Saturday, October 19, 2019

पेट्रोल इंजन की ईंधन प्रणाली - Petrol engine fuel system

Written by  
पेट्रोल इंजन की ईंधन प्रणाली क्या है? पेट्रोल इंजन की ईंधन प्रणाली किस आधार पर काम करती है? (Petrol engine ki indhan pranaali in hindi) इसके कितने प्रकार है? (Petrol engine fuel system हिंदी में) और पेट्रोल इंजनों की ईंधन प्रणाली से संबंधित सभी आवश्यक जानकारी इस लेख के माध्यम से हिंदी में प्रस्तुत की जा रही है। 



पेट्रोल इंजन की ईंधन प्रणाली


पेट्रोल इंजन ज्यादातर दो पहिया और चार पहिया वाहनों में उपयोग किया जाता है। पेट्रोल इंजन में आने वाले सभी इंजन ज्यादातर अपनी कार्यक्षमता और माइलेज के लिए जाने जाते हैं। यह इंजन ऑटोमोबाइल क्षेत्र में कुशल गति के लिए भी जाना जाता है। पेट्रोल इंजन में कई कार्य हैं जिनके माध्यम से यह काम करता है, इसलिए आज हम आपको "पेट्रोल इंजन की ईंधन प्रणाली" के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं, इसलिए इस लेख को अंत तक पढ़ें। हम आशा करते है कि इस लेख की सभी जानकारी कई लोगों के लिए फायदेमंद साबित होगी।

पेट्रोल इंजन की ईंधन प्रणाली - Petrol engine fuel system


ऑटोमोबाइल सेक्टर में दो तरह के इंजन होते हैं, एक पेट्रोल इंजन और दूसरा डीजल इंजन। इन दोनों इंजनों को उनकी दक्षता और कुशल गति के लिए भी जाना जाता है। पेट्रोल इंजन का स्व-चालित वाहनों में काम करने के लिए, विभिन्न परिस्थितियों में ईंधन की आपूर्ति करना आवश्यक है। इसलिए, ईंधन प्रणाली को इंजन में लगाया जाता है, ताकि इंजन को समय-समय पर ईंधन की ठीक से आपूर्ति की जा सके।



पेट्रोल इंजन ईंधन प्रणाली की जानकारी (Petrol Engine Fuel System Information)


पेट्रोल इंजन में ईंधन की आपूर्ति के लिए विभिन्न सामग्रियों का उपयोग करते हैं। जो पेट्रोल टैंक से इंजन सिलेंडर तक पेट्रोल पहुंचाने का महत्वपूर्ण काम करते हैं। ताकि इंजन को ईंधन की अच्छी आपूर्ति हो सके। पेट्रोल इंजन की यह ईंधन प्रणाली विभिन्न गति से वाहन को पेट्रोल की आपूर्ति करती है और इंजन की दक्षता को भी बढ़ाती है। तो आइए जानते हैं कि पेट्रोल इंजन फ्यूल सिस्टम में किन चीजों का इस्तेमाल किया जाता है। इसके बारे में।

पेट्रोल इंजन ईंधन प्रणाली भाग (the part of Petrol engine fuel system)


पेट्रोल इंजन की ईंधन प्रणाली में पेट्रोल की आपूर्ति के लिए विभिन्न भागों का उपयोग किया जाता है, उनके नाम निम्नानुसार हैं।
  • पेट्रोल टंकी 
  • फ्यूल पंप 
  • फ्यूल फ़िल्टर 
  • फ्यूल गेज 
  • इंधन नली 
  • इनटेक मेनिफोल्ड 
  • कार्बोरेटर इत्यादि।
पेट्रोल इंजन में ईंधन की आपूर्ति करने के लिए पेट्रोल टैंक में पहले पेट्रोल भरा जाता है, यह टैंक स्टील या एल्यूमीनियम मिश्र धातु से बना होता है। ताकि टैंक में भरा पेट्रोल किसी भी तरह से गर्मी से प्रभावित न हो। ईंधन पंप टैंक से पेट्रोल खींचता है और इसे ईंधन फिल्टर को भेजता है और ईंधन फिल्टर में पेट्रोल को साफ किया जाता है। उसके बाद पेट्रोल को इनटेक मेनिफोल्ड के माध्यम से माध्यम से कार्बोरेटर में प्रवाहित किया जाता है।

इंधन प्रणाली के कार्य (functions of Fuel system)


प्रत्येक इंजन में, ईंधन प्रणाली सबसे महत्वपूर्ण काम करती है क्योंकि स्वचालित वाहनों के इंजन में, ईंधन की आपूर्ति के बिना वाहन को एक स्थान से दूसरे स्थान पर संचालित नहीं किया जा सकता है। इसलिए वाहन में ईंधन प्रणाली महत्वपूर्ण है। इंजन ईंधन प्रणाली वाहन में निम्नलिखित कार्य करती है।
  1. इंजन की अलग अलग गति के अनुसार विभिन्न स्थिति में इंजन को आवश्यकता के अनुसार पेट्रोल की आपूर्ति करने का महत्वपूर्ण काम पेट्रोल इंजन की इंधन प्रणाली करती है। 
  2. आवश्यकतानुसार पेट्रोल टैंक में पेट्रोल स्टोर करके रखना।
  3. इंजन को शुद्ध पेट्रोल की आपूर्ति करना। 
  4. वाहन चालक को पेट्रोल टैंक में पेट्रोल है या नही इसकी सुविधा करना। 


पेट्रोल इंजन ईंधन प्रणाली के प्रकार (Types of Petrol Engine Fuel Systems)


अधिकांश पेट्रोल वाहनों में तीन प्रकार के ईंधन सिस्टम का उपयोग किया जाता है। यह प्रणाली वाहन को विभिन्न प्रकार से ईंधन की आपूर्ति करती है। तो आइए पेट्रोल इंजन के ईंधन आपूर्ति प्रणाली के प्रकारों के बारे में जानेंगे।
  • इंधन आपूर्ति ग्रेविटी प्रणाली 
  • इंधन आपूर्ति पंप प्रणाली 
  • इंधन आपूर्ति फ्यूल इंजेक्शन प्रणाली 



ईंधन की आपूर्ति गुरुत्वाकर्षण प्रणाली (Fuel supply gravity system)


इस प्रकार की ईंधन प्रणाली में, ईंधन टैंक कार्बोरेटर के ऊपरी भाग में फिट किया जाता है। यह प्रणाली अपने नाम के अनुसार काम करती है। यह प्रणाली गुरुत्वाकर्षण की शक्ति के कारण ईंधन टैंक से ईंधन कार्बोरेटर तक आती है और वहां से हवा और पेट्रोल का मिश्रण तैयार किया जाता है और इंजन सिलेंडर को भेजा जाता है। इस प्रकार की ईंधन प्रणाली आसान और सरल है और इसका उपयोग ज्यादातर दो पहिया वाहनों में किया जाता है।

इंधन आपूर्ति पंप प्रणाली (Fuel supply pump system)


यह ईंधन प्रणाली अपनी सुविधा के अनुसार कहीं भी स्थापित की जा सकती है। इसमें एक स्टील पाइप ईंधन टैंक से जुड़ा होता है और साथ में एक ईंधन पंप इससे जुड़ा होता है। ईंधन पंप ईंधन टैंक से पेट्रोल को खिचता है और एक लचीले पाइप के माध्यम से कार्बोरेटर के फ्लोट चैम्बर तक पेट्रोल पहुचाता है। यह ईंधन प्रणाली इंजन क्रैंकशाफ्ट या इलेक्ट्रिक पावर के माध्यम से चलाया जाता है।

ईंधन आपूर्ति ईंधन इंजेक्शन प्रणाली (Fuel supply fuel injection system)


इस प्रकार की ईंधन प्रणाली में कार्बोरेटर के अलावा ईंधन इंजेक्शन पंप का उपयोग किया जाता है। इस प्रणाली में, ईंधन को नोजल से ठीक कणों में परिवर्तित किया जाता है और ईंधन इंजेक्शन के लिए हवा के दबाव के साथ छिड़का जाता है। इस प्रणाली में, प्रत्येक इंजन सिलेंडर के लिए अलग-अलग इंजेक्टर बनाए जाते हैं। ये इंजेक्टर इंजन सिलेंडरों को विभिन्न गति से ईंधन की आपूर्ति करते हैं। आधुनिक मोटर वाहनों में आमतौर पर MPFI इंधन प्रणाली का उपयोग किया जाता है।

पेट्रोल इंधन प्रणाली की आवश्यकता (Petrol fuel system requirement)


ईंधन की आपूर्ति प्रणाली इंजन को हवा और पेट्रोल के ज्वलनशील मिश्रण की आपूर्ति का महत्वपूर्ण कार्य करती है। अलग-अलग इंजन की स्थिति में इंजन सिलेंडर में हवा और पेट्रोल का उपयुक्त ज्वलनशील मिश्रण भेजना आवश्यक है। क्योंकि जब इंजन ठंडा होता है, तो इसे शुरू करने के लिए एक समृद्ध मिश्रण की आपूर्ति करना आवश्यक होता है क्योंकि ठंड की स्थिति में पेट्रोल जल्दी से भाप में नहीं बदल जाता है, इसलिए इंजन को एक समृद्ध मिश्रण की आपूर्ति करना आवश्यक है ताकि पेट्रोल का कुछ मिश्रण जल्दी से  भाप में परिवर्तित हो जाए। उसके बाद ही इंजन में अधिक ज्वलनशील मिश्रण तैयार किया जा सकता है।



अनमोल शब्द

प्रिय पाठकों, हमें खुशी है कि यह लेख "पेट्रोल इंजन ईंधन प्रणाली" (Petrol engine fuel system हिंदी में) कई लोगों के लिए उपयोगी साबित हुआ है। इसके अलावा, अगर किसी के पास इस लेख से संबंधित कोई प्रश्न हैं, तो वे हमें टिप्पणी करके पूछ सकते हैं। अगर आपको यह लेख पसंद आया है, तो इसे अपने परिचितों और सहपाठियों के साथ साझा करें।

धन्यवाद

Thursday, October 17, 2019

प्रधान मंत्री आवास योजना में अपना नाम कैसे चेक करे -How to check your name in Pradhan Mantri Awas Yojana 2019 .

Written by  
प्रधान मंत्री आवास योजना 2019 सूची में अपना नाम कैसे देखें। ( Pradhan Mantri Awas Yojana 2019)  प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ लेने के लिए, ऐसे पता करें कि आपका नाम सूची में है या नहीं।  ( How to check your name in Pradhan Mantri Awas Yojana 2019.) 



प्रधान मंत्री आवास योजना में अपना नाम कैसे चेक करे


प्रधानमंत्री आवास योजना क्या है? इस योजना का लाभ कैसे उठाएं? प्रधान मंत्री आवास योजना सूची में अपना नाम कैसे जांचना है, इस बारे में अधिक जानकारी के लिए, इस लेख को पूरा पढ़ें। प्रधानमंत्री आवास योजना 2019. यह सभी जानकारी हिंदी में प्रस्तुत की गयी है।

अमीर हो या गरीब, हर कोई अपने घर में रहने की कल्पना करता है, जहां सभी सुख सुविधा हो। वह अपने परिवार के साथ अपने काल्पनिक घर में बहुत आराम से अपना जीवन बिता सके।  जीवन जीने के लिए, प्रत्येक व्यक्ति के पास रोटी, कपड़ा और मकान हैं ये तीन चीजें होनी चाहिए। इन बुनियादी जरूरतों को देखते हुए मोदी सरकार ने प्रधानमंत्री आवास योजना शुरू की है।

प्रधान मंत्री आवास योजना में अपना नाम कैसे चेक करे - How to check your name in Pradhan Mantri Awas Yojana 2019 .



प्रधान मंत्री आवास योजना 25 जून 2015 को पुरे भारत में शुरू की गई थी। इस योजना को उन गरीबी रेखा वाले लोगों के लिए लागू किया गया है जिनके पास अपना घर नहीं है। और इस योजना का मुख्य उद्देश्य आर्थिक रूप से कमजोर और बीपीएल धारकों को न्यूनतम ब्याज में होम लोन की सब्सिडी प्रदान करना है। आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के पास अपना घर हो।



यह योजना देश के गरीबी रेखा से नीचे गरीब परिवारों को कवर कर रही है। PMAY-C के तहत, लाभार्थियों की एक सूची कुछ दिन पहले जारी की गई है। निम्नलिखित जानकारी के अनुसार, आपको अपना नाम सूची में देखना होगा। तो चलिए जानते हैं लिस्ट में अपना नाम देखने की प्रक्रिया के बारे में।


प्रधानमंत्री आवास योजना क्या है - What is Pradhan Mantri Awas Yojana. 


मोदी सरकार ने पिछड़े वर्गों को आवास की सुविधा प्रदान करने के लिए देश भर में 25 जून 2015 को इस योजना को लागू किया है। आपको बता दें कि कई पिछड़े वर्ग के परिवार हैं जो आर्थिक रूप से कमजोर हैं और अपना घर बनाने में असमर्थ हैं, ऐसे लोगों के लिए, मोदी सरकार ने इस योजना को एक उपहार के रूप में शुरू किया है।

प्रधानमंत्री आवास योजना सूची - How to check your name in Pradhan Mantri Awas Yojana 2019 .


प्रिय लाभार्थियों, हम आपको सूचित करना चाहते हैं कि जिन लाभार्थियों ने इस योजना के लिए आवेदन किया है। उनका नाम इस योजना की सूची में है। वही लाभार्थी इस योजना का लाभ उठा सकते हैं।

जिन्होंने इस योजना का लाभ लेने के लिए आवेदन नहीं किया है और लाभ लेना चाहते हैं, तो जल्द से जल्द आवेदन करें। ताकि इस योजना का लाभ उठाकर आप जल्द ही अपने सपनों का घर बना सकें।

प्रधान मंत्री आवास योजना सूची में अपना नाम ऐसे चेक करें - Check your name in the Prime Minister's Housing Scheme List. 



अभी हर जगह इंटरनेट की सुविधा है, इसलिए आप लैपटॉप और मोबाइल जैसे उपकरणों में योजना सूची देख सकते हैं। तो आइए जानते हैं उन स्टेप्स के बारे में जिनके जरिए आप लिस्ट में अपना नाम देख सकते हैं।









  • उसके बाद चित्र में दिखाए गए चिह्न के अनुसार सर्च बेनेफिसिअरी पर क्लीक करे।
  • सर्च बेनेफिसिअरी पर क्लिक करने के बाद, आपको अपना आधार नंबर दर्ज करना होगा।
  • आधार नंबर दर्ज करने के बाद, आपके नाम के साथ आपकी पूरी जानकारी दिखाई देगी।
  • आपने कब आवेदन किया है और आपको कितने रुपये की सब्सिडी मिली है। और अन्य जानकारी आपको मिलेगी।

इस योजना के लाभ - Pradhan Mantri Awas Yojana 2019  


प्रधानमंत्री आवास योजना, जो आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को घर बनाने के लिए चाहती है, सरकार उन्हें आर्थिक रूप से मदद कर रही है और धनराशि सीधे लाभार्थी के बैंक खाते में जमा कर रही है। सरकार गरीब लोगों को सब्सिडी के रूप में राशि प्रदान कर रही है। तो आइए जानते हैं उन सब्सिडी के बारे में। 

  • आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लोगों की वार्षिक आय 3 लाख होनी चाहिए।  6 लाख रुपये तक की सब्सिडी मिलेगी।
  • निम्न आय वर्ग के लोगों की वार्षिक आय 3 से 6 लाख होनी चाहिए। 6 लाख रुपये तक की सब्सिडी मिलेगी। 
  • प्रथम श्रेणी के मध्यम वर्ग के लोगों की वार्षिक आय 6 लाख से 12 लाख होनी चाहिए। 9 लाख रुपये तक की सब्सिडी मिलेगी।
  • द्वितीय श्रेणी के मध्यम वर्ग के लोगों को 12 लाख से 14 लाख की वार्षिक आय होनी चाहिए। 12 लाख तक की सब्सिडी मिलेगी।

हमें उम्मीद है कि ऊपर दिए गए निर्देशों के अनुसार, आप आवास योजना की सूची में अपना नाम देख पाएंगे।



अनमोल शब्द 

प्रिय पाठकों, हमें खुशी है कि आपको "प्रधानमंत्री आवास योजना" सूची में अपना नाम जानने के बारे में उचित जानकारी मिली है। इस लेख में दी गई जानकारी कई लोगों के लिए फायदेमंद साबित होगी। अगर आपको यह लेख पसंद आया है, तो इस लेख को अपने परिचितों और सहपाठियों के साथ साझा करें।

धन्यवाद। 

हेलो एप से पैसे कैसे कमाए - How to make money with hello app

Written by  
Hello App क्या है और इस ऐप से पैसे कैसे कमाएं? hello app kya hai aur is app se paise kaise kamaye। हैलो ऐप में अपना प्रोफाइल कैसे बनाएं?  इस ऐप में अपना वीडियो शेयर करके पैसे कैसे कमाए? यह सब जानकारी इस लेख के माध्यम से हिंदी में प्रस्तुत की जा रही है। (How to make money with hello app in hindi)






हर कोई घर बैठे ऑनलाइन पैसा कमाना चाहता है और इसलिए वह हमेशा इंटरनेट पर ऑनलाइन पैसे कमाने के तरीके ढूंढता रहता है। लेकिन उनमें से केवल कुछ को ही ऐसा अवसर मिलता है। लेकिन जिन लोगों को यह चीज नहीं मिली है, उन्हें निराश होने की जरूरत नहीं है क्योंकि आज इस लेख में हम आपको उन ऑनलाइन कमाई वाले एप्स में से एक के बारे में बताने जा रहे हैं जिसके बारे में आपने जरूर सुना होगा। जी हां, आज हम आपको "Hello app" के बारे में बताने जा रहे हैं। यदि आप इससे संबंधित अधिक जानकारी चाहते हैं, तो इस लेख को अंत तक पढ़ें। हम आशा करते है कि आप सभी को यह लेख पसंद आएगा।

हेलो एप से पैसे कैसे कमाए - How to make money with hello app in hindi 


हैलो ऐप यह एक सोशल नेटवर्किंग ऐप है जिसमें आप अपने दोस्तों को जोड़कर पैसे कमा सकते हैं। इस ऐप में हर दिन अलग-अलग कार्य होते हैं, जिससे आपके लिए पैसा कमाना आसान हो जाता है। इसमें पैसे कमाना बहुत आसान है, यह एक तरह का रेफरल अर्निंग ऐप है जो आपको कई तरह से कमाई करने का मौका देता है। लेकिन इससे पैसे कमाने के लिए सबसे पहले आपको इसमें अपना प्रोफाइल बनाना होगा, तभी आप इस ऐप से पैसे कमा सकते हैं। तो चलिए सबसे पहले जानते हैं कि इस ऐप को कैसे डाउनलोड करें और इसमें अपना प्रोफाइल कैसे बनाएं। इसके बारे में। (How to make money with hello app in hindi)



हैलो ऐप में अपना प्रोफाइल कैसे बनाएं? (How to create your profile in Hello app)




  • यह ऐप लगभग 45.58 mb का है जिसे आप हमारी वेबसाइट से आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं।
  • आप चाहें तो इसे playstore से भी डाउनलोड कर सकते हैं। लेकिन अगर आप इसे हमारी साइट से डाउनलोड करते हैं, तो आप 50 रुपये भी कमा सकते हैं।
  • जैसे ही आप इसे अपने स्मार्टफोन में इंस्टॉल करेंगे, आपसे भाषा चुनने के लिए कहा जाएगा, अगर आप हिंदी चुनते हैं, तो ऊपर दिया गया स्क्रीनशॉट पहले आपके स्क्रीन पे आएगा।
  • उसके बाद आपको "मै" वाले आइकॉन पर क्लिक करना होगा। 
  • यदि आप दूसरी भाषा चुनते हैं, तो आपको वही "me" विकल्प मिलेगा।
  • जैसे ही आप वहां क्लिक करेंगे, आपको प्रोफाइल अपडेट करने के लिए कहा जाएगा।
  • वहां आपको अपना नाम, परिचय, लिंग, जन्म तिथि और अपना स्थान (location) दर्ज करना होगा।
  • इसके बाद आपको ऊपर दिए गए save बटन पर क्लिक करना है, इस तरह से आप हैलो ऐप पर अपनी प्रोफाइल बना सकते हैं।
  • आप चाहें तो इसमें अपनी फोटो भी लगा सकते हैं।


हेलो एप क्या है? (What is hello app)


हैलो ऐप, यह एक पैसा कमाने वाला ऐप है जिसमें आप अपनी इच्छानुसार कई पैसे कमा सकते हैं। इसमें आपको रोजाना कुछ टास्क दिए जाते हैं जो 14 दिनों के लिए होते हैं। पैसे कमाने के मामले में, यह ऐप वर्ष 2019 के सबसे अच्छे पैसे कमाने वाले ऐप में से एक बन गया है। इस ऐप की रेटिंग 4.5 * है। अगर आप इसे अपने फोन में इंस्टॉल करते हैं तो आप इसे मुफ्त में इस्तेमाल कर सकते हैं। क्योंकि इसके लिए आपको किसी भी प्रकार का शुल्क या फीस नहीं देनी होगी। (How to make money with hello app in hindi)

अगर आप भी इस ऐप को एक मिनट के लिए इस्तेमाल करते हैं, तो आप सिर्फ एक मिनट में 20 सिक्के कमा सकते हैं। इस ऐप में आप वीडियो, फोटो, मूवी, फनी वीडियो और व्हाट्सएप स्टेटस का भी लाभ उठा सकते हैं। आप चाहें तो इसमें अपने फोटो और वीडियो भी शेयर कर सकते हैं। लेकिन आपको इसके पैसे नहीं मिलते हैं, आप केवल अपने फॉलोवर्स ही बढ़ा सकते हैं। ताकि आप एक लोकप्रिय व्यक्ति बन सकें।



हेलो एप से पैसे कमाने के लिए क्या करे? (What to do to earn money with Hello app)


हैलो ऐप में, आप कई तरीकों से पैसा कमा सकते हैं, लेकिन इसमें आपको शेयरिंग के माध्यम से पैसा कमाना होगा, क्योंकि इसमें आप केवल शेयरिंग के माध्यम से पैसा कमा सकते हैं। अगर आप जानना चाहते हैं कि हैलो ऐप से पैसे कैसे कमाएं, तो आप नीचे दिए गए स्क्रीन शोर्ट और कुछ टिप्स को फॉलो कर सकते हैं।


