिता में सार्वजनिक धन का इस्तेमाल किसी ऐसे कार्य में नहीं होगा जिससे किसी विशेष राजनीतिक दल या राजनेता को फायदा हो। अगर किसी राजनैतिक दल को रैली निकालना हो या सभा मंडप भराना हो तो उन्हें पुलिस की अनुमति लेनी होंगी। आचार संहिता में कोई भी सरकार के अंदर होने वाले सरकारी काम नही होते।

 
आचार संहिता का पालन चुनावी उमेदवार को ही नहीं बल्कि आम जनता को भी करना होता है।
आचार संहिता में कोईभी सरकारी गाडी, सरकारी बंगला और सरकारी विमान उपयोग चुनाव के लिए नहीं किया जा सकता है।आचार संहिता के राजनैतिक दलों को किसी भी जात या धर्म के नाम पर वोट नही मांग सकते। 



आचार संहिता के कुछ नियम 


रैली निकालने के नियम 

  • रैली निकालने की अनुमति पुलिस प्रशासन से लेनी चाहिए। व्यापक रूप से निकालने का समय, शुरू होने की जगह और मार्ग बता दे।
  • रैली निकालने की जगह जहां पर ज्यादा ट्रैफिक ना होता है।
  • चुनावी रैली दाहिने तरफ से निकालना होंगा। 
  • दो राजनैतिक दलों की रैली अगर एक ही दिन एक ही मार्ग पर है तो पुलिस प्रशासन को पहले ही बता दे। 
  • रैली में ऐसे कोई भी सामान का उपयोग न करे,जिससे दंगा फसाद होने डर हो। 
  • रैली निकालते समय पक्ष के ही नारे लगाये न की कोई भी धर्म के बारे में गलत बोले। 


 बैठक के नियम

  • राजनैतिक बैठक के लिए जगह और समय के बारे में पुलिस प्रशासन को बता दे। 
  • बैठक के स्थान पर ध्वनि-विस्तारक यंत्र ( Loudspeaker ) की अनुमति लेना अनिवार्य है। 
  • बैठक के आयोजक में कोई भी व्यक्ति अडचन तथा तकलीफ निर्माण कर रहा हो,उसके लिए पुलिस की मदत ले। 

सामान्य नियम 

  • कोई भी पक्ष किसी भी जाती और धर्म का मतभेद की घृणा न पैदा करे। 
  • राजनैतिक पक्षों के आलोचनात्मक कार्यक्रम व नीतियां तक रहे,ना की वह व्यक्तिगत हो। 
  • धार्मिक जगह का उपयोग चुनाव प्रचार के लिए न करे। 
  •  कोई भी पक्ष के बैठक तथा रैली में अडचन न डाले। 

मतदान करने के संबधित नियम 

  •  पक्ष के कार्यकर्ताओ को पहचानपत्र बनाकर दे। 
  • मतदान दिन और उसके 24 घंटे पहले कोई भी मद्यपान न बांटे। 
  • मतदान स्थल के पास लगाये जाने वाले शिविर में भीड़ न होने दे। 
  • मतदान दिन गाड़ी चलाने वाले चाक से गाडी का परमिट प्राप्त कर ले। 
  • शिविर साधारण होना चाहिए। 
  • मतदान दिन दिए जाने वाले पर्ची पर किसी भी पक्षका चिन्ह अथवा नाम नहीं चाहिए।

चुनाव संबधित सरकारी अधिकारियो के लिए नियम 

  • अगर कोई मंत्री अपने निजी निवास में रुकते है और वह सरकारी अधिकारी को बुलाये तो न जाये। 
  • चुनाव संबधित कोई भी काम से राजनैतिक मंत्री के साथ बाहर न घुमे। 
  • जिस अधिकारी duty लगी है ,उन्हें छोडकर किसी भी राजनैतिक दल की सभा अथवा रैली में न जाए। 
  • कोई भी राजनैतिक दल के साथ भेदभाव न करे। 

राजनैतिक दल के लिए नियम 

  • रेस्ट हाउस, पोस्ट ऑफिस या सरकारी आवास पर कोई एकाधिकार नहीं है।
  • राजनैतिक दल के काम में सरकारी मशीनरी और कर्मचारियों का उपयोग न करें।
  • कैबिनेट मंत्री की बैठक न भरवाये
  • हैलीपैड अधिकार न जताए.  
  • चुनावी गतिविधियों में शिकायत का मौका न दें।
  • जब वे सर्किट हाउस में होते हैं तो मंत्रियों की सरकारी यात्राओं पर पहरा दिया जाएगा।    

अगर आपको हमारा यह संदेश अच्छा लगा तो आप हमे टिप्पणी लिखकर भेजे। 

धन्यवाद।

No comments: