Sunday, April 21, 2019

नया पेट्रोल पंप खोलने के लिए नियम और शर्तों के बारे में जानें. ( Learn about the terms and conditions for opening a new petrol pump)

Written by  
पेट्रोल पंप खोलने के लिए क्या शर्तें और नियम हैं. ( Petrol Pump Kholane ke liye kya sharte or niyam hai.)


कौन सा व्यक्ति पेट्रोल पंप खोलने के लिए पात्र हो सकता है. ( Koun Sa Vyakti Petrol Pump ke liye patr ho sakta hai. ) पेट्रोल पंप खोलने के लिए कौन से दस्तावेज अनिवार्य है. ( Petrol Pump Kholane ke liye koun se Dastavej aniwaary hai.)

नया पेट्रोल पंप खोलने के लिए नियम और शर्तों के बारे में जानें


नमस्ते दोस्तों मेरा नाम देव है. आप सभी Indiandewa.com में तहेदिल से स्वागत है. आज, इस लेख में हम जानेंगे कि पेट्रोल पंप खोलने के लिए कैसे आवेदन करें.नया पेट्रोल पंप खोलने के लिए किस तरह की शर्तें और नियम पेश किए गए हैं.इस लेख में जानें कि इस व्यवसाय से कितने लीटर पर कितना पैसे कमा सकते है.इस व्यवसाय के बारे में सभी जानकारी जानने के लिए इस लेख को अंत तक पूरा पढ़ें.

पेट्रोल पंप का व्यवसाय

यह पेट्रोल पंप व्यवसाय एक बहुत अच्छा और नगदी व्यवसाय है. भारत में पेट्रोल पंप व्यवसाय उन लोगों के लिए एक आकर्षक व्यवसाय है जिनके पास राजमार्ग सड़क पर भूमि है. देश में पेट्रोल पंप का व्यवसाय एक ऐसा व्यवसाय है, जिसे खोलने पर नुकसान की संभावना लगभग नहीं के बराबर है. इस व्यवसाय के शुरू होने पर, हर महीने लाखों रुपये कमाते हैं. बुनियादी ढांचे में सुधार के साथ, भारत में वाहनों की संख्या हर दिन बढ़ रही है, पेट्रोल और पेट्रोल पंपों की मांग बढ़ गई है. इस व्यवसाय को शुरू करने के लिए आसान लोन दिया जाता है. इस व्यवसाय से रोड किनारे जगह होने वाले किसान को काफी मात्रा में लाभ होंगा. यदि एक आम आदमी इस व्यवसाय को शुरू करता है तो उसकी आय बहुत अच्छी होगी.

पेट्रोल पंप खोलने के लिए क्या करना चाहिए

  • रोज अखबार पढ़े.
  • पेट्रोल और डीजल  की कंपनिया जैसे HP, ESAAR, भारत पेट्रोलियम और रिलायंस पेट्रोलियम यह सभी पेपर में विज्ञापन देती है.
  • वे उस जगह का नाम भी बताते हैं जहां उन्हें पेट्रोल पंप की फ्रेंचाइजी खोलनी है. अगर आपकी जमीन दी हुई जगह पर है तो आप उस पैट्रॉल पंप की फ्रैंचाइजी ले सकते है.
  • इसके लिए आपको विज्ञापन या उसकी वेबसाइट पर दिए गए नंबर पर संपर्क करना होगा.

  पेट्रोल पंप खोलने के लिए योग्यताए तथा दस्तावेज

  • लाभार्थी की आयु 21 वर्ष से 55 वर्ष तक होनी चाहिए.
  • लाभार्थी के पास राजमार्ग पर 1200 से 1500 मीटर तक जमीन होनी चाहिए.
  • लाभार्थी भारत का नागरिक होना अनिवार्य है.
  • लाभार्थी कम से कम 10 वी पास होना चाहिए.
  • जमीन के सभी दस्तावेज़ होना चाहिए,जमीन का पूरा नक्शा होना चाहिए और जमीन का पूरा पत्ता होना अनिवार्य है.
  • यदि भूमि किराए पर ले रहे है, तो भूमि मालिक की एनओसी अनिवार्य होनी चाहिए.
  • अगर जमीन लीज पर ले रहे है तो उस जमीन का लीज अग्रीमेंट होना अनिवार्य है.
  • लाभार्थी की जमीन ग्रीन बेल्ट पर है पेट्रोल पंप के लिए आवेदन नही कर सकते है.

पेट्रोल पंप खोलने में कितना खर्च लगता है तथा मुनाफे का अंतर कितना है

  • अगर लाभार्थी पेट्रोल पंप राजमार्ग और राष्ट्रीय मार्ग पर खोलते  है तो 20 से 25 लाख रुपये के इन्वेस्टमेंट करने की आवश्यकता होगी.
  • ग्रामीण मार्ग में पेट्रोल पंप शुरू करने के लिए 10 से 12 लाख रुपये के इन्वेस्टमेंट करने की आवश्यकता होगी.
  • जिसमे लाभार्थी को कंपनी कुछ प्रतिशत निवेश वापस करती है.
पेट्रोल पंप शुरू करने की राशि निम्नलिखित तरीके से जमा करनी है
  • राष्ट्रीय बचत प्रमाण पत्र, म्यूचुअल फंड, बचत खाते में पैसे जमा करके तथा डाक के द्वारा जमा कर सकते है.

  पेट्रोल पंप शुरू करने का मुनाफे का अंतर कितना

  • लाभार्थी को प्रति लीटर पर 2 से 3 रूपए का मुनाफा होता है.
  • यदि लाभार्थी प्रति दिन 1000 लीटर बेचता है, तो यह 2000 से 3000 रुपये तक कम कर सकता है.
  • जिस जगह पर ट्रैफिक अच्छा है, उस जगह पर पेट्रोल की खपत अच्छी है, ऐसे में लाभकारी लाभार्थी 3 हजार से 4 हजार पेट्रोल की अच्छी बिक्री के साथ प्रति दिन लगभग 15 हजार रुपये कम कर सकता है.

पेट्रोल पंप शुरू करने के लिए ऑनलाइन आवेदन

  •  पेट्रोल पंप शुरू करने के लिए कंपनी की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं. 
  • आवेदक को पहले वेबसाइट पर जाकर एक अकाउंट बनाना होगा, जिसके बाद उसे लॉग इन करना होगा.
  • यदि आपके क्षेत्र में पेट्रोल पंप खोलने के लिए रिक्तियां उपलब्ध हैं, तो आपको अपना पूरा विवरण भरना होगा.
यदि आप हमारी जानकारी को पसंद करते हैं, तो आप इसे अधिक से अधिक साझा करे ताकि किसान इसका लाभ प्राप्त कर सके। यदि इस योजना के तहत कोई सुझाव या प्रश्न है, तो टिप्पणी लिखकर भेजें। 

धन्यवाद।

Saturday, April 20, 2019

किसान क्रेडिट योजना की पूरी जानकारी। ( Kisaan Credit Yojana ki puri jankaari.)

Written by  
 किसान क्रेडिट योजना से लोन कैसे प्राप्त करें. ( i Kisaan Credit Yojana se loan kaise prapt kare. )

 किसान क्रेडिट योजना का लाभ उठाने के लिए क्या दस्तावेज लगते हैं. ( Kisaan Credit Yojana kalaabh  uthane ke liye kya dastavej lagate hai.) किसान क्रेडिट योजना की विशेष बात क्या है.


 किसान क्रेडिट योजना की पूरी जानकारी

नमस्ते दोस्तों मेरा नाम देव है।Indiandewa.com में आप सभी  का तहेदिल से स्वागत है. आज हम इस लेख  किसान क्रेडिट योजना के बारे में जानकारी जानेंगे. कैसे किसानों को  किसान क्रेडिट योजना के तहत लोन मिलेगा. इस योजना का लाभ उठाने के लिए किन शर्तों को लागू किया गया है. हम इस योजना के उद्देश्य के बारे में जानेंगे। इस लेख को अंत तक पढ़ें.

 किसान क्रेडिट योजना का उद्देश्य और परिचय

भारत एक कृषि प्रधान देश है जहाँ 65% आबादी खेती करने में लगी हुई है. किसान देश की रीढ़ है और देश की अर्थव्यवस्था इन्हीं किसानों पर निर्भर है.  किसान मिट्टी के करीब हैं और वे मिट्टी से सोना उगाते हैं. देश के किसानों को कृषि में विभिन्न प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ता है. सबसे बड़ी समस्या है कृषि में आने वाली लागत जो दिनों-दिन बढ़ती चली जा रही है. किसानों को अच्छे बीज खरीदने पड़ते हैं जो बहुत महंगे दामों में मिलते हैं। ट्रैक्टर या हल-बैल के साथ जुताई आसान नहीं है. मौसम की परवाह किए बिना किसान सभी के लिए अनाज उगाते हैं, जो कि मनुष्यों की सबसे बड़ी जरूरत है. सरकार को आगे बढ़कर कमजोर किसानों की मदद करनी चाहिए. उन्हें काम के हित के लिए लोन की सुविधा प्रदान करनी चाहिए.


इन सभी परेशानी को देखते हुए किसान क्रेडिट योजना की सुरवात की गयी है. ताकि किसानों को इस योजना के तहत जल्द ही लोन मिल सके. इस योजना के तहत किसानों को जल्द से जल्द लोन उपलब्ध कराया जाए. इस योजना के तहत राज्य के किसानों को कम दरों पर वित्तीय सहायता प्रदान करके लोन प्रदान किया जाता है. इस योजना की सुरवात करने के लिए इन सभी बैंक को हाथ है, जैसे की राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक नाबार्ड, आरबीआई इनके द्वारा की गयी है. 1998 में शुरू की गई इस योजना का उद्देश्य किसानों को कृषि क्षेत्र की व्यापक वित्तीय जरूरतों के लिए लोन प्रदान करके सहायता प्रदान करना है. किसान क्रेडिट कार्ड इसलिए बनाया गया है ताकि किसान समय पर अपनी खेती की जरूरतों को पूरा कर सकें. इस योजना से किटकनाशक दवाईया और अच्छे उपजाऊ बीज खरीदने के लिए किया जा सकता है.


 किसान क्रेडिट योजना की विशेषताये

  • यह क्रेडिट कार्ड किसान को सभी आवश्यक कृषि आवश्यकताओं के बारे में उपलब्ध कराया जाता है.
  •  इस योजना के तहत दुर्घटना में किसान की मृत्यु और अपंगता के लिए 50 हजार कवर प्रदान किया जाता है.
  • इस योजना के लाभार्थी नगद भुगतान करके लोन का उपयोग कर सकते हैं.
  • इस योजना की विधि सरल है और कम कागजात पर लोन उपलब्ध कराया जाता है.
  • इस योजना के तहत और फसल के मौसम के बाद संस्कृति कार्यक्रम प्रदान किया जाता है.
  • किसान क्रेडिट योजना के तहत, लोन का नवीनीकरण किया जाता है ताकि किसानों पर अधिक भार न पड़े.

किसान क्रेडिट योजना की अंतर्गत जानकारी

  • पहले वर्ष के लिए अल्पकालिक सीमा तय की गई है, जो फसल की खेती, प्रस्तावित फसल विधि पर निर्भर करती है.
  • फसलों की लागत, उनका बीमा, किसानों की संपत्ति बीमा और दुर्घटना बीमा।
    केसीसी खातों को प्रति वर्ष दी गई शर्तों और तारीखों के अनुसार नवीनीकृत किया जाना चाहिए.
  • नवीनीकरण की प्रक्रिया सामान्य है, इसके लिए एक गाइड लाइन फॉर्म भरना होगा। शर्तों के अनुसार, नया एमडीएल निर्धारित किया जाएगा.
  • पांच साल के लिए अल्पावधि ऋण दिया जाएगा और अनुमानित निवेश ऋण को केसीसी की अधिकतम अनुमेय सीमा (एमपीएल) के रूप में इंगित किया जाएगा.

 किसान क्रेडिट योजना के लाभ

  • किसान क्रेडिट कार्ड एक बहुत ही सरल प्रक्रिया है जिसे बिना पढ़े या लिखे पाठकों द्वारा आसानी से समझा और उपयोग किया जा सकता है.
  • लाभार्थी को किसान क्रेडिट कार्ड के साथ आसानी से ऋण प्राप्त होता है और वह आसानी से किसी भी राष्ट्रीयकृत बैंक को ऋण ले सकता है.
  • लाभार्थी किसान बिना किसी चिंता के अपनी फसल के लिए बीज और कीटनाशक खरीद सकते हैं.
  • किसान फसल बेचने तक लाभार्थी लोन की राशि का भुगतान कर सकता है.
  • किसान हर साल लोन के लिए आवेदन नहीं कर सकता है, लेकिन लोन क्रेडिट कार्ड के माध्यम से उपलब्ध है.
  • विक्रेता से नकद लाभ और छूट उपलब्ध हैं जो कि किसानों का ब्याज का बोझ कम होता है.
  • क्रेडिट कार्ड के जरिये लाभार्थी किसान बैंक के किसी शाखा से धनराशि निकाल सकता है.

 किसान क्रेडिट योजना की योग्यताए

  • लाभ प्राप्त करने के लिए, किसान के पास अपना खेत होना चाहिए और जो किसान बटई की खेती करता है यह सभी इस योजना से लाभान्वित हो सकता है.
  • सभी किसान इसका लाभ उठा सकते हैं, जैसे कि अकेला और समूह वाले किसान.
  • किसान क्रेडिट कार्ड के लिए, किसान को बैंक के संचालन क्षेत्र में होना चाहिए.

किसान क्रेडिट योजना के लिए आवेदन के लिए दस्तावेज 

  • लाभार्थी किसान का पहचान पत्र जैसे आधार कार्ड वोटिंग कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस कार्ड, पैन कार्ड, यह अनिवार्य होना चाहिए.
  • घर के पत्ते के लिए बिजली बिल यह चाहिए.
  • आवेदक किसान की पासपोर्ट फोटो .

किसान क्रेडिट योजना के लिए आवेदन

  • किसान क्रेडिट कार्ड बनाने के लिए राष्ट्रीयकृत बैंक शाखा में जाकर आवेदन कर सकते हैं.
  • ऑनलाइन आवेदन करने के लिए आप बैंक की सरकारी वेबसाइट में जाकर भी आवेदन कर सकते है.
  • बैंक की वेबसाइट पर जाएं और किसान क्रेडिट कार्ड के विकल्प का चयन करे.
  • किसान क्रेडिट कार्ड के विकल्प को चयन करके लॉग इन करे.
  • लॉग इन करके आवेदन फॉर्म की सभी जानकारी अच्छे से भरे. 
  • सभी जानकारी अच्छी तरह से भरने के बाद, फॉर्म सबमिट करें.
यदि आप हमारी जानकारी को पसंद करते हैं, तो आप इसे अधिक से अधिक साझा करे ताकि किसान इसका लाभ प्राप्त कर सके। यदि इस योजना के तहत कोई सुझाव या प्रश्न है, तो टिप्पणी लिखकर भेजें। 

धन्यवाद।

Monday, April 15, 2019

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की पूरी जानकारी। ( Pradhanmantri Kisan Samman Nidhi Yojana Ki Puri Jankaari.)

Written by  
प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के क्या लाभ है ।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के लिए कौनसे  दस्तावेज लगते है। प्रधान मंत्री किसान सम्मान निधि योजना के लिए क्या शर्त लागु है।  ( Pradhanmantri Kisan Samman Nidhi Yojana Ki Puri Jankaari.)

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की पूरी जानकारी

नमस्ते दोस्तों मेरा नाम देव है। Indiandewa.Com में आप सभी का तहेदिल से स्वागत है। हम आज इस लेख में प्रधान मंत्री किसान सम्मान निधि योजना के बारे में सभी जानकारी जानेंगे। किसानों के सम्मान में इस लेख का क्या लाभ है। इस योजना का लाभ लेने के लिए, किस प्रकार की शर्तें लागु हैं। इस योजना के उद्देश्य के बारे में जानें। इस लेख को अंत तक जरुर पढ़ें।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का महत्त्व और संकल्प

हमारी समृद्धि हमारे कृषि उत्पादन पर निर्भर करती है।  कृषि प्रधान देश होने के कारण हमारे देश की अर्थव्यवस्था का लगभग पूरा भार भारतीय किसान के कंधों पर है। पृथ्वी के संपूर्ण जीवन के लिए अन्न उगाने वाला भारतीय किसान इतना परोपकारी और मेहनती है कि उसे अपने स्वार्थ और सुख की चिंता भी नहीं है। किसान देश की रीढ़ है। देश के अधिकांश लोग गांवों में रहते हैं, इसलिए भारतीय किसान ग्रामीण परिवेश में रहता है और विषमताओं से निपटते हुए अपने कर्मों में निस्वार्थ भाव से लगा रहता है।

एक भारतीय किसान का जीवन करुणा का सागर है। परंतु हम केवल किसान के बारे में सोचते हैं जब सूखा या अनाज की कमी होती है। भारत गाँवों और किसानों का देश है। आज, यहाँ की 65 प्रतिशत आबादी अभी भी कृषि कार्य में लगी हुई है। इसलिए किसानों की उचित देखभाल आवश्यक है। सरकार की नीतियां और योजनाएँ लाभकारी होने के बावजूद किसान के लिए कारगर साबित नहीं होती हैं। हमारे देश भारत में समस्त किसानों की स्थिति एक समान नहीं है । यह सभी बाते समझकर और किसानों के हित में सोचते हुए श्री.प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी एक नई योजना की सुरवात की है उस योजना का नाम "प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना" है।