  • सबसे पहले आपको होम बटन पर क्लिक करना होगा।
  • जैसे ही आप होम स्क्रीन पर आएंगे, आपके होम स्क्रीन के ठीक ऊपर छोटे सिक्के का सिंबल दिखाई देगा, आपको वहां क्लिक करना होगा।
  • वहां पर क्लिक करने पर, ऊपर दिया गया स्क्रीनशोर्ट आपके स्क्रीन पर दिखाई देगी।
  • आप वाहन देख सकते हैं कि आपको पैसे कमाने के विभिन्न तरीके बताए जा रहे हैं।
  • उसके बाद आपको स्क्रीन पर दिए गए उन तरीकों के नियम और शर्तों को पढ़ना होगा, वह आप नीचे दिए गए सटीक अक्षरों में देखेंगे।
  • सबसे पहले, आपको वहां "रोज साइन करे" का विकल्प दिखाई देगा, वहा आपको हर दिन साइन करना होगा, इसमें आपको एक दिन के 100 सिक्के मिलेंगे, इसी तरह, यदि आप हर दिन साइन करते हैं, तो आपको सात दिनों के लिए 100 सिक्को से लेकर  400 सिक्के मिलेंगे .
  • उसके बाद यदि आप एक नए उपयोगकर्ता हैं, तो आपको नीचे "न्यू यूजर्स टास्क" दिखाई देगा। इसमें आपको दैनिक कार्य दिए जाएंगे।
  • उसके बाद आप नीचे देख सकते हैं कि आपको कई अन्य विकल्प मिलेंगे जैसे कि मित्रों को आमंत्रित करें, 10 मिनट हेलो का आनंद लें, और 20 मिनट हैलो का आनंद लें, आप इन तरीकों का पालन करके विभिन्न सिक्के प्राप्त करेंगे। इन सभी विकल्पों का पालन करते हुए, उन्हें इसे अपने व्हाट्सएप पर साझा करना होगा। इस तरह से आप रेफरल के जरिए हैलो ऐप से पैसे कमा सकते हैं।


अनमोल शब्द

प्रिय पाठकों, हमें खुशी है कि यह लेख "हैलो ऐप से पैसे कैसे कमाएं" (How to make money with hello app in hindi) कई लोगों के लिए उपयोगी साबित हुआ है। इसके अलावा, अगर किसी के पास इस लेख से संबंधित कोई प्रश्न है, तो वे हमें टिप्पणी करके पूछ सकते हैं। अगर आपको यह लेख पसंद आया, तो इसे अपने परिचितों और सहपाठियों के साथ साझा करें।

धन्यवाद

Wednesday, October 16, 2019

इंजन एयर क्लीनर के कार्य - Functions of engine air cleaner

Written by  
इंजन एयर क्लीनर का कार्य क्या है? यह इंजन में कैसे काम करता है? इंजन एयर क्लीनर में किस प्रकार का एयर क्लीनर होता है? एयर क्लीनर, और इंजन एयर क्लीनर के प्रकार से संबंधित सभी आवश्यक जानकारी इस लेख में प्रस्तुत की जा रही है। (Functions of engine air cleaner, in hindi)



इंजन एयर क्लीनर के कार्य


हर वाहन में एयर-क्लीनर का उपयोग किया जाता है और इसका इंजन की दहन प्रक्रिया पर अच्छा प्रभाव पड़ता है, वाहन के इंजन में वायुमंडलीय हवा को शुद्ध करके, हवा इंजन के इंजन सिलेंडर में प्रवाहित होती है, फिर इंजन सिलेंडर में हवा और ईंधन का शुद्ध मिश्रण तैयार किया जाता है। इंजन को एयर क्लीनर की मदद से शुद्ध हवा प्रदान की जाती है, जिससे इंजन अच्छी तरह से काम करता है, इसलिए वाहन के इंजन में एयर क्लीनर का उपयोग किया जाता है। यदि आप इंजन एयर क्लीनर से संबंधित अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो इस लेख को अंत तक पढ़ें। हम आशा करते हैं कि आप सभी को यह लेख पसंद आएगा।

इंजन एयर क्लीनर क्या है? - Functions of engine air cleaner

वाहन का इंजन यह एक यांत्रिक कार्य करने वाली मशीन है जिसमें हवा और इंधन की रासायनिक प्रक्रिया को यांत्रिक प्रक्रिया में रूपांतर किया जाता है। लेकिन इंजन में हवा और इंधन की शुद्ध मिश्रण प्रक्रिया को अंजाम देने के लिए शुद्ध हवा कहा से आती है और यह शुद्ध कहा की जाती है? यह सबसे पहला प्रश्न सामने आता है तो चलिए जानते हैं की यह शुद्ध हवा कहा से आती है और यह इंजन में किस तरह से शुद्ध होकर पहोचती है।


जैसे हमने शुरुआत में कहा था कि एयर क्लीनर का उपयोग हर वाहन में किया जाता है। क्योकि जब वाहन शुरू किया जाता है, तो वायु क्लीनर पहले बाहर की हवा को साफ करता है ताकि परिवेशी हवा को इंजन तक पहुंचने दिया जा सके। क्योंकि अगर धूल भरी हवा इंजन में प्रवेश करती है, तो यह इंजन को नुकसान पहुंचा सकती है। इसलिए, हवा को पहले एक एयर क्लीनर की मदद से साफ किया जाता है और उसके बाद ही इस हवा को इंजन सिलेंडर में परिचालित किया जाता है, जिससे इंजन की ऊर्जा और दक्षता में भी सुधार होता है।

