Tuesday, June 25, 2019

डिजिटल बैंकिंग के प्रकारों के बारे में अधिक जानें - Learn more about the types of digital banking

Written by  
डिजिटल बैंकिंग का उपयोग कैसे किया जाता है। डिजिटल बैंकिंग कितने प्रकार की होती है। डिजिटल बैंकिंग क्या है? क्या डिजिटल बैंकिंग आम नागरिकों के लिए उपयोगी है? (What is digital banking?)



डिजिटल बैंकिंग के प्रकारों के बारे में अधिक जानें

दोस्तों आज का युग एक डिजिटल युग है और हम सभी के लिए बहुत उपयोगी साबित हो रहा है। डिजिटल दुनिया के बारे में जानने के लिए भी बहुत कुछ है। इसी तरह आज हम डिजिटल पर एक लेख प्रदर्शित करने जा रहे हैं। क्या आप सभी डिजिटल बैंकिंग के बारे में जानते हैं? नहीं जानते न तो आज हम इस लेख के माध्यम से कुछ मुख्य प्रकार के डिजिटल बैंकिंग के बारे में बताने जा रहे। ऊपर दी गई जानकारी जानने के लिए कृपया इस लेख को ध्यान से पढ़ें।

डिजिटल बैंकिंग क्या है? - What is digital banking?

डिजिटल बैंकिंग एक ऐसी सुविधा है जो आम जनता को घर बैठे उपलब्ध होती है। डिजिटल बैंकिंग से आप घर पर कई काम आराम से कर सकते हैं। डिजिटल बैंकिंग का उपयोग मोबाइल, लैपटॉप और कंप्यूटर पर बैठकर आसानी से किया जाना चाहिए, इसलिए सरकार द्वारा डिजिटल बैंकिंग शुरू की गई है। डिजिटल बैंकिंग को नेट बैंकिंग, इंटरनेट बैंकिंग और ऑनलाइन बैंकिंग जैसे कई नामों से जाना जाता है।

डिजिटल बैंकिंग में क्या काम किए जाते हैं?
  • खाते की शेष राशि की जांच कर सकते हैं। 
  • आप डिजिटल बैंकिंग से खरीदारी कर सकते हैं।
  • डिजिटल बैंकिंग से बिल भुगतान भी कर सकते हैं। 
  • अपने खाते का विवरण पीडीएफ प्रारूप में डाउनलोड कर सकते हैं।
डिजिटल बैंकिंग के प्रकार के बारे जाने

एटीएम कार्ड बैंकिंग :- ATM Card Banking

ATM (ऑटोमेटिक टेलर मशीन) यह एक बैंक द्वारा उपलब्ध कराई गई मशीन है। जिसमें हम एटीएम कार्ड का उपयोग करते हैं। आपने एटीएम में पैसे निकालने और डालने के लिए कई बार लोगों को कतार में देखा होगा। एटीएम के माध्यम से, अधिकांश लोग अपने आर्थिक व्यवहार का भुगतान करते हैं। यदि आपके पास नकदी नहीं है, तो आप एटीएम कार्ड से भुगतान कर सकते हैं और भुगतान के बाद भुगतान की रशीद ले, ताकि आप जान सकें कि आपने कितने का भुगतान किया है। इसके साथ आप पेट्रोल पंप दुकान और अन्य कई जगह एटीएम कार्ड से भुगतान कर सकते है।

रूपए कार्ड, वीजा कार्ड, मास्टर कार्ड और प्लैटिनम कार्ड जैसे विभिन्न प्रकार के एटीएम कार्ड हैं। इस कार्ड का उपयोग करने की सीमा अलग है और इस कार्ड का उपयोग विभिन्न क्षेत्रों में किया जाता है। जैसे की आप किसी shoping माल में जाते है और कोई चीज खरीदते है और एटीएम कार्ड से भुगतान करते है तो आपको वहा कुछ % कॅश बेक मिलता है। ATM Card द्वारा भुगतान करना बहुत फायदेमंद होता है, जिसके कारण नकद राशी खोने का डर नहीं होता है, क्योंकि ATM कार्ड का आकार नकद राशि के अनुसार छोटा होता है और इसे आसानी से कही पर भी ले जा सकते हैं।


इंटरनेट बैंकिंग :- Internet banking

इंटरनेट बैंकिंग क्या है और इसका उपयोग कैसे किया जाता है? यह सवाल आपके मन में कई बार उठा होगा। तो आइए जानते हैं इंटरनेट बैंकिंग के बारे में, यह एक ऐसी बैंकिंग है, जो बैंक के बहुत से कामों के लिए एक माध्यम है। जिसके कारण ग्राहक को शाखा में नहीं जाना पड़ता है। अगर आपके पास स्मार्टफोन, लैपटॉप और कंप्यूटर हैं, तो आप ईनके माध्यम से इंटरनेट बैंकिंग के सभी काम कर सकते हैं। यदि आपके पास एक यूजर नेम और पासवर्ड है, तो आप आसानी से इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग कर सकते हैं।

इंटरनेट बैंकिंग के लिए, आपको ऑनलाइन पंजीकरण करना होगा या आप अपनी निकटतम शाखा से सहायता ले सकते हैं। पंजीकरण करने के बाद, यदि आपको Username और password मिलता है, तो इसे अपनी डायरी में लिखकर रखें ताकि यह हमेशा याद रहे। ध्यान रखें कि आप अपना पासवर्ड न भूलें, लेकिन अगर आप भूल जाते हैं तो डरने की कोई बात नहीं है, आप फिर से पासवर्ड बना सकते हैं।

इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग करने के तरीके

दोस्तों, अगर आपने इंटरनेट बैंकिंग के लिए पंजीकरण कर लिया है और आपको User name और Password मिल गया है, तो चलिए इंटरनेट बैंकिंग के निम्नलिखित तरीकों के बारे में जानते हैं।
  • सबसे पहले अपने स्मार्टफोन में इंटरनेट बैंकिंग एप्लिकेशन इंस्टॉल करें। 
  • इंस्टॉल हो जाने के बाद, उस एप्लिकेशन को खोलें।
  • इंटरनेट बैंकिंग के एप्लीकेशन को खोलने के बाद, आपको यूजर नेम और पासवर्ड का विकल्प मिलेगा, उस विकल्प में यूजर नेम  नाम और पासवर्ड दर्ज करे। 
  • यूजर नेम नाम और पासवर्ड दर्ज करने के बाद, लॉगिन विकल्प पर क्लिक करें।
  • लॉग पर क्लिक करते ही इंटरनेट बैंकिंग शुरू हो जाएगी।
  • इसके के बाद आपको माय अकाउंट, फंड ट्रांसफर, ई-डिपॉजिट, टॉप अप रिचार्ज, बिल भुगतान, Quick transfer जैसे कई विकल्प दिखाई देंगे।
  • आप इन सभी विकल्पों को अपने उपयोग में ले सकते हैं।

इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग करते समय सावधानी बरतें

  • किसी सार्वजनिक स्थान पर और नेट कैफे में, किसी के सामने इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग न करें। 
  • किसी के सामने अपने यूजर नेम और पासवर्ड को अंकित न करें।
  • एकांत में इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग करें।
  • अपने यूजर नेम और पासवर्ड को हमेशा गुप्त रखें, किसी को न बताएं।
  • पैसे भेजते समय, खाता संख्या, IFSC CODE और कई अन्य चीजों की पुष्टि करके पैसे भेजें।
  • पासवर्ड हमेशा याद रहे ऐसा रखे और ट्रिक्स पासवर्ड रखें। 
  • इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग करने के तुरंत बाद लॉगआउट करें।

 इंटरनेट बैंकिंग के फायदे 

  • इंटरनेट बैंकिंग से बार-बार बैंक जाने की झंझट नहीं है।
  • बैंक की लंबी लाइन में खड़े होने का झंझट दूर हो जाती है।
  • खाते के बारे में सारी जानकारी इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से प्राप्त हो जाती है।
  • खाते के लेन-देन का विवरण आसानी से घर बैठे देखा जा सकता है।
  • किसी भी वस्तु का भुगतान इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से किया जा सकता है।

 AEPS बैंकिंग :- Aadhar Enabled Payment System 

AEPS एक ऐसी बैंकिंग है जिसके पास स्मार्टफोन नहीं है या ऑनलाइन बैंकिंग में विश्वास नहीं है। यह उन लोगों के लिए बनाई गई लेनदेन सेवा है, जिन्हें आधार के माध्यम से तत्काल राशि की आवश्यकता होती है। AEPS बैंकिंग सेवा में आधार कार्ड से राशि निकालने वाले व्यक्ति का फिंगरप्रिंट लिया जाता है।

जानिए AEPS बैंकिंग का उपयोग कैसे करें

  • AEPS बैंकिंग शुरू करने के लिए, सबसे पहले आधार कार्ड को बैंक खाते से लिंक करना होगा।
  • आधार इनेबल्ड करने लिए नजदीकी बी.सी एक्सेस पॉइंट जाये। (Beneficiary customer access point)
  • आपको बीसी एक्सेस प्वाइंट से माइक्रो एटीएम डिवाइस दिया जाएगा।
  • इस माइक्रो एटीएम डिवाइस के जरिए आप फंड ट्रांसफर, कैश डिपॉजिट, विड्राल और बैंक खातों की जानकारी यह सभी सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं।
  • लाभ प्राप्त करने के लिए, बैंक IIN, आधार संख्या और बैंक का नाम बताएं।
  • लेन-देन को पूरा करने के लिए बायोमेट्रिक सिस्टम के माध्यम से फिंगरप्रिंट लिया जाता है। 

AEPS बैंकिंग के लाभ 

  • आप AEPS के माध्यम से किसी भी बैंक से पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं।
  • पैसे निकालने के लिए आपको न तो पिन की जरूरत है और न ही हस्ताक्षर की, केवल आपके फिंगरप्रिंट की जरूरत है।
  • AEPS को एक माइक्रो-एटीएम की आवश्यकता होती है, आप इस एटीएम को कई भी आराम से ले जा सकते हैं।
  • AEPS का उपयोग एक बड़े दुकानदार कर सकता है।
  • बैंकिंग संवाददाता AEPS के माध्यम से दूर के स्थान से भी बैंकिंग सेवा प्रदान कर सकता है।

स्मार्ट कार्ड बैंकिंग :- Smart card banking

स्मार्ट कार्ड डिजिटल बैंकिंग में उपयोग किया जाने वाला एक छोटा लेनदेन वाहन है। इसके जरिये आप किसी भी वस्तु का भुगतान करके आसानी से खरीद सकते हैं। जैसे ऑनलाइन शॉपिंग, यात्रा टिकट, होटल बुक और फाइनेंस आप इस कार्ड के माध्यम से यह सब कर सकते हैं।

स्मार्ट कार्ड बैंकिंग के फायदे 

  • टिकट बुकिंग की लंबी लाइन से छुटकारा पाएं।
  • टिकट बुकिंग की लंबी लाइन से छुटकारा पाएं।किसी भी यात्रा की टिकट को स्मार्ट कार्ड से बुक करने पर कुछ% छूट मिलती है।
  • ऑनलाइन शॉपिंग के बाद, आप आसानी से राशि का भुगतान कर सकते हैं।

मोबाइल बैंकिंग :-  mobile banking

मोबाइल यह हमारे वर्तमान जीवन का एक अभिन्न अंग है। मोबाइल के जरिए हम घर से कई काम आराम से कर सकते हैं। जैसे, मोबाइल बैंकिंग के माध्यम से घर बैठे सभी बैंकिंग लेनदेन किए जा सकते हैं। मोबाइल बैंकिंग की शुरूआत एसएमएस के माध्यम से की गई थी। लेकिन डिजिटल की दुनिया में सभी लेन-देन अब इंटरनेट के माध्यम से ऑनलाइन किए जा रहे हैं। मोबाइल बैंकिंग के लिए कई तरह के ऐप का इस्तेमाल किया जाता है जैसे कि Google पे, UPI, पेटीएम, फोन पे और मोबाइल बैंकिंग क्षेत्र में यह सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाले ऐप है।

मोबाइल बैंकिंग पंजीकरण कैसे करें

  • अब आप MBSREG लिखकर अपने पंजीकृत मोबाइल नंबर 9223440000 पर भेजें। 
  • इसके बाद एंड्रॉयड मोबाइल में  State Bank Freedom ऐप डाउनलोड और इंस्टॉल करें
  • कुछ समय बाद आपको मोबाइल पर SMS के माध्यम से एक यूजर आईडी और MPIN मिलेगा।
  • स्टेट बैंक फ्रीडम का आवेदन खोलें और यूजर आईडी और MPIN दर्ज करें और लॉग इन करें।
  • लॉग इन करने के बाद, MPIN बदलने का एक विकल्प आया होगा तथा आप अपने पसंदीदा MPIN को रख सकते हैं।
  • अब इस ऐप को बंद करें और इसे फिर से खोलें और अपने नए MPIN के साथ लॉग इन करें। अब आप लॉग इन नहीं होंगे क्योंकि हमारा  जीपीआरएस शुरू नहीं था। 
  • जीपीआरएस शुरू करने के लिए, एक एसएमएस आएगा और उसमें दिए गए निर्देशों के अनुसार आगे बढ़ें।
  • उसमे आपको एक SMS RESEND भेजना होता है जैसे की “MPSC 59655” लिख कर “999999999” पर भेज देना है। 
  • जब आप यह एसएमएस भेजेंगे तो आपका पंजीकरण पूरा हो जाएगा, लेकिन यह सेवा शुरू करने के लिए एटीएम कार्ड की आवश्यकता होगी।

पाठकों के लिए कुछ शब्द
हमें उम्मीद है कि आपको इस लेख के माध्यम से डिजिटल बैंकिंग के बारे में जानकारी मिली होगी। अगर आपको यह लेख पसंद है, तो इस लेख को अपने मित्र के साथ साझा करें ताकि वे डिजिटल बैंकिंग के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकें। यदि आपको इस लेख के लिए कोई सवाल या सुझाव है तो हमे कमेंट करके बताये।

धन्यवाद।

Friday, June 21, 2019

जानिए पोस्ट ऑफिस की खास योजनाओं के बारे में - Know about the special plans of the post office

Written by  
आज के आधुनिक युग में पैसे का विशेष महत्व है।हर छोटी, बड़ी बुनियादी चीज के लिए पैसे की जरूरत होती है। हर व्यक्ति पैसा बचाना चाहता है। लेकिन उन व्यक्तियों में से कुछ को यह नहीं पता है कि पैसे का निवेश कहा करना चाहिए ताकि उन्हें भविष्य के लिए अच्छा पैसा मिले।


जानिए पोस्ट ऑफिस की खास योजनाओं के बारे में

क्या आप भविष्य के लिए पैसा इन्वेस्ट करना चाहते हैं? इसके लिए  पोस्ट ऑफिस की योजना आपके लिए फायदेमंद है। आज का हमारा विषय है पोस्ट ऑफिस में पैसा जमा करके भविष्य में इसका लाभ कैसे उठा सकते हैं?  पोस्ट ऑफिस की योजनाओं को जानने के लिए, इस लेख को पूरा पढ़ें।

बैंकों की तुलना में डाकघर उपयोगी

क्या आप SBI, HDFC, PNB, ICICI AUR PRIVATE BANK में निवेश करते हैं? उदा. यदि आप FIXED DEPOSIT को किसी भी बैंक में जमा करते हैं, तो आपको पैसा दोगुना करने के लिए 11 साल का इंतजार करना होगा। पोस्ट ऑफिस में इस एफडी के खुलने से सिर्फ नौ साल में पैसा दोगुना हो जाता है। आप बैंकों में किसी भी स्कीम में अपना पैसा लगाते हैं, आपको यहां कम ब्याज मिलेगा। सभी बैंकों की तुलना में डाकघर की सभी योजनाओं में अधिक ब्याज मिलता है।


1.पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट अकाउंट - Post Office Time Deposit Account


यह योजना पांच साल की है और आपके पास इसमें चार विकल्प उपलब्ध हैं। आपके सुविधा के अनुसार 1 से 4 साल की मैच्योरिटी योजना चुन सकते हैं। पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट वास्तव में एफडी का एक रूप है।

पोस्ट ऑफिस में 1 साल से लेकर तो 5 साल तक की अवधि के लिए निवेश कर सकते है। इसमें ब्याज दर वर्ष के अनुसार निर्धारित की गई है। निम्नलिखित ब्याज दर है।
  • एक साल के लिए - 6.9 %
  • दो साल के लिए - 7.0 % 
  • तीन साल के लिए - 7.2 %
  • पांच साल के लिए - 7.8 %

इस योजना के लाभ - Benefits of this plan

👉 इस योजना में ऑटोमेटिक नवीनीकरण भी होता है। यदि आपने 1 वर्ष के लिए डिपॉजिट किया है और एफडी की अवधि समाप्त होने के बाद मैच्योरिटी नहीं करते हैं, तो यह स्वचालित Reneval हो जाता है। लेकिन पोस्ट ऑफिस में कोर बैंकिंग की सुविधा होनी चाहिए।

👉अगर आपने 5 साल के लिए पैसा जमा किया है और आपको एक साल के बाद पैसे की जरूरत है तो आप उस पैसे को निकाल सकते हैं। लेकिन बचत खाते के तहत ब्याज लिया जाएगा।

👉इस योजना में पैसा लगाने के बाद 6 महीने तक पैसा नहीं निकाल सकते।

👉 इस योजना में ब्याज दर तिमाही आधार पर लगाया जाता है। यह चक्रवृधि ब्याज होता है।
 

2 . राष्ट्रीय बचत पत्र - National savings certificate

डाकघर की राष्ट्रीय बचत प्रमाण पत्र यह योजना भारत सरकार द्वारा स्वतंत्रता के बाद शुरू की गई थी। इसका उद्देश्य छोटे निवेशक को आकर्षित करना था।  भारत का कोई भी नागरिक इस योजना का लाभ उठा सकता है। यह योजना बैंक की तुलना में अधिक सुरक्षित है। पहले इसमें 10 साल की सीमा थी लेकिन कुछ बदलाव करने के बाद इस योजना की सीमा 5 साल कर दी गई है। इस योजना को एक लघु योजना भी कहा जाता है। क्योंकि इसमें आपको 100 रुपये से लेकर 10,000 रुपये तक के सर्टिफिकेट मिल सकते हैं।

राष्ट्रीय बचत प्रमाणपत्र के फायदे - Benefits of National Savings Certificate

👉 नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट के लिए उस पर दी गई कीमत के बराबर राशि का भुगतान करना होगा। अब आप पर निर्भर होता है आप कितने मूल्य का खरीदते है।

👉जिस दर पर राष्ट्रीय बचत पत्र लेने के लिए ब्याज दरें लागू हैं, वह लागू होगी।

👉 नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट लेने के बाद, अगर आपको जरूरत है, तो आप किसी भी निजी बैंक और सरकारी बैंक में बचत पत्र रखकर लोन लेने की सुविधा प्राप्त कर सकते हैं।

👉 जिस व्यक्ति के पास नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट है, अगर किसी कारण से उसकी मृत्यु हो जाती है, तो यह राशि उसके नॉमिनी को मैच्योरिटी के बाद दी जाती है।

👉यदि आप 20 साल के लिए राष्ट्रीय बचत बैंक में 1 लाख रुपये का निवेश करते हैं, तो आपको 8% की ब्याज दर के अनुसार 4.80 लाख रुपये का रिटर्न मिलेगा।


➤ विधवा पेंशन योजना की जानकारी

➤ अटल पेंशन योजना की जानकारी 



3 . किसान विकास पत्र - Farmer development letter

यह योजना 1988 में शुरू की गई थी, लेकिन काले धन की शिकायत के बाद इसे 2011 में बंद कर दिया गया था। किसान विकास पत्र यह योजना भारत सरकार द्वारा चलाई जा रही है।  इसका मुख्य उद्देश्य लघु उद्योग है, गाँव का किसान, आम आदमी के निवेश करने का एक अच्छा माध्यम है। यह योजना 2014 में शुरू की गई थी। किसान विकास पत्र में, ब्याज दर अच्छी है, कर की बचत होती है। भविष्य की प्लानिंग इस योजना के माध्यम अच्छे से कर सकते है।  किसान के अलावा सभी वर्ग के लोग इसमें निवेश कर सकते है।

किसान विकास पत्र के तीन प्रकार
  • सिंगल होल्डर सर्टिफिकेट यह पत्र उसी व्यक्ति के नाम पर रहता है। व्यक्ति की मृत्यु के बाद, नामित व्यक्ति को पैसा मिलता है।
  • Joint A टाइप किसान विकास पत्र संयुक्त रूप से दो व्यक्तियों को खरीद सकते हैं। मैच्योरिटी के बाद, दोनों को समान राशि दी जाती है।
  • Joint B Type किसान विकास पत्र joint रूप से दो व्यक्ति खरीद सकते है। लेकिन जब खरीदारी करते समय व्यक्ति का नाम पत्र पर रहता है, तो उसे पहला अधिकार मिलता है और उसे ही राशि मिलती है।

किसान विकास पत्र के फायदे

👉 किसान विकास पत्र एक सरकारी उपक्रम है।इसमें लाभार्थी को प्रमाण पत्र के अनुसार राशि का भुगतान करना होगा। यह राशि सरकार के पास जमा होती है
👉 किसान विकास पत्र में 1000, 5000 और 10,000 या इससे अधिक के विकास पत्र प्राप्त किए जा सकते हैं।

👉किसान विकास पत्र 2016 ऑनलाइन प्रदर्शित किया गया है और ऑनलाइन भी प्राप्त कर सकते हैं

👉 किसान विकास पत्र के लिए ब्याज दर सरकार द्वारा प्रति वर्ष 7.7% तय की गई है।

👉किसान विकास पत्र, 10 वर्ष से अधिक आयु का बच्चा और कोई भी वयस्क व्यक्ति खरीद सकता है।

👉 50,000 से अधिक किसान विकास पत्र लेने के लिए पैन नंबर अनुमान नहीं है। तथा पत्र लेते समय लाभार्थी को पहचान पत्र देना अनिवार्य है। क्योंकि किसान का विकास पत्र खराब है या खो जाने की स्थिति में, इसे पहचान पर्ची के माध्यम से फिर से बनाया जा सकता है।

👉यदि लाभार्थी का पता बदल गया है, तो किसान विकास पत्र को दूसरे डाकघर में स्थानांतरित कर सकते हैं।



हम आशा करते हैं कि यह लेख पाठक के लिए बहुत उपयोगी होगा। यदि इस लेख के माध्यम से आपके कोई प्रश्न या सुझाव हैं, तो कृपया टिप्पणी करके बताये। 
धन्यवाद।

Thursday, June 20, 2019

जानिए, मानव जीवन में योग का महत्व - Know, the Importance of Yoga in Human Life

Written by  
प्रिय पाठकों, आज हम आपके स्वास्थ्य से संबंधित लेख प्रकाशित कर रहे हैं।

 मानव जीवन में योग का महत्व और योग के प्रकार के बारे में बताने जा रहे है। मानव शरीर से बीमारी को कम करने के साधनों में से एक ''योग'' है। योग मानवता के लिए एक योग्य संदेश है। योग वर्तमान समय की सबसे मूल्यवान धरोहर है।

जानिए, मानव जीवन में योग का महत्व

योग के प्रकार क्या है? योग करने के क्या फायदे हैं?  (What are the benefits of doing yoga?) पूरी जानकारी पढ़ें।

21 जून को पूरे देश में योग दिवस मनाया जाता है। देश में योग बहुत लोकप्रिय हो गया है। योग का अर्थ है बांधना या एकता। योग करने से हम अपने शरीर की कई बीमारियों को दूर कर सकते हैं। योग शरीर और मन से संबंधित सभी प्रकार के रोगों और विकारों को दूर करके मनुष्य के जीवन को बेहतर बनाता है।


योग के प्रकार और योग करने की विधि

1. पदमासन करने की विधि

इस आसन को करने के लिए दोनों पैरों को फैलाकर बैठ जाएं। फिर अपने दाहिने पैर को उठाएं और बाये जांघ पर रखें। उसी तरह, अपने दूसरे पैर को ले जाएं और दाहिनी जांघ पर रखें। ध्यान रखें कि कमर और गर्दन दोनों बिल्कुल सीधे हों। दोनों हाथों को ध्यान मुद्रा में रखें।

पदमासन करने के लाभ

1 . यह योग करने से मन एकाग्र रहता है। यह करने से रक्तचाप नियंत्रित रहता है और मांसपेशियां सुंदर होती हैं।
2 . यह आसन आपकी पाचन शक्ति को बढ़ाने में मदद करता है, जिससे कब्ज नहीं होता है और यह वसा को भी कम करता है।
3 . इस आसन से चेहरे के झुरिया कम होते हैं और चेहरा कमल की तरह खिलने लगता है।

2 . स्वस्तिकासन करने की विधि

दोनों पैरों को फैला दें और फिर दाएं पैर को बाईं जांघ के बीच रखें। उसके बाद बाये पैर की दाहिनी जाँघ के बीच में रखे। दोनों हाथों को घुटनों पर रखें और रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें और पूरे शरीर को सीधा रखें।

स्वस्तिकासन करने के लाभ

1 . स्वस्तिकासन को करने से पैरों के दर्द से राहत मिलती है।
2 . इस आसन को रोजाना करने से पैरों में पसीना नहीं आता है और पसीने की बदबू दूर होती है।
3 . यह आसन लिंग और योनि से संबंधित बीमारियों को दूर करने में भी बहुत सहायक है।
1 . वायु रोग को दूर करने में मदद करता है और तन और मन के संतुलन को बनाए रखने में मदद करता है।


3 .शवासन करने की विधि

शवासन यह आराम करने का आसन है। इस आसन के लिए चटाई बिछाकर उस पर लेट जाएं। दोनों पैरों के बीच का अंतर डेढ़ फीट होना चाहिए। दोनों हाथों को शरीर से 6 इंच की दूरी पर रखें। शरीर के सभी हिस्सों को ढीला रखें और आराम से आँखें बंद करें।सांस आराम से लें और सांस लेते हुए शरीर के किसी भी हिस्से को न हिलाएं।इस आसन को करते समय सांस को रोककर रखें ताकि जब भी आप ध्यान केंद्रित कर रहे हों तो आपकी आंखों के बिच में रोशनी दिखाई देंगी।

शवासन करने के लाभ 

1 . यह आसन दिमाग की शक्ति को बढ़ाता है और दिमाग को काफी तेज करता है और आत्मविश्वास भी बनाए रखता है।
2 . डायबिटीज के रोगियों के लिए यह आसन बहुत फायदेमंद है और इनसे बचना भी आसान है।
3 . शवासन करने से मन एकाग्र होता है और शांत होता है।
4 . श्वसन के अभ्यास से थकान और नकारात्मक सोच ठीक हो जाती है।

4 . उत्तानपादासन करने की विधि

इस आसन को करने के लिए शरीर को पीठ के बल लेटना होगा। दोनों पैरों को एक-दूसरे से जोड़कर रखें और दोनों हाथों के पंजे जमीन पर स्पर्श करें। श्वास को धीरे-धीरे लें और पैरों को 30 से 45 डिग्री के बीच रखें, जब तक आप सांस रोक सकते हैं, उसी  समय तक पैर को भी रखें। सांस छोड़ते हुए पैरों को नीचे लाएं।ऐसा कम से कम 9 से 10 बार करें।

उत्तानपादासन करने के लाभ 

1 . यह आसन से पेट के  मोटापे को दूर करने के साथ पेट की आंत को मजबूत करके पाचन शक्ति को बेहतर बनाता है।
2 . यह आसन रोजाना करने से पुरानी कब्ज की बीमारी दूर हो जाती है और भूख बढ़ने लगती है।
3 . पेट की मांसपेशियों को बड़ी ताकत मिलती है, जिससे ऊंचाई बढ़ती है।
4 . यह आसन से पेट से बाहर नहीं निकलता है।
5 . यह आसन आपकी कमर को मजबूत करते हुए कमर दर्द को कम करता है।

भुजंगासन करने की विधि

भुजंगासन को कोबरा नाग का नाम भी कहा जाता है।  इस आसन को करने के लिए चटाई पर पेट के बल लेट जाएं। अपने दोनों हाथों को कमर के पास रखें और हथेली को जमीन पर स्पर्श करें। पैरों के बीच की दूरी कम करें और पैरों को सीधा और तना हुआ रखें। सांस लेते हुए शरीर के सामने के हिस्से को नाभि तक उठाएं और जितना संभव हो उतना ऊपर उठाएं, कमर में खिंचाव न होने दें। सांस छोड़ते हुए, शुरुआती मुद्रा में आए।

भुजंगासन करने के लाभ 

1 . भुजंगासन करने से पीठ की हड्डी को मजबूत बनाता है।
2 . कब्ज की समस्या दूर होती है, गैस की समस्या मिट जाती है। पाचन तंत्र मजबूत होता है और पेट की अतिरिक्त चर्बी को कम करता है।
3 . यदि किसी व्यक्ति को किडनी, लीवर या पेट से संबंधित बीमारियां हैं, तो वह भुजंग आसन करके इन बीमारियों से छुटकारा पा सकता है।
4 . बैठकर काम करने वाले व्यक्तियों के पेट और कमर के आस-पास चर्बी बढ़ जाती है। यदि ऐसे व्यक्ति प्रतिदिन भुजंग आसन करते हैं, तो वसा तेजी से कम हो सकती है।


इस लेख के माध्यम से हमने बताया है कि मानव जीवन के लिए योग कितना महत्वपूर्ण है और उन रोगियों के लिए भी जो किसी बीमारी से पीड़ित हैं। अगर आपको यह लेख पसंद आया है, तो कृपया इस लेख को साझा करें और यदि कोई सवाल या सुझाव है तो टिप्पणी करें।

धन्यवाद।

Monday, June 17, 2019

घर बैठे डिजिटल मार्केटिंग में भविष्य बनाएं - Make a future in digital marketing at home.

Written by  
प्रिय पाठकों, आज हम लेख प्रकाशित करने जा रहे हैं जिससे आप घर बैठे अच्छा पैसा कमा सकते हैं।आपको  यह बताने की कोशिश कर रहे हैं कि आप अपनी आधी उम्र सरकारी नौकरी पाने में बिता देते हैं। उसके बाद, अगर आपको नौकरी नहीं मिलती है तो आप सोचने लगते हैं कि अब क्या करना है?                           



डिजिटल मार्केटिंग क्या है? डिजिटल मार्केटिंग से पैसे कैसे कमाए? पढ़े पूरी जानकारी

आप इस लेख के माध्यम से नौकरी कैसे प्राप्त कर सकते हैं और घर बैठे अच्छे पैसे कैसे कमा सकते हैं। यह सारी जानकारी इस लेख के माध्यम से जानी जाएगी, कृपया इस लेख की सभी जानकारी जानने के लिए शुरुआत से अंत तक पढ़ें।

घर बैठे डिजिटल मार्केटिंग में भविष्य बनाएं

निति आयोग की एक रिपोर्ट में सामने आया है कि 2020 तक डिजिटल स्पेस में 2 लाख से 8 लाख नौकरियां हो सकती हैं। इससे स्पष्ट यह है कि आने वाले समय में डिजिटल मार्केटिंग के क्षेत्र में काम करने वालों की आवश्यकता हो सकती है।

डिजिटल मार्केटिंग क्या है? - What is digital marketing?

Digital marketing आज के युग के लिए हर व्यक्ति के जीवन की एक महत्वपूर्ण व्याख्या है। जिसके लिए हर कोई डिजिटल होने की कोशिश कर रहा है। डिजिटल मार्केटिंग के लिए कंप्यूटर और लैपटॉप के साथ-साथ इंटरनेट की भी आवश्यकता होती है। मोबाइल, कंप्यूटर के माध्यम से वैश्विक स्तर पर अपने उत्पाद या ब्रांड को लाने का एकमात्र तरीका डिजिटल मार्केटिंग है। 

यूरोपीय देशों में सभी वस्तुओं को ऑनलाइन बेचा जाता है। भारत में इसका प्रचलन कम है लेकिन भविष्य में ऑनलाइन खरीदारी की संख्या में भारी वृद्धि होने की संभावना है।डिजिटल मार्केटिंग के क्षेत्र में तकनीकी ज्ञान और प्रशिक्षित लोगो की मांग बढ़ रही है।

Digital Marketing में पैसे कैसे कमाए

आज की युवा पीढ़ी डिजिटल मार्केटिंग के प्रति जागरूक है। लेकिन आपके मन में एक सवाल जरूर आया होगा कि आप घर बैठे पैसे कैसे कमा सकते हैं? इसलिए हम इस लेख के माध्यम से इस सवाल का जवाब देने जा रहे हैं।

१. ऑनलाइन रिपोर्ट, ऑनलाइन ई-बुक लिखें और बेचें 
अगर आप एक अच्छे लेखक है। आप में  तकनिकी ज्ञान है और नई टेक्नोलॉजी जानते है। तो आप अपने लेख के माध्यम से पाठकों को तकनीकी रूप में नई जानकारी से अवगत करा सकते हैं। यदि आप अपने पाठकों के लिए हर विषय के लेख लिखते हैं, तो आपके पास एक लेखक की कला है। ई-बुक एक अच्छे लेखक के लिए उज्ज्वल भविष्य का एक अच्छा मंच है। इस काम में सफलता पाने के लिए धैर्य रखना बहुत जरूरी है। ग्राहक लेखक की अच्छी कला से जुड़ते हैं, एक बार ग्राहक लेखक से जुड़ जाए, तो समझ लें कि आप सफलता के शीर्ष पर पहुंच गए हैं।

२. सोशल मीडिया - Social media
सोशल मीडिया एक बहुत बड़ा नेटवर्क है, जो पूरी दुनिया को जोड़े रखता है। आज फिल्मों और टीवी शो का ट्रेलर सोशल मीडिया के माध्यम से प्रसारित किया जा रहा है। सोशल मीडिया के माध्यम से वीडियो और ऑडियो चैट प्रदान किए गए हैं, जिनमें फेसबुक, व्हाट्सएप, इंस्टाग्राम कुछ प्रमुख प्लेटफार्म हैं।

यदि आप एक नया उत्पाद शुरू कर रहे हैं, आप ब्लॉग के माध्यम से एक पोस्ट लिख रहे हैं। तो आप एक सोशल मीडिया पेज बनाएं और इस पेज में अपने ब्लॉग पोस्ट और कंपनी के उत्पाद को साझा करें। तो आपके पेज से जुड़े पाठकों को यह जानकारी मिल सकती है, यह  पढ़ने और साझा करने से अच्छे पैसे कमाए जा सकते हैं।

३. ब्लॉगर - Blogger
क्या आप जानते हैं कि आपका ब्लॉग क्या है?  डिजिटल मार्केटिंग पैसे कमाने का सबसे अच्छा तरीका है। ब्लॉग के माध्यम से आप लाखों रुपये कमा सकते हैं, लेकिन इतने पैसे कमाने के लिए ब्लॉगर को कड़ी मेहनत करनी होगी। अपने ब्लॉग को सफल और कार्यकारी बनाने के लिए ब्लॉगर्स को महीनों और सालों तक कड़ी मेहनत करनी पड़ती है।

ब्लॉग से पैसे कमाने के लिए ब्लॉगर को रोजाना पोस्ट को पब्लिश करना चाहिए, पोस्ट का विषय अच्छा होना चाहिए, ताकि पाठकों को पढ़ने में रुचि आये, SEO बढ़िया होना चाहिए, ब्लॉग खुलने की स्पीड अच्छी होनी चाहिए, पोस्ट की content quality अच्छी होनी चाहिए ताकि पाठकों को पढ़ने में आसानी हो सभी चीजों को ध्यान में रखना होगा, तभी ब्लॉगर्स अच्छा पैसा कमा सकते हैं।
४. ईमेल मार्केटिंग - Email marketing
ईमेल मार्केटिंग शुरू करने के लिए, आपको पहले कई ई-मेल पतों को जमा करना होगा और सभी ई-मेल पते ऐसे होने चाहिए कि लोग खुलने पर ही अच्छी मार्केटिंग कर सकें। ईमेल मार्केटिंग का उपयोग व्यवसाय विकसित करने के लिए किया जाता है। ईमेल के माध्यम से, आप किसी भी उत्पाद के बारे में सभी जानकारी प्रदान कर सकते हैं और उस उत्पाद की लिंक भी प्रदान कर सकते हैं। लिंक को खोलने से ग्राहक को उत्पाद के बारे में पूरी जानकारी मिलती है।

आज हम आपको कुछ ऐसी वेबसाइट के बारे में बताने जा रहे हैं जहां आप मेल के जरिए पैसा कमा सकते हैं जैसे सेंडर अर्निंग डॉट कॉम, मैट्रिक्स मेल डॉट कॉम, कैश फॉर ऑफर डॉट कॉम, पैसा लाइव डॉट कॉम, मनी मेल डॉट कॉम यह सभी माध्यमों से पैसा कमा सकता है।



५. अमेज़न एफिलिएट - Amazon Affiliate
अमेज़ॅन एप्लेट प्रोग्राम के लिए एक अकाउंट बनाना होगा, आपको कुछ सरल चीजों की आवश्यकता होगी, जैसे कि आपके फेसबुक या किसी अन्य YouTube चैनल या किसी अन्य वेबसाइट होनी चाहिए। यदि आपके पास ये तीन चीजें नहीं हैं, तो आप एक फ्री की  वेबसाइट बनाकर  सकते हैं इसे  एफिलिएट खाते से जोड़ सकते हैं। 

Amazon Affiliate Program अन्य Affiliate Programs की तरह ही काम करता है, आपको Amazon की Website से Product Sales प्राप्त करनी होती है और आपको उन Products पर Commission दिया जाता है। कमीशन दर प्रत्येक उत्पाद और श्रेणी में भिन्न होती है, और कुछ ऐसी शर्तें भी होती हैं जिनके तहत आपको कमीशन मिलता है। आपको एक उत्पाद पर 10% तक कमीशन मिलता है, कुछ पर आपको 4% तक का कमीशन मिलता है।

६. कंटेंट राइटिंग - Content Writing
लेख के विस्तार का सही वर्णन करने के लिए कंटेंट राइटिंग का उपयोग किया जाता है। अगर आप एक अच्छे लेखक हैं तो आप घर बैठे किसी भी ब्लॉगर के लिए कंटेंट राइटिंग लिख सकते हैं। ब्लॉगर हमेशा अच्छे लेखकों के तलाश में रहते है। कंटेंट राइटिंग में अच्छा भविष्य बनाने के लिए लेखक को कड़ी मेहनत करनी होगी ताकि आप एक अच्छा कंटेंट राइटर बनकर अच्छी कमाई कर सकें।

कंटेंट राइटिंग आपके लिए एक अच्छा काम है, जिससे आप घर बैठे अच्छी कमाई कर सकते हैं। कंटेंट राइटिंग करके आप अपना खुद का ब्लॉग लिखकर और अच्छे आर्टिकल लिखकर अच्छी कमाई कर सकते हैं।


हमने इस लेख के माध्यम से पाठकों को घर पर डिजिटल मार्केटिंग से पैसा बनाने का तरीका बताया है। हम आशा करते हैं कि यह लेख आपके जीवन में नया रोजगार प्रदान कर सकता है। यदि आपके पास इस लेख के बारे में कोई प्रश्न या सुझाव है, तो आप हमे कमेंट कर सकते हैं।

धन्यवाद।

Friday, June 14, 2019

एयर इंडिया में केबिन क्रू के पद के लिए आवेदन कैसे करें - How to apply for the post of cabin crew in Air India.

Written by  
एयर इंडिया में केबिन क्रू के पद के लिए आवेदन कैसे करें, केबिन क्रू पद के लिए चयन प्रक्रिया क्या है?

केबिन क्रू की शैक्षणिक योग्यता क्या है? केबिन क्रू की आयु सीमा क्या है? (How to apply for the post of cabin crew in Air India.)

एयर इंडिया में केबिन क्रू के पद के लिए आवेदन कैसे करें

दोस्तों आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि एयर इंडिया में केबिन क्रू के पद के लिए आवेदन कैसे करें। एयर इंडिया में केबिन क्रू का क्या काम है। केबिन क्रू पोस्ट की शारीरिक क्षमता क्या है? केबिन क्रू के पद के लिए चयन कैसे किया जाता है? यह सभी जानकारी जानने के लिए इस लेख को अंत तक जरुर पढ़े.

दोस्तों आप सभी को एयर इंडिया के बारे में पता है कि उसका काम क्या है। लेकिन हम आपको Air India की एक पोस्ट के बारे में बताने जा रहे हैं, जो Air India एक अच्छा कार्यकारी पद है। केबिन क्रू फ्लाइट अटेंडेंट की भूमिका निभाते है। क्या आपको हवा में उड़ने का शौक है। एयर फील्ड में अपना भविष्य बनाना चाहते हैं? अगर आप अंग्रेजी भाषा में स्मार्ट, गुड लुकिंग, डैशिंग, परफेक्ट हैं, तो आप इस पोस्ट के लिए भी आवेदन कर सकते हैं। आपके लिए अपनी प्रतिभा को निखारने का सबसे अच्छा मौका है।

केबिन क्रू का काम यात्रियों को घर जैसा माहौल देना, उनकी सुरक्षा का ख्याल रखना, फ्लाइट का माहौल बनाए रखना होता है। यहां आपको हर प्रकार के व्यक्ति से मिलने, उनके साथ यादगार यात्रा करने का मौका मिलता है। एयर इंडिया महिलाओं के लिए एक अच्छा क्षेत्र है। निम्नलिखित तरीकों से केबिन क्रू चयन प्रक्रिया जानेंगे।


केबिन क्रू पद की लिखित परीक्षा तीन चरणों में होती है

  • पहिला चरण। 
  • दूसरा चरण। 
  • तीसरा चरण। 
परीक्षा के हर चरण में कम से कम 15 से 20 दिनों का अंतर होता है।

केबिन क्रू पद के लिए आयु सीमा - Age range for cabin crew post

  • आवेदक की आयु 18 से 35 वर्ष होनी चाहिए।
  • ST और ST उम्मीदवारों के लिए 5 साल की छूट।
  • OBC उम्मीदवार के लिए 3 साल की छूट।

केबिन क्रू के पद के लिए शैक्षणिक योग्यता - Educational Qualification for the post of Cabin Crew

  • आवेदकों को मान्यता प्राप्त बोर्ड से 10 वीं और 12 वीं पास होना चाहिए।

केबिन क्रू पद का अनुभव - Experience of cabin crew post

  • आवेदक को केबिन क्रू का एक वर्ष का अनुभव होना चाहिए।
  • आवेदक का अनुभव 1.1.2019 तक मान्य होना चाहिए।

केबिन क्रू के पद के लिए शारीरिक क्षमता

  • पुरुष आवेदकों की ऊंचाई कम से कम 172 सेंटीमीटर होनी चाहिए। 
  • महिला आवेदकों की ऊंचाई कम से कम 160 सेंटीमीटर होनी चाहिए।

विजन -  Vision

इस प्रक्रिया में आंखों की जांच की जाती है।
  • (1) N / 5  को सर्वश्रेष्ठ दृष्टि कहा जाता है (Better Eye)।  (2) N/6 एक खराब दृष्टि है (Worst Eye)।  
  • Distance Vision :- दृष्टि के लिए 6/6 आंख अन्य दूसरी आंख 6/9 बेहतर मानी जाती है।
  • केबिन क्रू पद के लिए आंखों के चश्मे की अनुमति नहीं है। इसलिए, आवेदक की दृष्टि अच्छी होनी चाहिए।
  • Contact Lenses + 2D की अनुमति है
Note :) आवेदक की आंखों का ऑपरेशन किया गया है। यह उनके लिए सुचना है: आंखों की रोशनी में सुधार के लिए लसिक सर्जरी की गई है, सर्जरी 6 महीने के हो गई है, इसे मान्यता दी जाएगी।

भाषा - Language :) अंग्रेजी और हिंदी में प्रवाह

  • आवेदकों को अंग्रेजी और हिंदी भाषा का अच्छा ज्ञान होना चाहिए।
  • जो उम्मीदवार एयर इंडिया का संचालन करते हैं, उन्हें किसी भी विदेशी भाषा में प्रवाहित होने पर वरीयता दी जाएगी।

आवेदन कैसे करें - how to apply 

यदि आवेदक इच्छुक है और उपरोक्त जानकारी के अनुसार सही है। उम्मीदवार ऑनलाइन आवेदन कर सकता है। ऑनलाइन आवेदन की जानकारी नीचे दी गई है।
  • आवेदक की ई-मेल आईडी अनिवार्य होना है।
  • आवेदक के पास पासपोर्ट साइज फोटो होना चाहिए। तथा फोटो का साइज़ 10KB से 35KB तक होना चाहिए। यह नमूना JPG/JEPG formate बनाये। 
आवेदन करने के लिए यहाँ क्लीक करे

उम्मीदवार फॉर्म को इस तरह से भरना है,  क्षेत्र का चयन करना और अनुभव दर्ज करना।
http://ota.airindia.in/erecruitmentecc/OnlineApplicationForm.aspx

इसके बाद, उम्मीदवार को जाती की श्रेणी , राज्य, जारी करने की तारीख, जन्म तिथि और उम्मीदवार के पूरा नाम की मार्कशीट की सूची के अनुसार भरना होगा।

इसके बाद, उम्मीदवार को जाती की श्रेणी , राज्य, जारी करने की तारीख, जन्म तिथि और उम्मीदवार के पूरा नाम की मार्कशीट की सूची के अनुसार भरना होगा।

इस प्रक्रिया में उम्मीदवार का पूरा पता, पिता और माता का पूरा नाम, ऊंचाई और वजन, बीएमआई, मेडिकल प्रमाण पत्र।

इस प्रक्रिया में उम्मीदवार का पूरा पता, पिता और माता का पूरा नाम, ऊंचाई और वजन, बीएमआई, मेडिकल प्रमाण पत्र।

इसमें उम्मीदवार को भाषा और दृष्टि के बारे में जानकारी देनी है।

इसके बाद, उम्मीदवार को शैक्षणिक योग्यता और अनुभव डालना है।

इसके बाद, उम्मीदवार को शैक्षणिक योग्यता और अनुभव डालना है


 Medical certificate :) आवेदक के पास मेडिकल सर्टिफिकेट होना जरुरी है। आवेदक का M.B.B.S डॉक्टर से मेडिकल जाँच होना चाहिए। आवेदक की ऊंचाई, वजन, दृष्टि यह सभी सर्टिफिकेट में होनी चाहिए।

👉 आवेदक डॉक्टर के पास से मेडिकल सर्टिफिकेट लेते समय डॉक्टर का नाम, डॉक्टर का रजिस्ट्रेशन नंबर सर्टिफिकेट होना चाहिए। ऑनलाइन आवेदन करते समय और चयन प्रक्रिया के दौरान डॉक्टर के ओरिजिनल मेडिकल सर्टिफिकेट की आवश्यकता होगी।

👉 आवेदक की आंखों के बारे में पूरी जानकारी, कांटेक्ट लेंस के बारे में, आवेदक का ऑपरेशन किया है,पूरी जानकारी चयन प्रक्रिया के दौरान, आंखों के ऑपरेशन से संबंधित दस्तावेजों को मूल प्रमाण पत्र की आवश्यकता होगी।
👉 आवेदक को नॉन-रिफंडेबल डिमांड ड्राफ्ट एयर इंडिया लिमिटेड के नाम से 1000 / - का भुगतान करना होगा। आवेदक दिल्ली, कोलकाता, मुंबई, चेन्नई का नाम बना सकते हैं।
  •  SC/ST कैटगरी के आवेदक के लिए डिमांड ड्राफ्ट अनिवार्य नहीं है। 
एससी / एसटी / ओबीसी / ईडब्ल्यूएस आवेदक के लिए जाति प्रमाण पत्र आवश्यक है।

चयन प्रक्रिया - Selection Process

  • आवेदक का चयन प्रक्रिया के दौरान पहले दस्तावेज के आधार पर मेडिकल किया जाएगा। मेडिकल एग्जाम में, उंचाई और वजन का पूर्ण बॉडी मास इंडेक्स के रूप में लिया जाएगा। इस प्रक्रिया को पास करने के बाद, आवेदक का चयन लिखित परीक्षा के लिए किया जाएगा।

लिखित परीक्षा -Written exam 

  • लिखित परीक्षा सामान्य ज्ञान, तार्किक और गणित पर आयोजित की जाएगी। तांत्रिक रूप से लिखित परीक्षा आयोजित की जाती है। परीक्षा केंद्र का स्थान और समय दोनों वेबसाइटों पर प्रदर्शित किया जाएगा।

रिफंड RETURN 

  • एससी और एसटी उम्मीदवारों को चयन प्रक्रिया के दौरान ट्रेन, बस का रिफंड दिया जाता है। उसके लिए आवेदक को बस और ट्रेन का टिकट संभालकर रखना होगा, यह लिखित परीक्षा के लिए आवश्यक है। आवेदक फॉर्म भरते समय, सही पते की जानकारी देना आवश्यक है।

प्रशिक्षण  - Training

  • उम्मीदवार का चयन पूरा होने के बाद जिस उम्मीदवार का चयन किया गया है। उम्मीदवारों को कंपनी द्वारा तय किए गए स्थान पर प्रशिक्षण के लिए भेजा जाएगा। 

बैंक गारंटी सुरक्षा जमा - Bank guarantee security deposit 

  • जिन उम्मीदवारों का चयन किया गया है।प्रशिक्षण पर जाने से पहले, 1,05,000 / - बैंक गारंटी के तहत एयर इंडिया लिमिटेड के पक्ष में नेशनल बैंक को सुरक्षा जमा रुपये करना अनिवार्य है। 
  • चयनित उम्मीदवार को अलग से 15 हजार रुपये जमा करने होंगे। ताकि वह प्रशिक्षण पर जाने से पहले अपनी वर्दी, प्रशिक्षण सामग्री प्राप्त कर सके। 
  • पांच साल के प्रशिक्षण के दौरान, उम्मीदवार को किसी भी कारण से टर्मिनेट कर दिया जाता है।बैंक गारंटी ऐसे व्यक्ति में लागू होगी, शायद एयर इंडिया लिमिटेड उम्मीदवार को सुरक्षा जमा पर जुर्माना भी लगा सकता है। पांच साल पूरे होने के बाद सिक्योरिटी डिपॉजिट वापस किया जाता है। लेकिन उम्मीदवार को पांच साल का ब्याज नहीं मिलेगा।
हमें उम्मीद है कि उम्मीदवार इस लेख के माध्यम से एयर इंडिया में केबिन क्रू पद के लिए आवेदन कर सकते हैं। यह पता चला है। यदि आपके पास इस लेख के माध्यम से कोई प्रश्न या सुझाव है, तो कृपया इस पर कमेंट करें।