प्रधान मंत्री किसान निधि योजना का महत्व यह है कि किसानों को योजना द्वारा उनके अधिकार दिए जाये। किसानों की स्थिति को ध्यान में रखते हुए, सरकार ने कई नीतियों और योजनाओं में भारतीय किसानों को प्राथमिकता दी है। सरकारी योजनाएँ किसानों को उनके माल के उचित भंडारण के लिए एक व्यवस्थित स्थान प्रदान करती हैं, जिससे उन्हें फसलों आदि का उचित मूल्य मिलता है।इस योजना के तहत 5 एकड़ से कम वाले किसान को 6 हजार रुपये सालाना दिया जाएगा।यह योजना आत्महत्या के आंकड़ों को कम करने के लिए है जो आसमान छू रहे है। भारतीय किसान का हर जगह सम्मान होना चाहिए।


प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना की पात्रताए 

  • लाभार्थी भारत का निवासी होना चाहिए।
  • इस योजना का लाभ लेने वाले किसानों के पास 5 एकड़ से कम खेती होनी चाहिए।
  • इस योजना का लाभ केवल छोटे और सीमांत किसानों को मिलेगा।
  • सरकारी कर्मचारी और सेवानिवृत्त कर्मचारी जो पेंशन पर निर्भर हैं, उनकी पेंशन 10 हजार रुपये  है, तो उन्हें इस योजना का लाभ नहीं मिलेगा।
  • जो किसान डॉक्टर, वकील, चार्टड अकाउंटेंट है उन्हें इस योजना का लाभ नही मिलेगा। 

 

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के लिए दस्तावेज  

  • किसान के पास भारत का निवासी प्रमाण पत्र होना चाहिए
  • इस योजना का लाभ लेने के लिए आधार कार्ड होना अनिवार्य है।
  • आवेदक के पास में जाति प्रमाण पत्र होना चाहिए। 
  • आवेदक के पास पहचान पत्र के रूप में मतदाता पहचान पत्र, ड्राइविंग लाइसेंस और नरेगा कार्ड होना चाहिए।
  • किसान के पास जमीन के सभी दस्तावेज होने चाहिए ताकि उसे पता चल सके कि कितनी जमीन है और 5 एकड़ से अधिक जमीन वाले किसानों को कोई लाभ नहीं मिलेगा।
  • आवेदक के पास में राष्ट्रीयकृत बैंक का खाता क्रं. होना अनिवार्य है।   
  •  इस योजना के बारे में किसानों को समय-समय पर सूचित करने के लिए, आवेदक के पास मोबाइल नंबर होना अनिवार्य है।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के लाभ 

  • इस योजना के तहत 5 एकड़ से कम वाले किसान को 6 हजार रुपये सालाना दिया जाएगा।
  • यह राशि किसानों को 3 किस्तों में दी जाएगी। इस योजना की पहली किस्त 31 मार्च को उपलब्ध होगी।
  • इस योजना का लाभ 12 करोड़ किसानों को मिलेगा। 
  • इस योजना के लिए 75 हजार करोड़ का आवंटन किया गया है। 
  • साल 2022 में इस योजना के तहत मिलने वाली राशी दुप्पट करने का ध्येय है । 

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना करने का तरीका 

  • अगर आपको इस योजना के लिए आवेदन करना है तो आपको पटवारी के कार्यालय में जाना होगा और फिर आवेदन पत्र में भूमि का पूरा विवरण लिखकर कार्यालय में जमा करना होगा।
  • प्रधान मंत्री किसान सम्मान निधि योजना के लिए आवेदन करने के लिए, एक विशेष वेब पोर्टल बनाया गया है।
  • इस योजन का वेबपोर्टल आपको आपके नजदीकी ऑनलाइन केंद्र पर मिल जायेंगा। 
यदि आप हमारे संदेश को पसंद करते हैं, तो आप इसे अधिक से अधिक साझा करे ताकि किसान इसका लाभ प्राप्त कर सके। यदि इस योजना के तहत कोई सुझाव या प्रश्न है, तो टिप्पणी लिखकर भेजें। 

धन्यवाद।

कुसुम योजना की पूरी जानकारी। Kusum Yojana Ki Puri Jankaari.

Written by  
किसानों को कुसुम योजना का क्या लाभ है। ( Kisano Ko Kusum Yojana ka kya laabh hai.)

कुसुम योजना का लाभ लेने के लिए किस तरह से आवेदन करे। ( Kusum Yojana Ka Laabh lene ke liye kis tarah se aawedan kare.)

कुसुम योजना की पूरी जानकारी।

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम देव है। Indiandewa.Com में आप सभी का तहेदिल से स्वागत है। आज हम इस लेख में कुसुम योजना के बारे में सभी जानकारी जानेंगे। इस लेख में किसानों को किस तरह का उपयोगी लाभ मिलेंगे। इस योजना का लाभ उठाने के लिए किन शर्तों को लागू किया गया है। हम इस योजना के उद्देश्य के बारे में जानकारी जानेंगे। तो आप सभी इस लेख को पूरा पढ़े।

कुसुम योजना का परिचय और उद्देश्य

 भारत देश एक कृषि प्रधान देश है। भारत गाँवों का देश है क्योंकि इस देश की 80% आबादी गाँवों में रहती है। किसान का मुख्य व्यवसाय खेती है। देश के किसान का जीवन बहोत कठिन और मौल्यवान है। किसान यह मिटटी के बहुत समीप रहने वाला व्यक्ति है।  जो कठिन मेहनत करके सुखी बेजान पडी धरती से संघर्ष करके उससे सोना उगाता है। किसान बहुत मेहनती है, वह बारिश में, तेज गर्मी में, पसीना बहाते हुए काम करता है, ताकि देश के सभी नागरिक को अनाज दे सकें। लेकिन किसान को उसकी उत्पादकता के अनुसार आय नहीं मिलती है।

किसान को कभी कभी पानी के दुष्काल से निकलना पड़ता है। देश में मानसून की भविष्यवाणी कभी-कभी गलत हो जाती है जिससे किसान को असुविधा हो जाती है। देश में जल सिंचाई की तकनीक उपलब्ध नहीं है। पानी की कमी और भूमिगत जल स्तर गिरने के कारण यह असंतोस जनक बात है। किसान अपनी फसलों की सिंचाई के लिए भारी खर्च की चपेट में आ गया। किसान पानी की सिंचाई पर भी बहुत खर्च करता है। उदाहरण के लिए, पंप में बिजली कनेक्शन जोड़ना या पंप में डीजल डालना, इन सभी चीजों का उपयोग करने से किसान की लागत बढ़ जाती है। इस वजह से किसान को उसकी मेहनत के अनुसार राशि नहीं मिलती है।

किसान के हित को ध्यान में रखते हुए, केंद्र सरकार ने पानी की सिंचाई के लिए एक नई योजना शुरू की है।वह योजना "कुसुम योजना" है  देश के वित्तीय मंत्री श्री अरुण जेटली जी ने इस योजना प्रारंभ 2019 में किया है। यह योजना सौर पंप के तहत जुड़ी हुई है। ताकि किसान को इसका लाभ मिल सके। सौर उर्जा के कई फायदे है। सौर ऊर्जा एक ऐसी ऊर्जा है जो कभी खत्म नहीं हो सकती है।सौर ऊर्जा पर्यावरण को दूषित होने से बचाती है। किसानों और खेतों के लिए सौर सिंचाई पंप बहुत मददगार साबित होगा । गांवों में बिजली की कमी और बारिश की कमी से किसानों  को हर साल करोड़ों रुपये का नुकसान उठाना पड़ता है। धूप वाले दिनों में सोलर प्लांटों से काफी बिजली पैदा हो सकती है।इसलिए सौर पंप किसान के लिए उपयोगी है।

सोलर पंप की जानकारी जानकर किसान को फायदा होगा, इसलिए इस योजना को शुरू किया गया है। किसान अपने खेतों में इलेक्ट्रिक पंप और डीजल पंप का उपयोग करते हैं, उन्हें बहुत पैसा खर्च करना पड़ता है। इस किसान के लिए कुसुम योजना सुरु की गयी, इसके द्वारा किसानो को सौर पंप की मदत की जाएँगी ताकि किसान को मदत हो सके और ज्यादा खर्चा न आये।


 कुसुम योजना के लाभ

  • खेतों में सिंचाई करने वाला सोलर पंप खेती को आसान बना देगा।
  • इस योजना के तहत, सौर ऊर्जा से कम से कम 18 लाख सिंचाई पंप चलाने की व्यवस्था की जाएगी।
  • इस योजना के तहत, बैंक किसानों को बैंक लोन के रूप में कुल व्यय का 30% प्रदान करेगा।
  • यह योजना सौर ऊर्जा के साथ-साथ कई लाभों को बढ़ावा देगी।
  • किसान को सौर ऊर्जा उपकरण लगाने के लिए केवल 10% राशि का भुगतान किया जाएगा।
  • इस योजना का लाभ सीधे किसानों के बैंक खाते में सब्सिडी के रूप में दिया जाएगा।
  • सरकार सोलर पंप की कीमत के अनुसार किसानों को सब्सिडी के रूप में 60% प्रदान करेगी।
  • इस योजना से बंजर जमीन को भी काफी लाभ मिलेंगा। 

कुसुम योजना के उद्देश्य

  • इस योजना से 28 हजार से अधिक मेगावाट बिजली का उत्पादन होंगा।  
  • इस योजना का लक्ष्य वर्ष 2022 तक लगभग सभी किसानों को सौर पंप का लाभ पहुंचाना है।
  • किसानों के लिए, इस योजना की लागत कम से कम 1.40 लाख करोड़ रुपये है और इसमें से केंद्र सरकार और राज्य सरकार इस योजना के लिए 48 हजार करोड़ रुपये का भुगतान करेगी।
  • सौर उर्जा से सिंचाई करने के साथ साथ इसके अलावा बिजली उत्पादन करके ये बिजली ग्रिड को भेजकर इसका लाभ किसान को ही मिलेंगा।  
  • सरकार किसानों की बंजर भूमि पर 10,000 मेगावाट सौर ऊर्जा संयंत्र स्थापित करेगी।

कुसुम योजना की योग्यता

  • यह योजना  देश के सभी किसानो के लिए है.
  • आवेदक के पास में आधार कार्ड होना अनिवार्य है। 
  • आवेदक का राष्ट्रीयकृत बैंक का खाता चाहिए। 

कुसुम योजना के लिए आवेदन कैसे करे

  •  इस योजना का लाभ लेने के लिए जल्द ही सरकारी वेबसाइट बनाई जाएँगी। 
  •  इस सरकारी वेबसाइट पर जाकर सभी जानकारी अच्छे से भरे और फॉर्म को जमा कर दे।  
  • आवेदन करने के लिए आपको आपके नजदीकी ऑनलाइन सेवा सेंटर में जाना होगा। 
यदि आप हमारे संदेश को पसंद करते हैं, तो आप इसे अधिक से अधिक साझा करे ताकि किसान इसका लाभ प्राप्त कर सके। यदि इस योजना के तहत कोई सुझाव या प्रश्न है, तो टिप्पणी लिखकर भेजें।

धन्यवाद।

Wednesday, April 10, 2019

खेलो इंडिया योजना की सभी जानकारी। (Khelo India Yojana ki sabhi jaankari.)

Written by  
खेलो इंडिया योजना का क्या लाभ हो सकते  है। (Khelo India Yojana ka kya laabh ho sakta.)

खेलो इंडिया योजना के आवेदन करने के लिए कौनसे दस्तावेज लगते है। (Khelo India Yojana ke aawedan karne ke liye kounse dastavej lagate hai.)


खेलो इंडिया योजना के महत्त्व और परिचय


नमस्ते दोस्तों मेरा नाम राज है। www.indiandewa.com में आप सभी का स्वागत है। आज हम इस लेख में खेलो इंडिया योजना के बारे में सभी जानेंगे। इस लेख से हमें खेल के प्रति कितना उत्साहित होना चाहिए। खेलो इंडिया योजना से खिलाड़ियों को फायदा होगा। हम योजना के उद्देश्य के बारे में सारी जानकारी जानेंगे। तो इस लेख को अंत तक पढ़े।

खेलो इंडिया योजना के महत्त्व और परिचय 

खेल यह नाम सुनते ही सभी के मन उत्साहित हो जाता है। खेल यह सभी के जीवन के लिए बहुत ही उपयोगी है। जितना महत्व पढाई को देते है उतना ही खेल को महत्व देना चाहिए। शारीरिक और मानसिक फिटनेस बनाने के लिए खेल आवश्यक है। खेल में बच्चों का भविष्य शामिल है, जिसे केवल एक अच्छा खिलाड़ी ही जान सकता है।खेल खेलने से शरीर का तनाव बढ़ने लगता है, साथ में मानसिक शांति मिलती है, बौद्धिक विकास होता है।

देश में ऐसे कई ग्रामीण क्षेत्र है जहा अच्छे से अच्छे खिलाडी है। लेकिन खिलाड़ी के जीवन में ऐसा मोड़ आता है कि उसे खेल का सही रास्ता नहीं मिलता। खिलाड़ी को कभी कभी आर्थिक परिस्थिति को देखकर खेल के प्रती हार मान लेना होता है। एक अच्छा स्तर, एक खिलाड़ी को अच्छा कोच नहीं मिलने के कारण पीछे छूट जाता है। खेल की दुनिया से आगे रहने के लिए, देश की केंद्र सरकार ने खिलाड़ी के हित में एक योजना सोच विकसित की है।


इस योजना का नाम खेलो इंडिया योजना है। इस योजना का नाम सुनते ही खिलाड़ी के चेहरे पर मुस्कान आ जाती है। खेलो इंडिया योजना से देश के खिलाड़ी को एक अच्छा और नया रास्ता देगी। इस योजना से खिलाडी के तन मन में खेल खेलने का एक अलग ही जोश आता है। देश के युवा इस योजना के तहत अपने अच्छे खेल का प्रदर्शन करेंगे ताकि उन्हें उनकी योग्यता के आधार पर चुना जा सके। यह योजना खिलाड़ी को अच्छे स्तर पर जाने का कदम देगी।

खेलो इंडिया योजना का मुख्य उद्देश्य उन्हें खेल के प्रति जागरूक करना और युवाओं को खेल के महत्व को समझाना है। अगर अच्छे खिलाड़ी की वित्तीय स्थिति ठीक नहीं है तो खेल आगे नहीं बढ़ता है, तो खिलाड़ी को इस योजना के तहत मदद मिलेगी।
         
                                                     जीत के खातिर बस जूनून चाहिए 
                                                     ऐसा उबाल हो ऐसा खून चाहिए। 
                                                    यह आसमान भी आयेंगा जमीन पर ,
                                                    बस इरादों में जीत की गूंज चाहिए। 


"खेलो इंडिया योजना" योग्यता  

  • इस योजना में हिस्सा लेने वाले खिलाड़ी की उम्र 10 साल से 18 साल होनी चाहिए। 
  • खिलाडी भारत का रहिवाशी होना अनिवार्य है। 
  • आवेदक को खेल में रुचि होनी चाहिए।
  • इस योजना का लाभ खिलाड़ी को अपने कौशल के माध्यम से ही मिलेगा।

"खेलो इंडिया योजना" के लाभ 

  • इस योजना के तहत, प्रति वर्ष 1,000 छात्रों को उनके कौशल पर चुना जाएगा।
  • यह योजना गरीब खिलाड़ी को प्रोत्साहित करेगी।
  • इस योजना के तहत, खिलाड़ी अपने खेल के साथ-साथ अपनी पढ़ाई जारी रख सकेंगे। 
  • "खेलो इंडिया योजना" के तहत, खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करने के लिए खेल के मैदान बनाने के लिए मिलेंगे।
  • चयनित खिलाड़ी को 8 साल के लिए 5 लाख रुपये छात्रवृत्ति दी जाएगी।
  • योजना में 20 करोड़ प्रतिभागियों को राष्ट्रीय शारीरिक स्वास्थ्य अभियान जोड़ा जाएगा। 
  • इस योजना के तहत, अच्छे खिलाड़ी खेल की दुनिया में एक अच्छा करियर बनाएंगे।
 

"खेलो इंडिया योजना" में सामिल होने वाले खेल 

इस योजना के लिए आवेदन करने वाले खिलाडी को पता होना की कौन से खेल सामिल हुए है। इस योजना में 16 खेलो को सामिल किया गया है। निम्नलिखित दिए गये खेल है 
  • बॉक्सिंग। 
  • बास्केटबॉल। 
  • बैडमिंटन। 
  • कबडडी। 
  • खो-खो। 
  • जुडो। 
  • हॉकी। 
  • निशानेबाजी। 
  • स्विमिंग। 
  • वॉलीबॉल। 
  • कुश्ती। 
  • जिमनास्टिक। 
  • तीरंदाजी। 
  • एथेलेटिक्स। 
  • फुटबॉल। 
  • वेटलिफ्टिंग। 

"खेलो इंडिया योजना" के लिए आवेदन करने का तरीका 

  • खिलाडी को सरकारी वेबसाइट पर जाकर क्लीक करना होंगा। यहाँ क्लिक करे। 
  • इस लिंक में जाकर पंजीकरण करना होंगा।
  • फिर इस तरह फॉर्म को भरे 👇
 
  • खेलो इंडिया योजना के महत्त्व और परिचय
  • इस फॉर्म को ध्यान पूर्वक भरे। 
  • फॉर्म को भरने के बाद में जमा कर दे। 
  • इस फॉर्म की प्रिंट निकालकर रखे। 
 अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी तो इस लेख को ज्यादा से ज्यादा शेयर करे और कोई सुझाव और सलाह के लिए कमेंट करे। 

धन्यवाद।