एयर क्लीनर के कार्य - Functions of air cleaner


एयर क्लीनर हु बहु अपने नाम की तरह काम करता है यह इंजन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है जो इंजन की दक्षता के साथ उसकी उम्र भी बढ़ता है। हलाकि यह इंजन के कार्ब्युरेटर पर अच्छा प्रभाव देता है इसलिए यह इंजन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा माना जाता है। एयर क्लीनर वाहन में निम्नलिखित काम करता है।
  • सबसे पहले, यह बाहर की हवा को अपनी तरफ खींचता है और इसे अपने फिल्टर में शुद्ध करता है।
  • उसके बाद यह इंजन सिलेंडर में धुद्ध हवा के परिवहन का महत्वपूर्ण कार्य करता है।
  • यह इंजन को स्वच्छ हवा प्रदान करने के लिए अपने फिल्टर तत्व में बाहरी हवा के धुल, गंदगी और प्रदूषण को रोकता है।
  • एयर क्लीनर की मदद से इंजन तक पहुंचने वाली हवा की आवाज कम की जाती है।
  • जब इंजन मिसफायर होता है, तो यह कार्बोरेटर से मिश्रित ईंधन के बुलबुले को रोकने के लिए भी कार्य करता है।

एयर क्लीनर के प्रकार (Types of air cleaners)


वाहन के इंजन में अलग प्रकार के एयर क्लीनर्स का उपयोग किया जाता है उनके नाम निचे दिए गए है।
  1. ऑइल बाथ टाइप एयर क्लीनर 
  2. ड्राई टाइप एयर क्लीनर 
  3. ऑइल वेटेड टाइप एयर क्लीनर 
  4. पेपर प्लीटेड टाइप एयर क्लीनर 
  5. सेन्ट्रीफ्यूगल टाइप एयर क्लीनर 


ऑइल बाथ टाइप एयर क्लीनर - Functions of engine air cleaner


ऑयल बाथ एयर क्लीनर को हेवी ड्यूटी एयर क्लीनर के रूप में भी जाना जाता है। ऐसे एयर क्लीनर का फिल्टर तत्व तेल से गीला होता है। एक स्नान-प्रकार के एयर क्लीनर का फ़िल्टर तत्व सामान्य तार जाल से बना है और इसके शरीर को एक शीर्ष कवर द्वारा कवर किया गया है। यह एयर क्लीनर में बाहर से आने वाली हवा को दो बार साफ करता है।

क्योंकि जब वायुमंडल की हवा वायु क्लीनर में प्रवेश करती है, तो यह पहली बार हवा क्लीनर के तल पर ऑइल की ओर जाती है ताकि बाहरी वायु कणों की अशुद्धियां वहां फंस जाएं। फिर हवा ऊपर के फिल्टर तत्व में चली जाती है, जिससे हवा का अशुद्ध हिस्सा फिल्टर तत्व में फंस जाता है और वह हवा इंजन के सिलेंडर में प्रवाहित की जाती है। इस तरह के एयर फ़िल्टर का उपयोग अधिकतर चार पहिया वाहनों में किया जाता है। ऑइलबाथ टाइप एयर क्लीनर पेट्रोल इंजन में कारबोरेटर के ऊपर फिट किया जाता है। वही डीजल इंजन में यह इनलेट मेनिफोल्ड परफिट किया जाता है।


ड्राई टाइप एयर क्लीनर (Dry Type Air Cleaner)


इस तरह के एयर फिल्टर में ऑइल का उपयोग नहीं किया जाता है, इसलिए इसे ड्राई टाइप एयर क्लीनर कहा जाता है, इसके अलावा इसे लाइट ड्यूटी एयर क्लीनर भी कहा जाता है। इसका फ़िल्टर तत्व विशिष्ट प्लेटेड पेपर से बना होता है और फ़िल्टर तत्व पर एक वायर मेष लगाया जाता है क्योंकि यह फ़िल्टर तत्व की ताकत बढ़ाता है।

इस प्रकार के एयर क्लीनर के फिल्टर तत्व को शरीर के सिलिंग चैम्बर पर लगाया जाता है। यह हवा की अशुद्धता फिल्टर तत्व में प्रवेश करने के बाद फिल्टर तत्व में फंस जाता है और इंजन को हवा की आपूर्ति की जाती है। इस प्रकार के एयर क्लीनर का उपयोग केवल कुछ चार पहिया वाहनों में किया जाता है।

ऑइल वेटेड टाइप एयर क्लीनर - Functions of engine air cleaner


इस प्रकार के एयर क्लीनर में, ऑइल से भीगे तार का एक जाल शरीर के अंदर फिट किया जाता है और इसमें हवा को उसके अंदर से बाहर करने के लिए इनलेट और आउटलेट मैनिफोल्ड्स दिए गए हैं। एयर क्लीनर में हवा रवेश करने के बाद, यह फिल्टर तत्व में प्रवेश करती है और फिर हवा फिल्टर तत्व के ऑइल से भीगे तार से गुजरती है ताकि बाहरी हवा के अशुद्ध कण फिल्टर तत्व में फंस जाए और फिर शुद्ध हवा आउटलेट से निकलकर कार्बोरेटर में भेजा जाए।

पेपर प्लीटेड टाइप एयर क्लीनर (Paper Pleated Type Air Cleaner)\


इस एयर क्लीनर के फ़िल्टर तत्व को प्लास्टिक के मिश्रण से बने कागज से बनाया गया है, यह फ़िल्टर तत्व अत्यधिक संवेदनशील है और इसमें एक इनलेट और आउटलेट है जो शरीर में हवा की अनुमति देता है और कार्बोरेटर तक पहुंचता है। जब हवा इस एयर क्लीनर में प्रवेश करती है, तो प्लास्टिक पेपर के फिल्टर तत्व में बाहरी हवा की अशुद्धियां पेपर में फंस जाती हैं और स्वच्छ हवा आउटलेट के माध्यम से कार्बोरेटर में ले जाया जाता है।

सेन्ट्रीफ्यूगल टाइप एयर क्लीनर (Centrifugal Type Air Cleaner)


इस प्रकार के एयर क्लीनर में, हवा को एक गोलाकार तरीके से स्थानांतरित किया जाता है, इस सेन्ट्रीफ्यूगल फ़ोर्स के कारण, एयरबोर्न कणों को फेंक दिया जाता है और स्वच्छ हवा को कार्बोरेटर में भेजा जाता है। लेकिन इस प्रकार के एयर क्लीनर हवा को पूरी तरह से साफ नहीं करते हैं, इसलिए इसे आवश्यकतानुसार अन्य एयर क्लीनर के साथ लगाया जाता है।



अनमोल शब्द

प्रिय पाठकों, हमें खुशी है कि यह लेख "इंजन एयर क्लीनर के कार्य" (Functions of engine air cleaner, in hindi) कई लोगों के लिए उपयोगी साबित हुआ है। इसके अलावा, अगर किसी के पास इस लेख से संबंधित कोई प्रश्न है, तो वे हमें टिप्पणी करके पूछ सकते हैं। अगर आपको यह लेख पसंद आया है, तो इसे अपने परिचितों और सहपाठियों के साथ साझा करें।

धन्यवाद

Tuesday, October 15, 2019

मक्का की खेती कैसे करें? - How to cultivate maize?

Written by  
अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए शरीर को एक पौष्टिक आहार की आवश्यकता होती है। और यह पौष्टिक आहार मक्का से बड़ी मात्रा में प्राप्त किया जाता है। सभी वर्गों के पुरुषों और महिलाओं द्वारा मक्का का सेवन किया जा सकता है। यह उन सभी के लिए फायदेमंद है। बढ़ती मांग के मद्देनजर, मक्का की मांग प्रतिदिन बढ़ रही है। मक्का की खेती कैसे करें? इसके बारे में जानकारी देने जा रहे हैं तो चलिए इस लेख से संबंधित अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए इस लेख को अंत तक पढ़ें। (How to cultivate maize? in Hindi)

मक्का की खेती कैसे करें?

इस लेख में आप जानेंगे कि मक्का की खेती कैसे करें? और किस मौसम में मक्का बोया जाता है। साथ ही मक्का की खेती के लिए जमीन और बीज कैसे बोएं। इसके अलावा, बीज कैसे होना चाहिए और जल प्रबंधन कैसे करना चाहिए। इस लेख में यह सारी जानकारी हिंदी में प्रस्तुत की गई है।

प्रिय पाठको आज आपको मक्का की खेती कैसे करें? इसके बारे में जानकारी देने जा रहे है। ताकि वह खेती करके अच्छा पैसा कमा सके क्योंकि मक्का की मांग रोज बढ़ रही है। इस बढ़ती हुई फसल की खेती से आपकी आय बढ़ेगी और आप एक सफल किसान बनेंगे। तो आइये जानते हैं कि मक्का की खेती कैसे करें? इसके बारे में।

मक्का की खेती कैसे करें? - How to cultivate maize?


मक्का पौष्टिक खाद्य पदार्थों में से एक है। सभी इसे बहुत पसंद करते हैं। मक्का को कई तरह से खाया जाता है, जैसे कि भुट्टे के रूप में खाया जाता है, लाइ के रूप में खाया जाता है, और कॉर्नफलेक्स रूप में खाया जाता है। यह हर किसी का पसंदीदा पौष्टिक आहार है। मक्का का उपयोग पशु आहार के रूप में भी किया जाता है। ज्यादातर मक्का का इस्तेमाल मुर्गी और दूध देने वाले जानवरों के लिए किया जाता है। मक्का की पत्तियों से लेकर फूल तक सब कुछ किसान के लिए उपयोगी है।

औद्योगिक क्षेत्र में मक्का की मांग भी बढ़ रही है। प्रोटीन की अच्छी मात्रा के कारण चॉकलेट, पेंट, लोशन, कोका-कोला और कॉर्न सिरप जैसी चीजें कॉर्न से बनाई जाती हैं। मक्का से कई चीजों का उत्पादन हो रहा है ,मक्का की मांग बढ़ रही है और अच्छे दाम भी मिल रहे हैं। तो आईये जानते है मक्के की खेती के बारे में। 

मक्का की खेती के लिए जमीन - Land for cultivation of maize


खेती के लिए सबसे उपयुक्त भूमि होनी चाहिए। अगर फसल के हिसाब से जमीन हो तो फसल अच्छी पैदावार देती है। आप जो फसल लेना चाहते हैं उसकी फसल जमीन पर निर्भर करती है। यदि भूमि उपजाऊ है और उस फसल के लिए उपयुक्त है तो आप खेती कर सकते हैं। इसी प्रकार मक्का की खेती के लिए भूमि उपजाऊ और उपयुक्त होनी चाहिए।

  • मक्के की खेती के लिए मिट्टी का परीक्षण करवाएं।
  • जिस जगह पर मक्का की खेती की जाती है वहां पर पानी जमा नहीं होना चाहिए।
  • मक्का की खेती के लिए मौसमी नमी की जरूरत होती है।
  • मक्का की खेती के लिए बेड बनाना आवश्यक है।

मक्का की खेती के लिए भूमि की जुताई - How to cultivate maize?


रोपण के समय भूमि की जुताई अनिवार्य है। जमीन के अंदर रहने वाले कीड़े और कीड़े जमीन की जुताई के कारण मर जाते हैं, जिससे फसल को नुकसान होने की संभावना कम होती है। यदि खरीफ सीजन के दौरान मक्का की फसल बोई जाती है, तो आपको कम से कम 15 से 20 सेमी गहरी जुताई करनी होगी। 

  • गर्मी के दिनों में जुताई करने से फसल बहुत अच्छी होती है और कीड़ों की संभावना कम होती है।
  • भूमि की जुताई करने से, फसल बोने में कोई समस्या नहीं होती है।
  • जुताई से पौधे के पास घास या कचरा नहीं होता है।

मक्के की बुवाई कब और कैसे करें - How to cultivate maize?


जुताई के बाद सबसे महत्वपूर्ण काम बुवाई का होता है। बुवाई सही समय पर और सही मौसम में करनी चाहिए ताकि फसल लेते समय फसल को कोई बीमारी न हो। क्योंकि फसल बुवाई पर सबसे ज्यादा निर्भर है। बुवाई से पहले, बुवाई के समय उन चीजों को व्यवस्थित करें, ताकि बुवाई के समय किसी भी चीज की कोई समस्या न हो। तो आइए जानते हैं मक्का की बुआई के बारे में।

  • खरीफ मौसम की बुवाई जून के अंतिम सप्ताह और जुलाई के पहले सप्ताह में की जानी चाहिए।
  • खरीफ मौसम की बुवाई अक्टूबर के अंतिम सप्ताह और नवंबर के पहले सप्ताह में की जानी चाहिए।
  • बुवाई के लिए गड्ढे की गहराई 4 से 5 सेमी होनी चाहिए।
  • बुवाई के समय पौधे की दूरी 10 से 30 सेमी होनी चाहिए।
  • प्रति एकड़ 140 से 150 पौधे की बुवाई करनी चाहिए।

मक्का बोने का तरीका - Method of planting corn


यदि आप पहली बार मक्का की खेती कर रहे हैं और मक्का की बुआई के बारे में नहीं जानते हैं, तो हम आपको इस लेख के माध्यम से जानकारी दे रहे हैं। किसी भी खेती को करने के लिए बुआई का तरीका आना चाहिए। यदि बुवाई का तरीका सही नहीं है, तो फसल के नुकसान की संभावना रहती है।

  • उच्च गुणवत्ता के बीज खरीदे।
  • मक्का की बुआई के लिए 50 से 60 मीटर मेड बनाए।
  • मेड फिक्स करते समय काले प्लास्टिक का प्रयोग करें ताकि मक्का के पौधे में कचरा न हो।
  • उपरोक्त निर्देशों के अनुसार उचित दूरी पर पौधे की बुवाई करें।
  • दोनों मेड के बीच कुछ सेमी की दूरी होनी चाहिए, ताकि पौधों के पास पानी जमा न हो।


पोषण और पानी का प्रबंधन कैसे करें - How to cultivate maize?


मनुष्य को जीवित रहने के लिए पानी और पोषण की आवश्यकता होती है। पानी और पोषण के बिना जीवन का कोई मूल्य नहीं है। इसी तरह, खेती के लिए पानी और पोषण पहली जरूरत है। किसी भी फसल को उगाने के लिए जल प्रबंधन पहली आवश्यकता है। हर फसल को पानी के साथ-साथ पोषण की भी जरूरत होती है। यदि पौधों को उचित मात्रा में पोषक तत्व नहीं मिलते हैं, तो पौधों की पैदावार सही नहीं होगी। फसल खराब होने की संभावना रहेगी। तो चलिए जल प्रबंधन और पोषण लेते हैं। 

 पानी का प्रबंधन - Water management 

  • इस बात का ख्याल रखें कि पौधा पानी को जमा न होने दे।  
  • पौधों के पास जल निकासी का प्रबंध करें।
  • बरसात के मौसम में पानी की सिंचाई न करें और जरूरत पड़ने पर हो सिंचाई करे। 
  • सिंचाई करते समय, विशेष ध्यान रखें कि पानी को मेडो के पास जमा न होने दें।

पोषण प्रबंधन - Nutrition management

  • फसल बोने से पहले खेत में सड़ी गोबर की खाद डालें।
  • खेत में नाइट्रोजन, फास्फोरस और पोटास की कमी को कम करने के लिए बुवाई के समय कुछ रसायन मिलाएं। 
  • 150 से 160 किलोग्राम नाइट्रोजन डालें। 
  • 70 से 80 किलोग्राम फास्फोरस डाले। 

  • 65 से 70 किलो पोटाश डालें।
  • 30 किलो जिंक सल्फेट मिलाएं।


  • चार पत्तियों के आने के समय 20 से 25 प्रतिशत नाइट्रोजन डालें। 
  • 6 से 8 पत्तियों के आने के समय 25 से 30 प्रतिशत नाइट्रोजन डालें।
  • फसल में फूल आने के समय 30 प्रतिशत नाइट्रोजन मिलाएं।
  • फसल में दाना भरने के समय 10 से 15 प्रतिशत नाइट्रोजन डालें।

फसल की कटाई - Harvest harvest


केवल तभी काटें जब मकई का पत्ता पिल्ले हो। अगर मकई में नमी है, तो कटाई के बाद मकई को सूखा लें। सूखे हुए मकई को ऐसी जगह पर रखें जहाँ हवा की आवाजाही हो और मकई को कोई नुकसान न हो।

अनमोल शब्द 


प्रिय पाठकों, हमें खुशी है कि आपको "मक्का की खेती कैसे करें?" के बारे में उचित जानकारी मिली है। इस लेख में दी गई जानकारी कई लोगों के लिए फायदेमंद साबित होगी। अगर आपको यह लेख पसंद आया है, तो इस लेख को अपने परिचितों और सहपाठियों के साथ साझा करें।

धन्यवाद।