Friday, July 27, 2018

घर बनाने के बाद वास्तु के अनुसार कोनसी चीजे कहा रखे। (ghar banane ke baad waastu ke anusaar konsi chije kaha rakhe.)

वास्तु के अनुसार कैसे बनाये अपना घर। (waastu ke anusaar kaise banaye apna ghar) घर बनाने के बाद वास्तु के अनुसार कोनसी चीजे कहा रखे। (ghar banane ke baad waastu ke anusaar konsi chije kaha rakhe.)  वास्तु के अनुसार कैसे  चुनना चाहिए अपने लिए घर। (waastu ke anusaar kaise chunana chahiye apne liye ghar .) After making the house, what things are said according to waastu .How to choose the house according to Vaastu .
 वास्तु के अनुसार अपना घर


हेलो दोस्तों कैसे हो आप सब। आप सब ठीक तो होंगे ही क्यों की हम आपके सेहत के साथ साथ आपके घर के वास्तु और स्कूल इत्यादी इन सभी चीजों के बारे में जानकारी लेकर के आते है। यह सभी जानकारी आपके लिए बहुत ही उपयोगी है और आपके परिवार मित्रजनों के लिए भी बहुत ही लाभदायक है। इस बार हम यह जानकारी लेकर आये है की अपना घर कैसे बनाये वास्तु के अनुसार।

वास्तु के अनुसार अपना घर ⟾

आप सब को पता है की वास्तु के अनुसार घर बनाना बहुत ही अनिवार्य है। अगर हमने वास्तु के अनुसार घर नहीं बनाया तो हमारे घर में वास्तु दोष हो सकता है उससे हमारे घर में कई सारी परेशानी आ सकती है। मानसिक और आर्थिक परिस्थिति की परेशानी आ जाती है जिससे हमारे परिवार को बहुत दिक्क्त होती है। घर खरीद ते वक़्त हमे वास्तु के अनुसार देखना चाहिए।
घर के चारो कोनों सही होना चाहिए , कोई भी कोना कही से कटा नहीं होना चाहिए। अगर कोना कही से कटा होतो तो उससे हमारे घर में परेशानी आती है। मानसिक और आर्थिक परेशानी आने से हमारा मन कोई भी काम में नहीं लगता है। हम अपने घर में सीढ़िया बनाते है परंतु किसी को भी ये नहीं पता है की हमे अपने घर में सीढ़िया कैसे बनाना चाहिए। घर सीढ़िया हमेशा घड़ी के दिशा में घूमने वाली होनी चाहिए अगर हम वैसे सीढ़िया बनाते है तो हमारा समय अच्छा चलता है घर में कोई भी परेशानी नहीं आती है और हमेशा सीढ़िया पश्चिम और दक्षिण बनानां चाहिए।

किचन किस दिशा में होना  ⟾

दोस्तों हम घर बनाते है परंतु हमारे लिए किचन बहुत जरूरी है क्यों की वही हमारे घर में शांति बनाये रखता है। किचन अगर सही दिशा और सही जगह बन जाए तो कोई परेशानी नहीं आती है। हमे अपने घर का किचन उत्तर -पश्चिम दिशा  या फिर दक्षिण - पूर्व दिशा में रहना चाहिए। अगर हम यह सही दिशा में अपना किचन बनाते है तो हमारे घर में सुख - शांती बनाये रखता है।

मास्टर बेडरूम की दिशा

हम अपने घर में मास्टर बेडरूम बनाते है पर हमे नहीं पता है की हमे वास्तु अनुसार बेडरूम की दिशा कोणती है और किधर अपना बेडरूम बनाना चाहिए। मास्टर बेडरूम की हमेशा दिशा दक्षिण - पश्चिम होनी चाहिए।     अगर हम कोई घर खरीदते है तो वह उस  घर की दिशा जांच ले की वह घर वास्तु के अनुसार है या नहीं।घर लेते वक़्त घर की दिशा दक्षिण - पूर्व होना चाहिए।

टॉयलेट की दिशा  ⟾

घर बनाते समय हम अपने घर में टॉयलेट -बॉथरूम  बनाते ही है और यह दोनों चीजे घर में रहना अनिवार्य है।
अगर टॉयलेट - बॉथरूम की दिशा सही नहीं होंगी तो हमारे घर में पैसे कि कमीं होती है।  उससे हमारे घर में  मानसिक और आर्थिक परेशानी आती है।  दोस्तों आप सभी अपने घर में टॉयलेट उत्तर - पश्चिम  दिशा में होना चाहिए।

वास्तु दोष के उपाय  


➤ दोस्तों आपको तो पता है की हम जब घर बनाते है तो हमारे घर के ऊपर से इलेक्ट्रिक तार जाते है।  दोस्तों बहोत से व्यक्तोयों को ये नहीं पता है की इलेक्ट्रिक तार जाने से हमारे घर में वास्तु दोष और  नकारात्मक ऊर्जा  हो सकता है। उस दोष का निवारण भी है दोस्तों हमे तार के प्रभावित क्षेत्र के कोने से एक प्लास्टिक का पाइप लगाए जो की उस पाइप में चुना लगा होना चाहिए। दोनों कोने के तरफ से तीन फुट पाइप  निकलना चाहिए।  छत के ऊपर से जो इलेक्ट्रिक तारो में से जो नकारात्मक ऊर्जा निकलती है तो वह ऊर्जा अपने घर में नहीं आएँगी।

  ➤ दोस्तों कभी कभी हमारे से बहोत सी गलती होती है जो की हमारे परिवार को भुगतान करना पड़ता है। जैसे की टॉयलेट -बाथरूम ,सीढ़िया और किचन ये सभी चीजे हम गलत दिशा में बना देते है। इससे हमारे घर में नकारात्म्क ऊर्जा आती है। तो इसके लिए हमे अपने घर के सभी चीजों को तोड़ फोड़ करके बदलवा देते है जिस की वजह से हमे पैसो की भी हानी होती है। इन सभी गंभीर समस्या के लिए हमे जो की हम अपने घर में तोड़ फोड़ करके नया  स्ट्रक्चर तयार करने से बचने के लिए और कुछ गंभीर दोषों के लिए हमे क्रिस्टल पिरामिड का ईस्तेमाल करना चाहिए इससे हमारे घर के दोष का निवारण हो जाएगा।

घर खरीदने के कोणते दोषों को आप  ठीक करते कर सकते हो। 


➢ घर की पेटिंग और फ्लोरिंग को बदल सकते है। 
➢ टॉयलेट और बेसिन की दिशा को बदलना।
➢खाना बनाने की दिशा को बदलना। 
➢पूजा घर को सही दिशा में रखना। 
➢ फर्नीचर को सही दिशा में रखना। 

दोस्तों अगर आपको हमारा यह संदेश अच्छा लगा तो आप हमे टिप्पणी (comments ) लिखकर भेजे। 

धन्यवाद।  

No comments: